1. home Home
  2. religion
  3. navratri 7th day kalratri history origin importance significance she is most cruel form of maa parvati origin for massacre of shumbha nishumbha asur mata kalratri puja removes shani dosh on kundali smt

Navratri 7th Day: मां पार्वती का सबसे क्रूर स्वरूप है Maa Kalaratri, शुंभ-निशुंभ के नरसंहार के लिए था ये रूप, इनकी पूजा से शनि की काली छाया भी होती है दूर

चैत्र नवरात्रि के सातवें दिन देवी कालरात्रि की पूजा की जाती है. पौराणिक कथाओं के अनुसार देवी पार्वती ने शुंभ और निशुंभ नाम के दो राक्षसों को मारने के लिए ये हिंसक रूप लिया था. गहरे काले रंग के रूप और गधे की सवारी करने वाली मां कालरात्रि की पूजा का विशेष महत्व होता है. भक्तों को मां का ये रूप बड़े से बड़े संकट से उबार सकता है. तो आइये जानते हैं मां कालरात्रि के स्वरूप, इतिहास और इनके पूजा के महत्व के बारे में...

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Chaitra Navratri 2021, Ma Kalaratri Puja Benefits, Swaroop, Origin, History
Chaitra Navratri 2021, Ma Kalaratri Puja Benefits, Swaroop, Origin, History
Prabhat Khabar Graphics

Chaitra Navratri 2021, Ma Kalaratri Puja Benefits, Swaroop, Origin, History: चैत्र नवरात्रि के सातवें दिन देवी कालरात्रि की पूजा की जाती है. पौराणिक कथाओं के अनुसार देवी पार्वती ने शुंभ और निशुंभ नाम के दो राक्षसों को मारने के लिए ये हिंसक रूप लिया था. गहरे काले रंग के रूप और गधे की सवारी करने वाली मां कालरात्रि की पूजा का विशेष महत्व होता है. भक्तों को मां का ये रूप बड़े से बड़े संकट से उबार सकता है. तो आइये जानते हैं मां कालरात्रि के स्वरूप, इतिहास और इनके पूजा के महत्व के बारे में...

दरअसल, माता कालरात्रि को देवी पार्वती का सबसे क्रूर रूप माना गया है. वह जहां भक्तों को अभय और वरदा मुद्रा में वर देती हैं तो दूसरी ओर पाप और पापियों के नरसंहार के लिए अपने दूसरे दोनों हाथ को तैयार रखती हैं.

चैत्र नवरात्रि में किस दिन होगी मां कालरात्रि की पूजा

चैत्र नवरात्रि के सातवें दिन देवी कालरात्रि की पूजा करने की परंपरा होती है. ऐसे में इस चैत्र नवरात्रि में 19 अप्रैल को इनकी पूजा की जाएगी.

मां कालरात्रि की पूजा का महत्व

ऐसा माना जाता है कि शनि ग्रह को देवी कालरात्रि द्वारा नियंत्रित किए जाते है. विधि विधान से इनकी पूजा करने से शनि के प्रकोप से बचा जा सकता है. साथ ही साथ मां कालरात्रि भक्तों को बड़े से बड़े संकट से उबार सकती हैं.

मां कालरात्रि का स्वरूप

  • देवी कालरात्रि का रंग गहरा काला होता है

  • मां कालरात्रि गधे पर सवार होती है.

  • इनकी चार भुजाएं होती हैं

  • दाहिने हाथ अभय और वरदा मुद्रा में होते हैं

  • जबकि बाएं हाथ में तलवार और घातक लोहे की हुक लगाती है.

Posted By: Sumit Kumar Verma

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें