17.1 C
Ranchi
Monday, March 4, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

अब झारखंड में चार साल का होगा BED, सत्र 2024-25 से दो वर्षीय कोर्स बंद

एनसीटीइ के निर्देश के आलोक में ही सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय ने भी अधिसूचना जारी कर दी है. इसमें कहा गया है कि एनसीटीइ ने दो वर्षीय बीएड कोर्स (स्पेशल एजुकेशन) बंद करने का फैसला लिया है.

रांची : नये शैक्षणिक सत्र से बीएड चार साल का होगा. क्योंकि, शैक्षणिक सत्र 2024-25 से दो वर्षीय बीएड कोर्स बंद कर दिया गया है. नेशनल काउंसिल फॉर टीचर्स एजुकेशन (एनसीटीइ) ने नोटिस जारी कर कहा है कि सत्र 2024-25 से दो वर्षीय बीएड कोर्स की मंजूरी नहीं दी जायेगी. ऐसा नयी शिक्षा नीति लागू होने के कारण किया गया है. वहीं, चार वर्षीय बीएड कोर्स में बीए-बीएड, बीएससी-बीएड तथा बीकॉम-बीएड का नाम भी बदल दिया गया है. अब इसका नाम इंटीग्रेटेड टीचर्स एजुकेशन प्रोग्राम (आइटीइपी) रखा गया है.

एनसीटीइ के निर्देश के आलोक में ही सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय ने भी अधिसूचना जारी कर दी है. इसमें कहा गया है कि एनसीटीइ ने दो वर्षीय बीएड कोर्स (स्पेशल एजुकेशन) बंद करने का फैसला लिया है. सत्र 2024-25 से दो वर्षीय कोर्स चलाने के लिए नयी मंजूरी नहीं देने का फैसला किया है. चार वर्षीय कोर्स चलाने के लिए एनसीटीइ नया प्रशिक्षण कार्यक्रम तैयार कर रहा है, जो प्रक्रियाधीन है. जो भी संस्थान/कॉलेज/विवि चार वर्षीय बीएड कोर्स चलाने की इच्छा रखते हैं, वे एनसीटीइ द्वारा ऑनलाइन पोर्टल खोलने के बाद अगले शैक्षणिक सत्र के लिए नये सिरे से आवेदन कर सकते हैं. इस कोर्स में इंटरमीडिएट उत्तीर्ण विद्यार्थी नामांकन ले सकेंगे.

Also Read: झारखंड के एक स्कूल में चार साल बाद खुला ताला, डीसी के निर्देश का दिखा असर, पढ़ें पूरी खबर
NTA से नामांकन लेने की संभावना

बीएड कोर्स में अब नामांकन नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) के माध्यम से लेने पर विचार हो रहा है. यह परीक्षा कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट (सीबीटी) मोड पर ली जायेगी. इसके लिए शीघ्र ही अधिसूचना जारी की जायेगी.

झारखंड में 136 बीएड कॉलेज हैं

झारखंड में कुल 136 अंगीभूत, संबद्ध तथा प्राइवेट कॉलेज में बीएड की पढ़ाई होती है. जहां दो वर्षीय बीएड कोर्स चल रहे हैं. यहां झारखंड संयुक्त प्रवेश प्रतियोगिता परीक्षा पर्षद द्वारा नामांकन लिया जाता है. झारखंड में केंद्रीय विवि में चार वर्षीय बीएड कोर्स चल रहे हैं.

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें