1. home Hindi News
  2. religion
  3. kaal sarp dosh in 2022 know about kaal sarp negative impact on zodiac signs horoscope vrishchik meen rashi sry

Kaal Sarp Dosh in 2022: इन राशियों पर बन रहा है 'कालसर्प योग', जीवन में बढ़ सकती है परेशानी

साल 2022 की जन्‍म कुंडली में कालसर्प योग का बनना कुछ राशियों के लिए बहुत भारी पड़ सकता है. यह समय मुश्किलें लाने के साथ-साथ तनाव का शिकार भी बनाएगा. ऐसे में इस स्थिति से निपटने के लिए शिव-पंचाक्षर स्त्रोत का नियमित पाठ करना राहत देगा.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Kaal Sarp Dosh in 2022
Kaal Sarp Dosh in 2022
Prabhat Khabar Graphics

Kaal Sarp Dosh in 2022: ज्योतिष शास्त्र के अनुसार साल 2022 की जन्‍म कुंडली में कालसर्प योग का बनना कुछ राशियों के लिए बहुत भारी पड़ सकता है. यह स्थिति 4 राशि वाले जातकों के लिए मुश्किलें लेकर आएगी. ऐसी स्थिति से राहत पाने के लिए कुछ उपाय कर लेना बेहतर रहेगा.

Kaal Sarp Dosh in 2022: वृषभ राशि

वृषभ : साल 2022 की कुंडली में बन रहा कालसर्प योग वृषभ राशि के जातकों के लिए मुश्किलें ला सकता है. खासतौर पर शुरुआती 3 महीनों में सावधान रहने की सबसे ज्‍यादा जरूरत है. इसके कारण उनकी मां को सेहत संबंधी समस्‍या हो सकती है. इसके अलावा उनके साथ चोरी या ठगी हो सकती है, लिहाजा सावधान रहें.

Kaal Sarp Dosh in 2022: कन्या राशि

कन्या : यह स्थिति कन्‍या राशि के जातकों के लिए आंशिक विष योग बना रही है. बाहर की चीजें कम से कम खाएं. 24 अप्रैल 2022 तक खाने-पीने को लेकर सावधान रहें. यदि नशा करते हैं तब सावधान रहने की जरूरत ज्‍यादा बढ़ जाती है.

Kaal Sarp Dosh in 2022: वृश्चिक राशि

वृश्चिक : वृश्चिक राशि के जातकों को भावनात्मक चोट लग सकती है. दूसरों के विचारों को खुद पर हावी न होने दें अन्यथा डिप्रेशन के शिकार हो सकते हैं. खासतौर पर 24 अप्रैल 2022 तक का समय इस मामले में ज्‍यादा मुश्किल रहेगा.

Kaal Sarp Dosh in 2022: मीन राशि

मीन : मीन राशि के लोगों को यह समय कुछ अलग अनुभव कराएगा. किसी ऐसे व्‍यक्ति से सामना होगा जो आपके लिए हिला देने वाला अनुभव रहेगा. किसी से बिछड़ने का गम रहेगा. धैर्य से इस समय को निकालना ही बेहतर रहेगा.

Kaal Sarp Dosh in 2022: तनाव की स्थिति बनेगी

यह समय मुश्किलें लाने के साथ-साथ तनाव का शिकार भी बनाएगा. ऐसे में इस स्थिति से निपटने के लिए शिव-पंचाक्षर स्त्रोत का नियमित पाठ करना राहत देगा. साथ ही लाल चन्दन, अपामार्ग और दारुहल्दी को लौंग कपूर-घी के साथ मिलकर पूरे घर में धूनी करें, इससे जिंदगी में नकारात्‍मकता कम होगी.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें