Advertisement

Others

  • Jan 9 2019 5:42PM
Advertisement

म्यांमार में अशांति, सीमा पर अनिश्चितता की स्थिति में रोहिंग्या शरणार्थी दहशत में

म्यांमार में अशांति, सीमा पर अनिश्चितता की स्थिति में रोहिंग्या शरणार्थी दहशत में

बांदरबन (बांग्लादेश) : म्यांमार के सुरक्षा बलों और जातीय रखाइन विद्रोहियों के बीच लगभग हर दिन होनेवाली झड़पों के कारण म्यांमार-बांग्लादेश सीमा पर वर्जित क्षेत्र ‘नो-मैन्स लैंड' में रह रहे हजारों रोहिंग्या मुस्लिम शरणार्थी दहशत में हैं.

2017 में सैन्य कार्रवाई शुरू होने के बाद से म्यांमार से हजारों रोहिंग्या मुस्लिम पलायन कर गये थे. इनमें से ज्यादातर लोग बांग्लादेश के शरणार्थी शिविर में रह रहे हैं. लेकिन, कई लोग शिविरों में रहने या घर वापसी के लिए तैयार नहीं हैं और सीमा पर अनिश्चितता की स्थिति में रह रहे हैं. ये लोग अब म्यांमार सेना और अराकान सेना के बीच लड़ाई में फंस गये हैं. अराकान सेना एक उग्रवादी समूह है जो पश्चिमी रखाइन राज्य की बौद्ध-बहुल आबादी के लिए अधिक स्वायत्तता की मांग कर रहा है.

रोहिंग्या नेता दिल मोहम्मद ने बताया, म्यांमार में सरकारी सेना और अराकान सेना के बीच भीषण लड़ाई जारी है. उन्होंने बताया, स्थिति बहुत तनावपूर्ण है. उन्होंने बताया कि सुरक्षा की चाकचौबंद व्यवस्था और रोज होनेवाली गोलीबारी से लोग भयभीत हैं. लड़ाई में 13 पुलिसकर्मियों के मारे जाने के बाद म्यांमार के सैनिकों ने पिछले सप्ताह सीमा पर सुरक्षा शिविर और बंकर बनाये थे.

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement