crime

  • Feb 11 2020 2:22AM
Advertisement

वेलफेयर बिल्डिंग कंपनी का गुमला व बेड़ो में चल रहा दफ्तर

वेलफेयर बिल्डिंग कंपनी का गुमला व बेड़ो में चल रहा दफ्तर

 रांची  : वेलफेयर बिल्डिंग एंड एस्टेट कंपनी के विरुद्ध नियम के खिलाफ लोगों से पैसा वसूलने और फर्जीवाड़ा किये जाने को लेकर पिछले दिनों सीबीआइ ने चार्जशीट दायर की थी. इसके बावजूद झारखंड में कंपनी का कारोबार जारी है. जवाबदेह स्थानीय अफसर भी कारगर कार्रवाई नहीं कर रहे है. बताया जाता है कि  गुमला के पालकोट रोड स्थित निलेश कॉम्प्लेक्स स्थित कंपनी की शाखा से करीब पांच हजार लोगाें से मोटी रकम की वसूली की गयी है. 

 
यहां पर 500 रुपये से लेकर लाख रुपये तक झारखंड के किसी कोने में फ्लैट और जमीन देने के नाम पर लोगों से वसूली की गयी है. कंपनी के स्थानीय मैनेजर सुनील मिंज का दावा है कि चार हजार लोगों को जमीन और फ्लैट मुहैया कराये गये हैं. वहीं जिन लोगों ने जमीन और फ्लैट नहीं लेना चाहा, उन्हें जमा पैसा के एवज में मैच्योरिटी के तहत राशि दी गयी है. 
 
हालांकि कंपनी की ओर से पूरा ब्योरा उपलब्ध नहीं कराया गया है. उधर,   बेड़ो में अब भी कंपनी का दफ्तर आराम से चल रहा है. सोमवार को बेड़ो अंचल के गुमला रोड स्थित कंपनी के दफ्तर पर सीओ अमृता बाड़ा पहुंची. उन्होंने कंपनी के स्थानीय मैनेजर मो आरिफ ओहदार से बात की. कंपनी कैसे चल रही है इससे जुड़े कागज मांगे गये. 
 
यह भी पूछा कि किन-किन लोगों से पैसे लिये गये हैं उनकी पूरी सूची और कितने की मैच्याेरिटी पूरा होने के बाद राशि लौटायी गयी है इसका ब्योरा मांगा गया. वहीं दफ्तर में काम करनेवाले सभी कर्मियों का पदनाम के साथ ब्योरा उपलब्ध कराने का निर्देश मैनेजर को दिया गया. इस पर मैनेजर ने सीओ से दो दिनों की मोहलत मांगी है. 
 
सीबीआइ द्वारा चार्जशीट दाखिल किये जाने के बाद भी सजग नहीं हो रहा स्थानीय प्रशासन
एक अनुमान के मुताबिक गुमला में पांच हजार लोगों से वसूले गये हैं पैसे
बेड़ो में दफ्तर की जांच करने पहुंची थी सीओ, दो दिनों में पूरा ब्योरा देने को कहा 
 
सिल्ली शाखा का मैनेजर भेजा गया जेल
दूसरी ओर सिल्ली शाखा के मैनेजर सचिन महतो को पूछताछ के बाद मुरी ओपी पुलिस ने जेल भेज दिया. उसने पूछताछ में कंपनी के वरीय अफसरों के नाम का भी खुलासा किया है. अनुसंधान में उन अधिकारियों के खिलाफ पुलिस आगे की कार्रवाई करेगी. इस संबंध में रांची के ग्रामीण एसपी ने बताया कि संबंधित कंपनी के स्थानीय मैनेजर को जेल भेजने के बाद कंपनी के दफ्तर से दस्तावेज जब्त करने के साथ ही कार्यालय को सील करने की कार्रवाई की गयी है.
 
कार्यक्रम के दौरान डीजी मुख्यालय पीआरके नायडू, होमगार्ड डीजी एमवी राव, एडीजी अजय सिंह, प्रशांत सिंह, मुरारी लाल मीणा, आइजी नवीन कुमार सिंह, सुधीर कुमार झा, प्रिया दुुबे, साकेत कुमार सिंह, डीआइजी अमोल वीणुकांत होमकर, एसएसपी अनीश गुप्ता सहित अन्य पुलिसकर्मी मौजूद थे.
 
अनुसंधान को बेहतर करने पर जोर 
डीजीपी केएन चौबे ने कहा कि अपराधियों को सजा दिलाना और अनुसंधान को बेहतर बनाने के लिए ड्यूटी मीट का आयोजन किया गया है. पुलिस लगातार चुनौतियों का सामना करते हुए बेहतर काम करती है. 
 
उन्होंने कहा कि बेहतर अनुसंधान और साक्ष्य संकलन के लिए 4139 पुलिसकर्मियों को बेहतर प्रशिक्षण दिया गया है. पूरे राज्य में महिला सुरक्षा के लिए शक्ति एेप व आठ जिलों में एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग थाना लगातार काम कर रहे हैं. वहीं जिलों में महिला थाना भी अपनी भूमिका निभा रहे हैं. उन्होंने कहा कि ऑपरेशन मुस्कान के तहत अब तक 2575 बच्चों को सकुशल मुक्त कराया गया है.
 
छात्राओं ने प्रस्तुति दी 
कार्यक्रम के दौरान मांडर बालिका विद्यालय की छात्राओं की बैंड पार्टी ने शानदार प्रस्तुति दी. राज्यपाल सहित तमाम अफसरों ने ताली बजा कर बच्चियों की प्रतिभा काे सराहा. वहीं नक्सलियों से निटपने के दौरान पुलिस के जवान किस परिस्थिति में अभियान चलाते हैं इसकी भी प्रस्तुति पुलिसकर्मियों ने बेहतर ढंग से किया.   
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement