1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. patna
  5. chirag paswan who reached patna targeted the modi government asj

मुझे बंगले में रहना होता तो संघर्ष की राह नहीं चुनता, पटना पहुंचे चिराग पासवान ने साधा केंद्र पर निशाना

लोजपा(रामविलास) के अध्यक्ष और जमुई के सांसद चिराग पासवान ने कहा है कि मुझे बंगले में रहना होता तो संघर्ष का रास्ता नहीं चुनता. मुझे बंगला तो खाली करना ही था, लेकिन सरकार ने घर खाली कराने का जो तरीका अपनाया वो गलत है. मेरे पिता जी की तस्वीरों को रास्ते पर फेंक दिया गया, जो दुखद है.

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
चिराग पासवान
चिराग पासवान
सोशल मीडिया

पटना. लोजपा(रामविलास) के अध्यक्ष और जमुई के सांसद चिराग पासवान ने कहा है कि मुझे बंगले में रहना होता तो संघर्ष का रास्ता नहीं चुनता. मुझे बंगला तो खाली करना ही था, लेकिन सरकार ने घर खाली कराने का जो तरीका अपनाया वो गलत है. मेरे पिता जी की तस्वीरों को रास्ते पर फेंक दिया गया, जो दुखद है.

पटना पहुंचे चिराग

दिल्ली से पटना लौटे चिराग पासवान का पटना एयरपोर्ट पर समर्थकों ने जोरदार स्वागत किया. इस दौरान मीडिया से बात करते हुए चिराग पासवान ने कहा कि मुझे अपनी या बंगले की चिंता नहीं है. मुझे उनकी चिंता है जो दूसरे प्रदेशों में जा कर जो झुग्गी झोपड़ियों में रह रहे, मुझे उनकी चिंता है जो बिहार में ही रहकर प्रवासी कहलाते हैं. मुझे संघर्ष की शिक्षा अपने पिता से मिली है.

मैं चिराग हूं,रोशनी फैलाता हूं

उन्होंने कहा कि मैं चिराग हूं, मेरा कोई ठिकाना नहीं है. मैं हर जगह रोशनी फैलाता हूं. मैंने संघर्ष का रास्ता चुना है. चिराग ने कहा कि मैंने जब अकेले चुनाव लड़ने का फैसला किया, तभी पता था कि आगे बहुत सी कठिनाइयां सामने आयेगी, लेकिन मुझे सिर्फ इस बात का दुख है कि जिस तरीके से मुझे घर छोड़ना पड़ा, उस तरीके पर मुझे थोड़ी आपत्ति जरूर है.

मैंने कभी मोहलत नहीं मांगी

मेरे पिताजी के समय से ही उनके साथ काम करने वाले करीब 100 लोग यहां रहते हैं. वहां कई लोगों का आश्रय था. मैं आजीवन 12 जनपथ में रहने के लिए नहीं कहा था. मैंने कभी मोहलत नहीं मांगी, फिर भी एक बड़े मंत्री ने मुझे बुलाया गया, मुझे आश्वासन दिया. वादा किया गया कि घर के लिए निश्चिन्त रहिये.

मेरी लड़ाई बिहार पर राज करने के लिए नहीं है.

चिराग पासवान ने कहा कि मेरी लड़ाई बिहार पर राज करने की नहीं है, बल्कि बिहार पर नाज़ करने की है. मुझे बंगला और मंत्रालय का लालच नहीं है, अगर होता तो मैं उन शक्तियों के सामने नतमस्तक हो जाता और सारी सुख सुविधाएं भोगता. मैं अपने सिद्धांतों को नहीं छोड़ा. मुझे व्यक्तिगत तौर पर बड़ी-बड़ी शक्तियों ने बहुत लालच दिया, लेकिन मैं 21 सदी का पढ़ा-लिखा नौजवान हूं. मेरे पास अभी बहुत समय है, मैं लंबी लड़ाई लड़ने को तैयार हूं.

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें