1. home Home
  2. state
  3. up
  4. aligarh
  5. platform innovent in amu to remove dust from solar panels in uttar pradesh avi

छतों पर लगे सोलर पैनल से अब आसानी से हटेगी धूल-गंदगी, AMU के छात्रों ने बनाया 'प्लेटफार्म'

मोहम्मद तारिक ने बताया कि सौर पीवी पैनल की स्वचालित सफाई प्रणाली उन स्थानों के लिए डिज़ाइन की गई है, जहां चारों ओर धुंध, धूल, गंदगी और रेत उड़ती है तथा ये प्रणाली सिस्टम पैनल पर सभी गंदगी को हटाने में सफल है

By Prabhat Khabar Digital Desk, Aligarh
Updated Date
एएमयू में बने सोलर पैनल की सफाई के लिए बना प्लेटफार्म
एएमयू में बने सोलर पैनल की सफाई के लिए बना प्लेटफार्म
प्रभात खबर

Aligarh News: छत पर लगे सोलर पैनल पर धूल, गंदगी आने से होने वाली परेशानियों से अब निजात मिलेगी. अलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय के जाकिर हुसैन कालेज आफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलाजी के इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग में सोलर पैनल पर से धूल, गंदगी साफ करने के लिए एक प्लेटफार्म का अविष्कार हुआ है, जिसे पेटेंट करा लिया गया है.

एएमयू के जाकिर हुसैन कालेज आफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलाजी के इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग के डा मोहम्मद तारिक ने बताया कि सौर पीवी पैनल की स्वचालित सफाई प्रणाली उन स्थानों के लिए डिज़ाइन की गई है, जहां चारों ओर धुंध, धूल, गंदगी और रेत उड़ती है तथा ये प्रणाली सिस्टम पैनल पर सभी गंदगी को हटाने में सफल है, जिससे अधिक कुशल और विश्वसनीय आउटपुट प्राप्त होता है.

आईओटी आधारित आटोमेटेड मूवेबल प्लेटफार्म के साथ सन ट्रैकिंग मैकेनिज्म न केवल ऊर्जा कैप्चर की क्षमता को बढ़ाएगा बल्कि अधिकतम बिजली उत्पादन के लिए आईओटी-आधारित स्वचालित मूवेबल प्लेटफार्म के साथ समग्र बिजली उत्पादन प्रक्रिया की दक्षता को भी बढ़ावा देगा. इस अविष्कार से सौर पैनलों की सफाई के लिए अतिरिक्त जनशक्ति या रोबोट सिस्टम के उपयोग को कम करके सौर पीवी पैनल की स्वचालित सफाई प्रणाली से परिचालन लागत में भी कमी आएगी.

सोलर पीवी पैनल और प्लेटफार्म को कराया पेटेंट- एएमयू के जाकिर हुसैन कालेज आफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलाजी के इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग के इनोवेशन, ‘एन आटोमेटेड क्लीनिंग सिस्टम आफ द सोलर पीवी पैनल‘ और ‘सन ट्रैकिंग मेकानिज्म विद एन इंटरनेट आफ थिंग्स (आईओटी) बेस्ड आटोमेटेड मूवेबल प्लेटफार्म’ को हाल ही में पेटेंट आफिस, कामनवेल्थ आफ आस्ट्रेलिया द्वारा पेटेंट कराया गया है.

इन्होंने किया यह अविष्कार- यह अविष्कार डा मोहम्मद तारिक ने अपनी छात्रा अलीना नाज़, जो इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में बी.ई पूरा करने के बाद अपना अंतिम वर्ष का प्रोजेक्ट कर रही हैं, तथा रिसर्च इंटर्न प्रोग्रामर, मोहम्मद आज़म के साथ मिलकर किया है.

रिपोर्ट : चमन शर्मा

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें