Advertisement

crime

  • Aug 21 2019 3:51AM
Advertisement

दहेज प्रताड़ना, जानलेवा हमले में भेजे गये जेल

पत्नी संध्या धीवर ने महिला थाने में दर्ज करायी आग से जलाने की शिकायत

दंपती में चल रहा विवाद, पत्नी रहती है बेनाचिती के नतून पल्ली मायके में

भाजपा जिलाध्यक्ष लखन घड़ुई ने निष्पक्ष जांच की मांग की पुलिस अधिकारियों से
 
दुर्गापुर : दुर्गापुर महिला थाना पुलिस ने पत्नी को शारीरिक एवं मानसिक  रूप से प्रताड़ित करने तथा उस पर जानलेवा हमला करने के आरोप में शिक्षक संघ के जिला सचिव  चिरंजीत धीवर को गिरफ्तार किया. मंगलवार को उसे दुर्गापुर महकमा अदालत में अतिरिक्त मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी (एसीजेएम) के समक्ष पेश किया गया. सुनवाई के दौरान न्यायाधीश ने उसकी जमानत याचिका खारिज कर न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया. बुधवार को पुन: उसे एसीजेएम अदालत में पेश किया जायेगा.
 
गिरफ्तार आरोपी चिरंजीत धीवर बेनाचिती के नतून पल्ली इलाके का निवासी है. उसके खिलाफ उसकी पत्नी संध्या धीवर ने उत्पीड़न का मामला दर्ज कराया है.  महिला थाना में भादवि की धारा संख्या 498ए/  323/ 506/ 307 /34 आईपीसी एंड 4  डीपी एक्ट का मामला दर्ज किया गया है. चिरंजीत  भाजपा समर्थित बंगीय नव उन्मेष प्राथमिक शिक्षक संघ का जिला सचिव पहै. वह कांकसा प्रखंड  के ब्राह्मणपुर ग्राम स्थित एफ़पी स्कूल में शिक्षक के पद पर कार्यरत है.
 
चिरंजीत  की शादी कुछ वर्ष पहले बेनाचिटी नतुन पल्ली निवासी संध्या धीवर के साथ हुई थी. उनका ढाई वर्ष का पुत्र है. पिछले कुछ महीनों से संध्या धीवर एवं चिरंजीत के बीच पारिवारिक विवाद चल रहा है.  संध्या  ने बताया  कि  चिरंजीत के साथ विवाद बढ़ जाने के कारण वह अपने मायके  नतून पल्ली में ही रहती थी.  सोमवार की संध्या चिरंजीत  ने उसे आग से जलाने का प्रयास किया था एवं बेरहमी से पिटाई कर दी थी.
 
उसने   आरोप लगाया कि चिरंजीत का दूसरी महिलाओं के साथ अवैध संबंध है.  अवैध संबंध के बारे में जानकारी हो जाने के बाद ही चिरंजीत के साथ उसका झगड़ा  चल रहा था.  चिरंजीत के मोबाइल फोन में फेसबुक पर लड़कियों के साथ अवैध संबंध होने का सबूत भी मिले है. चिरंजीत से इसी बात को लेकर अक्सर विवाद चल रहा था. इसकी पूरी जानकारी दोनों परिवार को दी गई थी. भारतीय जनता पार्टी के जिला अध्यक्ष लखन घड़ुई  ने कहा कि चिरंजीत धीवर भाजपा संगठन का कर्मी है. उसके खिलाफ उसकी पत्नी द्वारा लगाये गेय आरोप  की पुलिस को निष्पक्ष ढंग से जांच करनी चाहिए.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement