1. home Home
  2. state
  3. bihar
  4. patna
  5. 186 girl students of bihar included in single girl child scholarship rdy

Bihar News: बिहार की 186 छात्राएं सिंगल गर्ल चाइल्ड स्कॉलरशिप में शामिल, चयनित छात्राओं की लिस्ट जारी

देश भर से 1367 छात्राएं चयनित हुई हैं. इसमें बिहार से 186 छात्राएं शामिल हैं. ये छात्राएं बोर्ड द्वारा घोषित सिंगल गर्ल चाइल्ड छात्रवृत्ति में शामिल होंगी.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
बिहार की 186 छात्राएं सिंगल गर्ल चाइल्ड स्कॉलरशिप में शामिल
बिहार की 186 छात्राएं सिंगल गर्ल चाइल्ड स्कॉलरशिप में शामिल
Twitter

Bihar News: पटना सीबीएसइ ने सत्र 2020 के सिंगल गर्ल चाइल्ड के लिए चयनित छात्राओं की लिस्ट जारी कर दी है. इस सूची में 2020 में 10वीं बोर्ड पास छात्राओं के नाम हैं. इस छात्रवृत्ति के लिए देश भर से 1367 छात्राएं चयनित हुई हैं. इसमें बिहार से 186 छात्राएं शामिल हैं. ये छात्राएं बोर्ड द्वारा घोषित सिंगल गर्ल चाइल्ड छात्रवृत्ति में शामिल होंगी. पहली बार ऐसा हुआ जब बिहार की एक साथ 186 छात्राएं इस छात्रवृत्ति के लिए चयनित हुई हैं. अब इन छात्राओं को आगे पढ़ने के लिए सीबीएसइ द्वारा छात्रवृत्ति दी जायेगी.

हर साल बोर्ड द्वारा सिंगल गर्ल चाइल्ड छात्रवृत्ति की घोषणा की जाती है. इसमें 11वीं और 12वीं कक्षा में पढ़ने के लिए छात्रवृत्ति मिलती है. छात्रवृत्ति में वहीं छात्रा शामिल हो सकती है, जो अपने माता-पिता की इकलौती संतान होती है. इस बार बोर्ड ने दो बार इस छात्रवृत्ति के लिए छात्राओं के नाम की घोषणा की है. यह छात्रवृत्ति 2020 सत्र में जो छात्राएं दसवीं बोर्ड उत्तीर्ण की है, उनके लिए है. छात्राओं को एक साल के लिए छात्रवृत्ति दी जाती है. इसके बाद छात्रवृत्ति को रिन्युअल किया जाता है.

सीबीएसइ ने बनाया नया पेमेंट सिस्टम, बचेगा समय

पटना. सीबीएसइ ने इंटीग्रेटेड पेमेंट सिस्टम के माध्यम से विभिन्न भुगतानों के प्रबंधन और वितरण के लिए एक सिस्टम तैयार किया है. इसके माध्यम से पेमेंट करने में समय की भी बचत होगी और साथ ही इसमें गलतियों की संभावनाएं न के बराबर होंगी. सीबीएसइ से संबद्ध स्कूलों और सीटीइटी भर्ती परीक्षा जैसे प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए सार्वजनिक परीक्षा आयोजित करने की जिम्मेदारी सीबीएसइ बोर्ड के पास है.

इसी को देखते हुए नया सिस्टम लागू किया गया है. यह इंटीग्रेटेड पेमेंट सिस्टम ऑटोमैटिक कैलकुलेशन करेगा. इससे इंस्पेक्शन रिर्पोट के जमा होने के बाद आइपीएस डायरेक्ट बैंक ट्रांसफर की अनुमति देगा. यह सिस्टम सेल्फ डिक्लेरेशन और सर्टिफिकेशन पर काम करेगा. साथ ही ऑटोमैटिक वैलीडेशन चेक भी करेगा. यह सिस्टम एफिलिएशन, इंस्पेक्शन पेमेंट, बोर्ड और सीटीइटी परीक्षाओं के ड्यूटी पेमेंट के लिए शुरू कर दिया गया है.

Posted by: Radheshyam kushwaha

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें