1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. chatra
  5. jharkhand news itkhori mahotsav begins in chatra with damru and shankhanad hemant government attempt to make famous tourist destination smj

डमरू और शंखनाद के बीच चतरा में इटखोरी महोत्सव की शुरुआत, हेमंत सरकार की प्रसिद्ध पर्यटन स्थल बनाने की कोशिश

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand news : डमरू और शंखनाद के साथ 3 दिवसीय इटखोरी महोत्सव की हुई शुरुआत.
Jharkhand news : डमरू और शंखनाद के साथ 3 दिवसीय इटखोरी महोत्सव की हुई शुरुआत.
प्रभात खबर.

Jharkhand News, Chatra News, इटखोरी (चतरा) : कोरोना काल के बीच शुक्रवार (19 फरवरी, 2021) से 3 दिवसीय राजकीय इटखोरी महोत्सव की शुरुआत हुई. महोत्सव की शुरुआत गायक विपीन मिश्रा के डमरू और शंखनाद से हुआ. इस महोत्सव का उदघाटन कृषि मंत्री बादल पत्रलेख, श्रम प्रशिक्षण एवं नियोजन मंत्री सत्यानंद भोक्ता, सांसद सुनील सिंह, डीसी दिव्यांशु झा व विधायक किशुन दास ने दीप प्रज्वलित कर किया. 19 फरवरी से शुरू हुआ इटखोरी महोत्सव आगामी 21 फरवरी तक चलेगा.

3 दिवसीय इटखोरी महोत्सव की शुरुआत शुक्रवार (19 फरवरी, 2021) को हुई. कोरोना काल के बीच शुरू हुई इटखोरी महोत्सव के कार्यक्रम को छोटा रखा गया. उद्घाटन समारोह में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के नहीं आ पाने की स्थिति में झारखंड के कृषि बादल पत्रलेख ने उनके भेजे संदेश को पढ़कर सुनाया. सीएम श्री सोरेन ने अपने संदेश में कहा कि कोरोना के कारण महोत्सव का स्वरूप छोटा किया गया है. यह शृंखला टूटे नहीं इसलिए सादगी रूप से मनाने का फैसला लिया गया. इटखोरी अद्भुत स्थल है. वर्तमान सरकार इसके विकास के लिए कृतसंकल्प है.

Jharkhand news : 3 दिवसीय इटखोरी महोत्सव की शुरुआत करते मंत्री बादल पत्रलेख, सत्यानंद भोक्ता व अन्य.
Jharkhand news : 3 दिवसीय इटखोरी महोत्सव की शुरुआत करते मंत्री बादल पत्रलेख, सत्यानंद भोक्ता व अन्य.
प्रभात खबर.

वहीं, चतरा के इटखोरी महाेत्सव के उद्घाटन मौके पर झारखंड के कृषि मंत्री बादल पत्रलेख ने कहा कि इटखोरी दुनिया के प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में शुमार होगा. उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण के कारण इस साल कार्यक्रम को छोटा किया गया है, लेकिन अगले साल इसे वृहद रूप से मनाया जायेगा. उन्होंने कहा कि इटखोरी धार्मिक आस्था का त्रिवेणी है. यहां पर्यटन का विकास अनवरत जारी रहेगा. मंदिर का विकास करना सरकार की प्राथमिकता है. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन भी इसके विकास को लेकर सजग हैं.

दूसरी ओर, श्रम नियोजन मंत्री सत्यानंद भोक्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री के निर्देश पर सादगी रूप से महोत्सव की शुरुआत की गयी है. अगले साल यह पूर्व की तरह ही वृहद होगा. महोत्सव की कड़ी कभी नहीं टूटेगा. वहीं, सांसद सुनील कुमार सिंह ने कहा कि महोत्सव की शुरुआत वर्ष 2015 में हुई थी और यह भविष्य में भी जारी रहेगा. यह आयोजन राज्य के सांस्कृतिक एकता को जोड़ने का माध्यम है. सरकार आयेगी और जायेगी, लेकिन आस्था नहीं टूटेगी. यह अनवरत चलने वाला महोत्सव है. उन्होंने कहा कि भक्ति तो हृदय से होती है.

डीसी दिव्यांशु झा ने कहा कि भक्ति भाव से किया गया हर कार्य सफल होता है. वहीं, विधायक किशुन कुमार दास ने कहा कि कोरोना महामारी के बीच राजकीय महोत्सव का आयोजन गर्व की बात है. माता की कृपा से जल्द कोरोना जैसी महामारी पर भी काबू पा लिया जायेगा.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें