1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. darbhanga
  5. darbhanga airport mumbai to darbhanga airplane reached 20 thousand more than three times the fare rdy

Darbhanga Airport: 20 हजार तक पहुंचा मुंबई से दरभंगा का विमान किराया, तीन गुना से अधिक देना पड़ रहा भाड़ा

लगन के दिनों में किराये में अप्रत्याशित बढ़ोतरी से हवाई यात्रा करने वाले आम लोग परेशान हैं. यात्रियों ने बताया कि रेलवे में कंफर्म टिकट नहीं मिल पा रहा है. आपात स्थिति में ऊंची दर पर टिकट खरीदकर हवाई जहाज से यात्रा करनी पड़ रही है.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
हवाई जहाज
हवाई जहाज
सोशल मीडिया

दरभंगा. उड़ान योजना के तहत संचालित दरभंगा एयरपोर्ट से यात्रा करने वाले लोगों को महंगी दर पर यात्रा करनी पड़ रही है. 10 मई को मुंबई से दरभंगा का किराया 20 हजार को पार कर गया है. चार मई को दरभंगा आने के लिए यात्रियों को प्रति टिकट 18784 रुपये का भुगतान करना पड़ा. दिल्ली का किराया छह मई को 19 हजार से अधिक है. इन दिनों की अन्य तिथियों में भी किराया 10 हजार रुपये से अधिक है. बताया जा रहा है कि लगन में घर आने वाले लोगों की भीड़ के कारण टिकट का दाम आसमान पर है. सामान्य दिनों में मुंबई से दरभंगा का किराया छह से आठ हजार के बीच रहता है. छह मई को दिल्ली से दरभंगा का किराया 19320 रुपये है. सामान्य दिनों में दिल्ली से दरभंगा का किराया लगभग चार से छह हजार के बीच रहता है. इस तरह किराये में लगभग तीन गुना से अधिक की बढ़ोतरी हुई है.

ट्रेनों में नहीं मिल रहा कंफर्म टिकट

लगन के दिनों में किराये में अप्रत्याशित बढ़ोतरी से हवाई यात्रा करने वाले आम लोग परेशान हैं. यात्रियों ने बताया कि रेलवे में कंफर्म टिकट नहीं मिल पा रहा है. आपात स्थिति में ऊंची दर पर टिकट खरीदकर हवाई जहाज से यात्रा करनी पड़ रही है. बता दें कि पीएम ने उड़ान योजना को लेकर कहा था कि हवाई चप्पल पहनने वाले लोगों को भी अब हवाई यात्रा करने की सुविधा मिलेगी. लेकिन जिस तरह से किराया बढ़ रहा है, उससे लोगों की पहुंच दूर होती जा रही है.

यात्री सुविधाओं में दरभंगा एयरपोर्ट पीछे

बुधवार को दिल्ली से आये एके सिन्हा, मनोज कुमार आदि ने बताया कि यात्रा करने के लिए महंगा टिकट खरीदना पड़ रहा है. जबकि सुविधाओं के मामले में दरभंगा एयरपोर्ट पीछे है. टर्मिनल पर यात्रियों की अत्यधिक भीड़ रहने से काफी परेशानी होती है. यात्रियों की संख्या की तुलना में चेयर काफी कम हैं. कुर्सी खाली होने पर ही बैठने की जगह मिल पाती है. चिलचिलाती धूप में टर्मिनल तक पहुंचने में पसीना छूट जाता है. इस स्थिति में बच्चों के साथ यात्रा करने में काफी मुश्किल हो रही है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें