Advertisement

ranchi

  • Jun 18 2019 7:58AM
Advertisement

रांची : सीसीएल ने कम कर दी आपूर्ति टीवीएनएल में कोयले का संकट

रांची : सीसीएल ने कम कर दी आपूर्ति टीवीएनएल में कोयले का संकट
सीसीएल का टीवीएनएल पर बकाया 400 करोड़
रांची : टीवीएनएल पर सीसीएल का बकाया बढ़कर 400 करोड़ हो गया है. इस कारण सीसीएल द्वारा कोयले की आपूर्ति कम कर दी गयी है. इधर, टीवीएनएल के ललपनियां स्थित तेनुघाट थर्मल पावर स्टेशन(टीटीपीएस) में कोयले का स्टॉक कम होता जा रहा है. कोयले का स्टॉक केवल 40 हजार टन बचा है. इतने कोयले में टीटीपीएस की  दोनों यूनिट चली, तो पांच दिन में ही कोयला खत्म हो जायेगा. वहीं, एक यूनिट चली, तो 10 दिनों तक कोयला का स्टॉक बचा है. 
 
गौरतलब है कि टीटीपीएस में दो यूनिट है. इसमें यूनिट नंबर दो पिछले कई दिनों से बंद है. इसके एक उपकरण को हरिद्वार से मंगाया गया है. इसे लगाते ही एक-से दो दिनों में दो नंबर यूनिट चालू हो जायेगी. इस यूनिट की क्षमता 180 मेगावाट की है. पर टीवीएनएल के एमडी अरविंद सिन्हा का कहना है कि यूनिट ठीक हो जाने के बावजूद इसे चलाने के लिए पर्याप्त कोयला नहीं है. वजह है कि सीसीएल द्वारा आपूर्ति कम कर दी गयी है. बकाया बढ़ गया है.
 
4000 करोड़ रुपये जेबीवीएनएल पर बकाया है
 
टीवीएनएल द्वारा उत्पादित लगभग 300 से 350 मेगावाट बिजली जेबीवीएनएल को आपूर्ति की जाती है. जिसका प्रतिमाह का बिल 50 से 60 करोड़ रुपये का आता है. इसके एवज में जेबीवीएनएल द्वारा कम बिल का भुगतान किया जाता है और बकाया बढ़ता जा रहा है. यह बकाया बढ़कर अब 4000 करोड़ हो गया है. 
 
इधर, जेबीवीएनएल द्वारा बकाया भुगतान नहीं किये जाने के कारण टीवीएनएल द्वारा सीसीएल के बकाये का भुगतान नहीं किया जा रहा है. इसके चलते सीसीएल द्वारा कोयले की आपूर्ति कम कर दी गयी है. बकाया न दिये जाने की स्थिति में कोयला रोकने की भी आशंका जतायी गयी है. टीवीएनएल प्रबंधन द्वारा ऊर्जा सचिव को पत्र भेजकर कई बार जेबीवीएनएल से बकाये भुगतान कराने की मांग की गयी है.
33 केवी लाइन ब्रेकडाउन होने से डेढ़ घंटे बिजली आपूर्ति ठप
 
रांची : लाइन ओवर लोड होने से हटिया ग्रिड से 33 केवी लाइन का तार टूट गया. इस कारण सोमवार को राजधानी के एक बड़े हिस्से में लगभग डेढ़-दो घंटे बिजली आपूर्ति पूरी तरह ठप रही. हटिया ग्रिड से शहर को जोड़नेवाली मुख्य एचटी लाइन कटहल मोड़ स्थित झालाटोली के पास अचानक से ब्रेक हो गयी.
 
दोपहर 3:15 बजे पिस्का मोड़ और जोगवार दोनों उपकेंद्र एक साथ ठप हो गये और कई मोहल्लों की बिजली गुल हो गयी. सूचना मिलने के बाद तार जुड़वाने का काम शुरू किया गया. शाम पांच बजे के आसपास लाइन को पूरी तरह से चार्ज किया जा सका. इसके चालू होते ही दोबारा फाॅल्ट आ गया. हालांकि, इसके फौरन बाद ही इसे पूरी तरह से ठीक कर लिया गया. इस दौरान बिजली न मिलने से आसपास के गांव के लोग भी परेशान रहे. इस 33 केवी की एक लाइन से बैंक ऑफ इंडिया, पिस्का मोड़, आइटीआइ फीडर को बिजली मिलती है.
 
कुछ इलाके में आपूर्ति प्रभावित : राजधानी और आसपास के क्षेत्रों में बिजली आपूर्ति की लचर व्यवस्था बरकरार है. सोमवार को रातू रोड से बेड़ो, चान्हो, मांडर एवं बुढ़मू इलाके में बिजली आपूर्ति प्रभावित रही. रांची शहरी क्षेत्रों के विभिन्न इलाकों में बिजली की आंखमिचौली जारी रही. रातू रोड, हरमू, कडरू, लालपुर, दीपाटोली, आइटीआइ फीडर से दिन में कई बार पावर कट हुई. वहीं, पस्किा मोड़, पंडरा, कमड़े, इटकी रोड इलाके में बिजली आपूर्ति पूरी तरह से प्रभावित रही.   
 

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement