Advertisement

politics

  • Apr 16 2019 10:50AM
Advertisement

कांग्रेस को फिर सता रहा है कर्नाटक में भाजपा के ‘ऑपरेशन कमल' का डर

कांग्रेस को फिर सता रहा है कर्नाटक में भाजपा के ‘ऑपरेशन कमल' का डर

मैसूर : भाजपा आम चुनावों के बाद कर्नाटक में कांग्रेस-जद(एस) सरकार को गिराने के लिए ‘‘ऑपरेशन कमल'' फिर से चालू कर सकती है लेकिन वह अपनी कोशिश में कामयाब नहीं होगी. गठबंधन समन्वय समिति के अध्यक्ष सिद्दरमैया ने यह बात कही.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस-जनता दल (सेक्युलर) सरकार को कोई ‘‘खतरा'' नहीं है. सरकार ‘‘बहुत ज्यादा स्थिर'' है और सुचारू रूप से चल रही है. कांग्रेस विधायक दल के नेता ने कहा कि ‘‘ऑपरेशन कमल 2.0'' सफल नहीं होगा क्योंकि भारतीय जनता पार्टी के केंद्र में सत्ता में लौटने की संभावना नहीं है. ‘‘ऑपरेशन कमल'' से तात्पर्य 2008 में कर्नाटक में बीएस येदियुरप्पा सरकार की स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए भाजपा द्वारा विपक्षी विधायकों के दल-बदल की सफल कोशिश से है. ऐसा माना जा रहा है कि भगवा दल सत्तारूढ़ गठबंधन के विधायकों को लालच देने की कोशिश करके दक्षिणी राज्य में सरकार बनाने के लिए ‘‘ऑपरेशन कमल 2.0'' की कोशिश कर रही है.

सिद्दरमैया ने एक विशेष साक्षात्कार में कहा, ‘‘वे एक बार फिर ऑपरेशन कमल की कोशिश कर सकते हैं और मुझे नहीं लगता कि वे कामयाब होंगे.'' कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘भाजपा केंद्र में सत्ता में नहीं आ सकती क्योंकि उसे उत्तर प्रदेश और बिहार में ज्यादा सीटें नहीं मिलेंगी. 2014 के लोकसभा चुनाव में उसे बिहार और उत्तर प्रदेश में 120 में से 102 सीटें मिली थी. क्या फिर से इतनी संख्या में सीटें जीतना मुमकिन है? आप कैसे कह सकते हैं कि भाजपा सत्ता में आएगी?'' कर्नाटक में कांग्रेस-जद(एस) गठबंधन सरकार पर किसी तरह के खतरे की खबरों को खारिज करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘हमें कोई डर नहीं है. भाजपा ही है जो कह रही है कि सरकार स्थिर नहीं है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी यह कह रहे हैं.''

आपको बता दें कि कर्नाटक में दूसरे और तीसरे चरण में 18 और 23 अप्रैल को चुनाव होने हैं.

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement