1. home Home
  2. state
  3. bihar
  4. patna
  5. politics intensifies in bihar sanha has been filed against kangana in patna for her controversial statement rdy

Bihar News: बिहार में सियासत तेज, विवादित बयान को लेकर कंगना पर पटना में सनहा दर्ज

Bihar News कंगना रनौत ने कहा है कि 1947 की आजादी भीख वाली आजादी है. वास्तविक आजादी तो 2014 में मिली है. इसके पहले राजद नेता शिवानंद तिवारी ने भी कंगना के बयान की आलोचना की थी.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
बिहार में सियासत तेज, विवादित बयान को लेकर कंगना पर पटना में सनहा दर्ज
बिहार में सियासत तेज, विवादित बयान को लेकर कंगना पर पटना में सनहा दर्ज
instagram

पटना. श्रीकृष्णापुरी थाने में एक्ट्रेस कंगना राणावत के खिलाफ में विवादित बयान देने के आरोप में श्रीकृष्णापुरी थाने सनहा दर्ज कराया है. मामला दरभंगा के जाले के पूर्व विधायक ऋषि मिश्रा, युवा बिहार के पूर्व अध्यक्ष ललन कुमार, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्य शंकर स्वरूप पासवान, कांग्रेस कमेटी के पूर्व महासचिव आसिफ गफूर, राकेश कुमार व शाश्वत केदार पांडेय की दी गयी लिखित शिकायत के आधार पर दर्ज किया गया. शिकायत में नेताओं ने बताया कि विगत दिनों एक्ट्रेस कंगना राणावत ने मीडिया सम्मेलन में देश को लेकर विवादित बयान दिया था. इसमें उन्होंने कहा था कि 1947 में जो भारत को आजादी मिली थी, वह महज भीख थी और देश को असल आजादी 2014 के बाद मिली. इधर, श्रीकृष्णापुरी थानाध्यक्ष एस के सिंह ने सनहा दर्ज किये जाने की पुष्टि की.

कंगना से पद्म पुरस्कार वापस ले केंद्र : उपेंद्र

जदयू संसदीय बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने केंद्र सरकार से कहा है कि वह फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत से पद्म पुरस्कार वापस ले. उन्होंने शनिवार को कहा कि कंगना को पद्म पुरस्कार देने की बड़ी भूल हुई है. केंद्र सरकार को इसे वापस ले लेना चाहिए. कंगना रनौत को लेकर जदयू का यह पहला बयान आया है. कंगना रनौत ने कहा है कि 1947 की आजादी भीख वाली आजादी है. वास्तविक आजादी तो 2014 में मिली है. इसके पहले राजद नेता शिवानंद तिवारी ने भी कंगना के बयान की आलोचना की थी.

कंगना के बयान से तेज प्रताप यादव नाराज

अभिनेत्री कंगना रनोट के देश की आजादी से जुड़े विवादित बयान को लेकर पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव ने नाराजगी प्रकट की है. तेज प्रताप यादव ने ट्वीट कर लिखा है कि जब कुछ लोग अंग्रेजों से माफी मांग रहे थे, तो देश के वीर फांसी का फंदा चूम रहे थे. यह कह कर कि देश को आजादी 2014 के बाद मिली है देश की खातिर शहीद हुए स्वतंत्रता सेनानियों को तो अपमानित ना करें. अगर वे देश की खातिर बलिदान न देते, तो आज भी किसी अंग्रेज के घर में जूते-चप्पल साफ कर रहे होते.

कंगना का बयान शर्मनाक, हो कार्रवाई : चिराग

चिराग ने आजादी को लेकर कंगना के बयान को शर्मनाक बताते हुए कहा कि यह उन बहादुर स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान है, जिन्होंने आजादी की लड़ाई में अपना सर्वस्व बलिदान किया. अभिव्यक्ति की आजादी का मतलब यह नहीं कि देश विरोधी ताकतों की आवाज बन जाएं. ऐसे लोगों पर कार्रवाई होनी चाहिए. उन्होंने जिन्ना और हिंदुत्व से जुड़े मसलों पर कहा कि मुख्य मुद्दों से लोगों का ध्यान हटाने के लिए यह नैरेटिव गढ़ा गया है.

Posted by: Radheshyam Kushwaha

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें