15.1 C
Ranchi
Saturday, February 24, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

Homeबिहारपटनाराजनीति में दरवाजे कभी बंद नहीं होते, बिहार में सियासी घमासान पर बोले पूर्व डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद

राजनीति में दरवाजे कभी बंद नहीं होते, बिहार में सियासी घमासान पर बोले पूर्व डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद

बिहार के मौजूदा राजनीतिक हालात पर तारकिशोर प्रसाद ने कहा कि राजनीति में दरवाजे कभी बंद नहीं होते हैं. पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व वही फैसला लेगा जो बिहार के हित में होगा.

बिहार के सियासी गलियारे में चल रही हलचल से ऐसा अनुमान किया जा रहा है कि कोई बड़ा बदलाव हो सकता है. नीतीश कुमार एक बार फिर से एनडीए का हिस्सा बन सकते हैं. इस संदर्भ में सभी दलों ने अपनी-अपनी तैयारी भी शुरू कर दी है. गुरुवार को लगभग सभी दलों ने बैठक की. भाजपा के शीर्ष नेतृत्व के बुलावे पर प्रदेश अध्यक्ष सम्राट चौधरी समेत बिहा भाजपा के का बड़े नेता दिल्ली पहुंचे, जहां पहले बिहार प्रभारी विनोद तावड़े और गृह मंत्री अमित शाह के आवास पर बैठक हुई. अब इस मास पर बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम और भाजपा नेता तरकिशोर प्रसाद ने भी प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा कि राजनीति में दरवाजे कभी बंद नहीं होते हैं, केंद्रीय नेतृत्व फैसला करेगा.

राजनीति में दरवाजे कभी बंद नहीं होते : तारकिशोर

बिहार के मौजूदा राजनीतिक हालात पर तारकिशोर प्रसाद ने कहा कि कल बिहार बीजेपी के कुछ नेताओं को बैठक के लिए बुलाया गया था जहां लोकसभा चुनाव पर चर्चा हुई. बैठक में बिहार में कैसे बेहतर प्रदर्शन किया जाए इस पर चर्चा हुई. बीजेपी बिहार की बेहतरी और देश के विकास के लिए फैसले लेती है. उन्होंने आगे कहा कि राजनीति में दरवाजे कभी बंद नहीं होते हैं. पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व वही फैसला लेगा जो बिहार के हित में होगा.

बिहार के हित में फैसला करेगी केंद्रीय नेतृत्व

तारकिशोर प्रसाद ने कहा कि बिहार आज भी अपराध, भ्रष्टाचार और भाई-भतीजावाद के चंगुल में फंसा हुआ है. बिहार को इससे निजात दिलाने के लिए जो भी बेहतर कदम उठाया जा सकता है, उस पर केंद्रीय नेतृत्व फैसला ले सकता है. उन्होंने राजद पर हमला बोलते हुए कहा कि महागठबंधन की सरकार बनने के बाद एक बार फिर से राज्य में अपराध की घटनाएं बढ़ गयीं. विपक्ष होने के नाते हमारी जिम्मेदारी है कि हम इन सब चीजों को रोकें. इसके लिए जो सबसे बेहतर कदम होगा उसके आधार पर फैसला लिया जाएगा.

Also Read: बिहार में गठबंधन पर सुशील मोदी का बड़ा बयान, बोले- तैयार नहीं कार्यकर्ता, पर दिल्ली जो लेगा फैसला वह स्वीकार

केंद्रीय नेतृत्व फैसला करेगी : सुशील मोदी

इसके पहले भाजपा के राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी ने कहा कि बिहार में नीतीश कुमार के साथ जाने का फैसला केंद्रीय नेतृत्व को करना है. अगर नेतृत्व ऐसा फैसला लेता है, तो हम भी उसका निर्णय मानने को बाध्य होंगे.

Also Read: बिहार की सियासत: अमित शाह के घर बिहार भाजपा की बैठक खत्म, जीतनराम मांझी से मिलने पहुंचे नित्यानंद राय

दो से तीन दिनों में भाजपा की तरफ आ जायेंगे मुख्यमंत्री : ज्ञानेंद्र सिंह ज्ञानु

इधर, भाजपा विधायक ज्ञानेंद्र सिंह ज्ञानू ने दावा किया कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार दो से तीन दिन में भाजपा के साथ आ जायेंगे. ज्ञानू ने कहा, ये बात कोई नयी बात नहीं है. बहुत पहले से बात चल रही थी. जब से राजद नेता जदयू को तोड़कर सरकार बनाने की कोशिश कर रहे थे, तभी से उन्होंने भाजपा में आने का मन बना लिया था. कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की विचारधारा भाजपा से मेल खाती है. भाजपा-जदयू का गठबंधन प्राकृतिक था. अब तो बातचीत बहुत एडवांस स्टेज में पहुंच गयी है. श्री सिंह ने कहा कि अगर नीतीश कुमार भाजपा के साथ आ जाते हैं तो आगामी लोकसभा चुनाव में हम लोग बिहार में 40 की 40 सीटें जीतेंगे.

Also Read: VIDEO: बिहार की राजनीति में क्या चल रहा है? जानिए RJD, JDU और BJP में क्या है ताजा हलचल..

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें