1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. munger
  5. fear of flood in ganga many villages near diara submerged water entered into chandika places womb asj

गंगा में उफान की आशंका, दियारा से सटे कई गांव डूबे, चंडिका स्थान के गर्भ गृह में घुसा पानी

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
बाढ़ग्रस्त गांव
बाढ़ग्रस्त गांव
प्रभात खबर

मुंगेर : गंगा में मामूली गिरावट मंगलवार को दर्ज किया गया है, लेकिन आज से पुन: गंगा का जलस्तर बढ़ने लगेगा. संभावना जतायी जा रही है कि इस बार गंगा का जलस्तर डेंजर लेवल के करीब अथवा डेंजर लेवल पार कर जायेगा. जिसके बाद मुंगेर में भीषण बाढ़ की स्थिति उत्पन्न हो जायेगी और जान-माल की क्षति भी संभव है. हालांकि गंगा के जलस्तर में कमी के बावजूद बाढ़ ने तबाही मचानी शुरू कर दी है. जिसके कारण बड़े पैमाने पर लोगों का पलायन शुरू हो गया है. मंगलवार को गंगा के जलस्तर में मामूली कमी हुई है.

खतरे के निशान से थोड़ा नीचे है जलस्तर

सोमवार को गंगा का जलस्तर 38.69 पर स्थिर हुआ था. मंगलवार की शाम 5 बजे गंगा का जलस्तर 38.63 पर था. जिसमें चार से पांच घंटे में मात्र एक सेंटीमीटर पानी की कमी होने का रिकॉर्ड दर्ज किया गया. लेकिन इस खबर से मुंगेर के लोगों को राहत मिलने वाला नहीं है. क्योंकि बुधवार से पुन: गंगा के जलस्तर में वृद्धि होगा. केंद्रीय जल आयोग के अनुसार गंगा के जलस्तर में भले ही मंगलवार को मामूली गिरावट हुआ है. लेकिन बाढ़ की विभीषिका कमने वाली नहीं है. क्योंकि उत्तर प्रदेश के इलाहाबद में जलस्तर का दबाव काफी बढ़ता जा रहा है. जो बक्सर तक पहुंच गया है. पटना में भी गंगा का जलस्तर बढ़ता जा रहा है. मंगलवार की रात अथवा बुधवार की अहले सुबह से मुंगेर गंगा के जलस्तर में तेजी से वृद्धि होने की संभावना है. इस बार गंगा का जलस्तर मुंगेर जिला के डेंजर लेवल 39.33 के करीब अथवा उसे पार कर जायेगा. जो भीषण बाढ़ का संकेत दे रहा है और लोगों के लिए मुश्किल भरा हो सकता है.

दियारा समेत तटवर्ती गांवों में बाढ़ मचा रहा तांडव

जिले में गंगा उफान पर है और दियारा समेत गंगा के तटवर्ती गांवों में यह तांडव मचा रही है. दियारा के गांवों में हर ओर तबाही का मंजर अभी से ही साफ दिखाई दे रहा है. लोगों का घर से निकलने के सारे रास्ते बंद हो गये हैं. तो कई गांवों के लोग अपने जरूरी सामान और मवेशियों को लेकर सुरक्षित स्थान की ओर पलायन कर रहे हैं. जिसमें महिला और बच्चों की संख्या काफी है. वर्तमान में जो भी लोग दियारा क्षेत्र सें पलायन कर रहे हैं वे किराया पर नाव ले रहे हैं. क्योंकि अभी तक प्रशासनिक स्तर पर नाव की सुविधा उन लोगों को नहीं दिया गया है. इस बीच शहर के कई मुहल्लों में बाढ़ का पानी फैल जाने से जनजीवन बुरी तरह अस्त-व्यस्त होकर रह गया है. बरियारपुर में तो गंगा का पानी अधिकांश पंचायतों में प्रवेश कर गया है. जिसके कारण आम जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है.

गंगा मैया का चंडिका माता से अद्भुत मिलन

उत्तर वाहिनी गंगा तट पर स्थित प्रसिद्ध शक्तिपीठ चंडिका स्थान में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया है. पानी गर्भगृह के अंदर भी घुस आया है. हालांकि कोरोना को लेकर लंबे समय से चंडिका स्थान को भक्तों के लिए बंद कर दिया गया है. लेकिन माना जा रहा है कि जब भी बाढ़ आती है तो गंगा मैया तथा माता चंडिका का अद्भुत मिलन होता है. जिसके बाद ही बाढ़ में कमी होता है. शायद इस बार भी ऐसी स्थिति उत्पन्न होने की संभावना बनती जा रही है.

posted by ashish jha

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें