22.1 C
Ranchi
Thursday, February 22, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

Homeधर्मआज इस शुभ मुहूर्त में होगी रामलला की प्राण प्रतिष्ठा, पांच हजार किलो सामग्री से तैयार हुआ महाप्रसाद

आज इस शुभ मुहूर्त में होगी रामलला की प्राण प्रतिष्ठा, पांच हजार किलो सामग्री से तैयार हुआ महाप्रसाद

आज प्राण प्रतिष्ठा के लिए न्यूनतम विधि-अनुष्ठान रखे गये हैं. श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अनुसार, प्राण प्रतिष्ठा समारोह में प्रातः 10 बजे से 'मंगल ध्वनि' का भव्य वादन होगा.

Ram Mandir Pran Pratishtha: आज वह शुभ घड़ी आ गयी है, जिसका इंतजार लाखों-करोड़ों रामभक्तों को वर्षों से था. प्रभु राम के बाल स्वरूप की झलक हम सबके सामने आ चुकी है. आज रामलला अपने भवन में विराजेंगे. जन-जन के आराध्य रामलला कीप्राण प्रतिष्ठा के इस ऐतिहासिक पल के लिए श्रद्धालु पलके बिछा कर बैठे हैं. आइए जानते है प्राण प्रतिष्ठा की शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के लिए शुभ मुहूर्त

प्राण प्रतिष्ठा की विधि आज दोपहर 12 बजकर 20 मिनट पर शुरू होगी. मुख्य पूजा अभिजीत मुहूर्त 12 बजकर 29 मिनट 8 सेकेंड से 12 बजकर 30 मिनट 32 सेकेंड तक होगी. कार्यक्रम पौष मास के द्वादशी तिथि को अभिजीत मुहूर्त, इंद्र योग, मृगशिरा नक्षत्र, मेष लग्न एवं वृश्चिक नवांश में होगा. रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के लिए शुभ मुहूर्त 84 सेकेंड रहेगा.

पांच हजार किलो सामग्री से तैयार किया गया है महाप्रसाद

श्रीराम जन्भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के मार्गदर्शन में गुजरात की भगवा सेना भारती गरवी गुजरात व संत सेवा संस्थान की ओर से महाप्रसाद तैयार किया गया है, जिसे प्राण प्रतिष्ठा कार्यकम के बाद मेहमानों को वितरित किया जायेगा. संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमल भाई रावल ने बताया कि ट्रस्ट की ओर से उन्हें तीन दायित्व सौंपे गये हैं. इसके तहत उन्हें महाप्रसाद तैयार करने के साथ संतों के ठहरने और खाने-पीने की व्यवस्था का दायित्व सौंपा गया है. इस पैकेट में दो लड्डू, सरयू नदी का जल, अक्षत, सुपारी की थैली और कलावा होगा. महाप्रसाद को सनातनी परंपरा को ध्यान में रखकर तैयार किया गया है.

Also Read: Ram Ji Ki Aarti: इन आरती को गाकर रामलला की पूजा करें संपन्न, यहां पढ़ें प्रभु श्रीराम जी की पूरी आरती
पवित्र जल से कराया गया स्नान

राम लला की मूर्ति को विभिन्न तीर्थ स्थलों से लाये गये ‘औषधियुक्त’ और पवित्र जल से भरे 114 घड़ों से स्नान कराया गया. मूर्ति को ‘मध्याधिवास’ और ‘रात्रि जागरण अधिवास’ में रखा गया. पुरानी मूर्ति की पूजा ‘यज्ञशाला’ में हुई. फूलों से अनुष्ठान किया गया.

आज मनाई जाएगी दिवाली

प्राण प्रतिष्ठा समारोह पूर्ण होने के उपरांत ‘राम ज्योति’ प्रज्ज्वलित कर दीपावली मनायी जायेगी. शाम को अयोध्या 10 लाख दीपों से जगमगायेगी. इसके साथ ही मकानों, दुकानों, प्रतिष्ठानों और पौराणिक स्थलों पर ‘राम ज्योति’ प्रज्ज्वलित की जायेगी. अयोध्या में सरयू नदी के तटों की मिट्टी से बने दीपों से रोशन होगी. रामलला के मंदिर, कनक भवन, हनुमानगढ़ी, गुप्तारघाट, सरयूतट, लता मंगेशकर चौक, मणिराम दास छावनी समेत 100 मंदिरों, प्रमुख चौराहों और सार्वजनिक स्थलों पर दीप जलाएं जायेंगे.

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें