Advertisement

saran

  • Aug 20 2019 8:46PM
Advertisement

छपरा : SIT पर फायरिंग, दारोगा व सिपाही शहीद, आश्रितों को 10-10 लाख मुआवजा व नौकरी

छपरा : SIT पर फायरिंग, दारोगा व सिपाही शहीद, आश्रितों को 10-10 लाख मुआवजा व नौकरी
घायल हवलदार रजनीश कुमार व इनसेट में शहीद मिथिलेश कुमार का फाइल फोटो

छपरा : बिहार में छपरा के मढ़ौरा में अपराधियों ने बड़ी वारदात को अंजाम दिया है. मढ़ौरा में मुख्य बाजार स्थित बस स्टैंड के पास मंगलवार की देर शाम एसआइटी पुलिस की गाड़ी पर अपराधियों ने गोलीबारी कर हमला कर दिया, जिसमें एसआइटी टीम के दारोगा मिथिलेश कुमार और सिपाही मुहम्मद अफरोज की घटना स्थल पर ही मौत हो गयी, जबकि तीसरे जख्मी हवलदार रजनीश कुमार को जख्मी हालत में मढ़ौरा से रेफर कर दिया गया.


मिली जानकारी के अनुसार एसआइटी के टीम क्षेत्र से काम कर मढ़ौरा स्टैंड के समीप पुरानी स्टेट बैंक के पास से गुजर रही थी तभी गोलीबारी शुरू हो गयी. गोलीबारी की आवाज सुन बाजार में भगदड़ की स्थिति बन गयी. देखते ही देखते बाजार के दुकानदारों ने दहशत में फटाफट दुकानें बंद कर दी और बाजार में सन्नाटा फैल गया. सूचना पाकर मढ़ौरा थाना की पुलिस मौके पर पहुंच कर जख्मी जवान को अस्पताल पहुंचाया. स्थानीय रेफरल अस्पताल में जख्मी की प्राथमिक उपचार के बाद पटना रेफर कर दिया गया.

जख्मी को जांघ में गोली लगने और हाथ टूटने की बात बतायी जा रही है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार एसआइटी की टीम में दारोगा मिथिलेश कुमार और सिपाही मुहम्मद अफरोज समेत पांच जवान सफेद रंग के बोलेरो गाड़ी से छपरा की ओर जा रहे थे. तभी अचानक बस स्टैंड के समीप अपराधियों से मुठभेड़ हो गयी. बोलेरो गाड़ी में ही मौत से अनुमान लगाया जा रहा है कि पुलिस के जवान जब तक संभल पाते तब तक अपराधियों की ओर से किये गये अंधाधुंध फायरिंग के शिकार हो गये.

घटना के बाद अपराधियों ने दहशत का फायदा उठाते हुए मौके से फरार हो गये. खबर से पुलिस महकमे में खलबली मच गयी और आला अधिकारियों का मढ़ौरा आना शुरू हो गया. इसके पूर्व 22 दिसंबर 2014 को इसुआपुर के थानाध्यक्ष संजय कुमार तिवारी की बैंक लुटेरों ने श्यामकौरिया में गोली मार हत्या कर दी थी.

शहीद दारोगा व सिपाही के आश्रितों को 10-10 लाख मुआवजा व नौकरी
पटना : सारण के मढ़ौरा बाजार में स्कॉर्पियो सवार अपराधियों द्वारा फायरिंग में शहीद दारोगा मिथिलेश कुमार और सिपाही मुहम्मद अफरोज के परिजनों को 10-10 लाख रुपये का मुआवजा दिया जायेगा. एडीजी (मुख्यालय) जितेंद्र कुमार ने यह देते हुए बताया कि इनके किसी एक-एक आश्रित को नौकरी भी दी जायेगी. घायल हवलदार रजनीश कुमार के इलाज में किसी तरह की समस्या नहीं हो, इसका पूरा ख्याल रखा जायेगा.

उन्होंने कहा कि सारण के एसपी को मौके पर कैंप करने के लिए कहा गया है. साथ ही इस घटना में शामिल अपराधियों की गिरफ्तारी जल्द करने का आदेश भी दिया गया है. घटना में जो भी अपराधी शामिल होंगे, उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जायेगी. सारण जिले के सभी इंट्री प्वाइंट को सील करके छापेमारी तेज करने का आदेश दे दिया गया है.

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement