25.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

पुरानी अवधारणाओं को छोड़ खुलकर करें बातें, साफ कपड़ा या सेनेटरी पैड का करें उपयोग

पुरानी अवधारणाओं को छोड़ खुलकर करें बातें, साफ कपड़ा या सेनेटरी पैड का करें उपयोग

खगड़िया. सदर अस्पताल स्थित एएनएम स्कूल व कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय में मंगलवार को विश्व मासिक धर्म स्वच्छता दिवस पर जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया. जागरूकता कार्यक्रम में मासिक धर्म से जुड़े तथ्यों पर चर्चा की गयी. कार्यक्रम में छात्राओं को मासिक धर्म के दौरान बरती जाने वाली सतर्कता, स्वच्छता व सावधानियों की जानकारी दी. मासिक धर्म के दौरान होने वाली शारीरिक परेशानी के बारे में बताया गया. बताया गया की आज भी बच्चियां पुरानी अवधारणाओं का शिकार होकर मासिक धर्म के संबंध में खुलकर बात करने में शर्म करती है. इसके कारण इन्फेक्शन का खतरा बढ़ जाता है. मासिक धर्म के दौरान होने वाली परेशानी को लेकर बच्चियों और महिलाओं को खुलकर बात करने की जरूरत है. पुराने अवधारणाओं से बाहर आने की जरूरत है. मासिक धर्म के दौरान सेनेटरी पैड या साफ-सुथरा कपड़ा का इस्तेमाल करने के लिए प्रेरित किया गया. ताकि किसी भी प्रकार के इन्फेक्शन का खतरा उत्पन्न नहीं हो. मौके पर सदर पीएचसी के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ धर्मेंद्र कुमार, प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंधक धर्मेंद्र कुमार, यूएनएफपीए से राजेश पांडेय, पिरामल फाउंडेशन से सेराज हसन, करण कुमार, जुनैद, राकेश, एएनएम स्कूल की अमृता प्रिया, कस्तूरबा विद्यालय की वार्डन आदि उपस्थित थी. सदर पीएचसी के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ धर्मेंद्र कुमार ने बताया कि कार्यक्रम के दौरान छात्राओं को मासिक धर्म के दौरान बरती जाने वाली सतर्कता, स्वच्छता, सावधानी समेत अन्य आवश्यक और जरूरी जानकारी दी, जिसमें बताया गया कि पहली बार मासिक धर्म होने पर क्या करना चाहिए, मासिक धर्म के दौरान किन-किन बातों का ख्याल रखना चाहिए. मासिक धर्म के दौरान किसी भी प्रकार की परेशानी होने पर तुरंत चिकित्सकों से जांच करानी चाहिए. एनीमिया मुक्त भारत अभियान को बढ़ावा देने के लिए आयरन युक्त भोजन का करें सेवन यूएनएफपीए के राजेश पांडेय ने बताया कि एनीमिया मुक्त भारत अभियान को बढ़ावा देने के लिए छात्राओं आयरन युक्त खाने का सेवन करने की जरूरत है. इसके अलावा समय पर भोजन करने, खान-पान का हमेशा ख्याल रखने समेत अन्य जानकारी भी दी गयी. पिरामल फाउंडेशन के सेराज हसन ने बताया कि विश्व मासिक धर्म स्वच्छता दिवस मनाने का उद्देश्य युवतियों और महिलाओं को माहवारी के दौरान स्वच्छता का ख्याल रखने की जरूरत है.

डिस्क्लेमर: यह प्रभात खबर समाचार पत्र की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. इसे प्रभात खबर डॉट कॉम की टीम ने संपादित नहीं किया है

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें