1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. bengal vidhan sabha election 2021 latest news bharatiya janata party make plan tmc mamata banerjee cm candidate fight who is the cm face of west bengal bjp avh

BJP से कौन है बंगाल का सीएम फेस? क्यों ममता के खिलाफ पीएम मोदी को ही चेहरा बनाने की रणनीति खेल रही पार्टी

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
BJP से कौन है बंगाल का सीएम फेस? क्यों ममता के खिलाफ मोदी को ही चेहरा बनाने की रणनीति खेल रही पार्टी
BJP से कौन है बंगाल का सीएम फेस? क्यों ममता के खिलाफ मोदी को ही चेहरा बनाने की रणनीति खेल रही पार्टी
File Photo

Bengal Election 2021 : बंगाल चुनाव में पहले चरण के लिए नामांकन शुरू हो गया है. ऐसे में बीजेपी और तृणमूल के बीच सियासी भिड़ंत जारी है. अब बीजेपी खेमे की ओर से नया खुलासा हुआ है. बताया जा रहा है कि इस बार विधानसभा चुनाव में बीजेपी ममता बनर्जी के सामने सीएम का कैंडिडेट घोषित नहीं करेगी.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक बीजेपी ने ममता बनर्जी के मुकाबले चुनाव लड़ने के लिए विशेष रणनीति बनाई है. पार्टी बंगाल में चुनाव से पहले सीएम कैंडिडेट की घोषणा नहीं करेगी. बताया जा रहा है कि पार्टी में अधिक सीएम पद के लिए दावेदार होने की वजह से यह फैसला किया है. वहीं बीजेपी की ओर से सीएम कैंडिडेट घोषणा नहीं करने को लेकर तृणमूल कांग्रेस के नेता कई बार सवाल उठा चुकी है. वहीं आज पीके ने भी सीएम पद को लेकर बीजेपी के ऊपर निशाना साधा है.

सुभेंदु अधिकारी- मीडिया रिपोर्ट के अनुसार बीजेपी में सीएम पद कैंडिडेट के सभी दवेदार सुभेंदु अधिकारी हैं. अधिकरी कुछ महीने पहले ही तृणमूल छोड़कर बीजेपी में आए हैं. अधिकारी को कई बार गृह मंत्री अमित शाह भी मंच से बीजेपी में जोश भरने वाले नेता बता चुके हैं.

दिलीप घोष- दिलीप घोष बीजेपी बंगाल के अध्यक्ष हैं. घोष वर्तमान में मेदिनीपुर सीट से सांसद है. बतायाा जा रहा है कि अगर बीजेपी सरकार में आती है तो दिलीप घोष को सएम बना सकती है. बीजेपी ने जब फायरब्रांड नेता कैलाश विजयवर्गीय को बंगाल चुनाव का प्रभारी बनाया तो सबसे पहले दिलीप घोष का ही पदोन्नति हुई और वे अध्यक्ष बनाए गए थे.

मुकुल रॉय- पूर्व केंद्रीय मंत्री मुकुल रॉय का नाम भी सीएम उम्मीदवारों‍ की सूची में सबसे आगे है. मुकुल रॉय एक वक्त में ममता बनर्जी के सबसे करीबी नेताओं में शुमार थे, लेकिन शारधा चिटफंड में नाम आने के कारण तृणमूल ने उनसे किनारा कर लिया, जिसके बाद वे बीजेपी में शामिल हो गए.

Posted by : Avinish kumar mishra

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें