Advertisement

crime

  • Jun 26 2019 1:28AM
Advertisement

घाघीडीह जेल में अखिलेश और पंकज गुट भिड़े, एक कैदी मरा

घाघीडीह जेल में अखिलेश और पंकज गुट भिड़े, एक कैदी मरा

 जमशेदपुर  : घाघीडीह सेंट्रल जेल में मंगलवार की शाम टेलीफोन बूथ पर बातचीत करने को लेकर अखिलेश सिंह व पंकज दुबे गुट भिड़ गये. अखिलेश गिरोह के शूटर हरिश ने पंकज दुबे के ई वन वार्ड पर हमला कर दिया. इसके बाद ई वन वार्ड के बंदियों ने मारपीट करने आये अखिलेश गुट के लोगों पर हमला कर दिया. इस  झड़प में दहेज को लेकर सजायाफ्ता मनोज सिंह की मौके पर ही मौत हो गयी. जबकि सुमित सिंह समेत पांच अन्य कैदी जख्मी हो गये. 

उसे एमजीएम अस्पताल में भर्ती कराया गया है. मनोज सिंह दहेज के लिए पत्नी की गैर इरादतन हत्या मामले  में पिछले सात साल से जेल में बंद था. वह टेल्को के मनीफीट का रहने  वाला था. मनोज सिंह के पिता अनिरुद्ध सिंह ने जेल प्रशासन पर मारपीट कर  बेटे की हत्या करने का आरोप लगाया है. सुमित घोड़ाबांधा के रहने वाले जमीन कारोबारी तपन दास की हत्या के मामले में जेल में बंद है. घटना की सूचना मिलने के बाद उपायुक्त व एसएसपी केंद्रीय कारा पहुंच कर घटना की जानकारी ली. 
 
घायल कैदी सुमित सिंह की जुबानी 
घटना के संबंध में सुमित सिंह ने एमजीएम में बताया कि वह मनोज और अपने कुछ दोस्तों के साथ जेल मैदान में बने टेलीफोन बूथ पर फोन पर बात करने के लिए खड़ा था. सभी आपस में बात कर रहे थे. उसी दौरान पंकज दूबे गिरोह के अमन मिश्रा, पटपट और कई अन्य युवकों ने अचानक ब्लेड से हमला कर दिया. 
 
हमले के बाद दोनों गिरोह के लोगों ने एक-दूसरे से मारपीट शुरू कर दी. इसके बाद जेल प्रशासन की ओर से पगली घंटी बजा दी गयी. पगली घंटी के बजने के साथ ही जेल में अफरातफरी मच गया. उसके बाद जेल प्रशासन ने मामले को शांत करने के लिए लाठीचार्ज कर दिया. 
 
इस दौरान पंकज दूबे गिरोह के सभी युवक भाग कर अपने-अपने वार्ड चले गये. उसी दौरान सुमित सिंह और मनोज सिंह को जेल प्रशासन ने जमकर पिटाई कर दी. गंभीर रूप से जख्मी होने के बाद जेल प्रशासन ने सुमित और मनोज को इलाज के लिए एमजीएम लेकर आयी. जहां डॉक्टरों ने मनोज को मृत घोषित कर दिया. वहीं सुमित को इलाज के लिए भर्ती कर लिया गया है.
 
ये कैदी हुए घायल 
अमन मिश्रा, सागर लोहार, ऋषि लोहार, अजित दास, सुमित सिंह, सौरव सिंह
 
इन्हें किया गया बर्खास्त
1. इ वार्ड : वार्डन पारुलिया सुंडी
2. अारुणी वार्ड : वार्डन अविनाश मुंडा. 
3. घाघीडीह जेल : हेड वार्डन शैलेश कुमार सिन्हा.
 
घाघीडीह सेंट्रल जेल में कैदियों की मारपीट में एक कैदी की मौत अस्पताल ले जाने के क्रम में हो गयी है. घटना की मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिये गये है. एक घायल का एमजीएम में और छह घायलों का इलाज जेल में किया जा रहा है. -अमित कुमार, डीसी, पूर्वी सिंहभूम
 
ओपीडी कॉम्प्लेक्स बनाने की जरूरत : डॉ डीके सिंह 
ओपीडी कॉम्प्लेक्स में मरीजों की भीड़ देख मुख्यमंत्री ने निदेशक को वेटिंग हॉल बनाने की बात कही. इस पर निदेशक ने कहा कि ओपीडी बिल्डिंग बहुत पुरानी हो चुकी है. काफी प्रयास के बाद भी यहां मरीजों व उनके परिजनों के बैठने की व्यवस्था नहीं हो पायेगी. इसके लिए नया ओपीडी कॉप्लेक्स ही  बनाना पड़ेगा. 
 
मुख्यमंत्री ने कहा कि नयी व बड़ी ओपीडी बनाने की प्रक्रिया पूरी करें, सरकार पूरा सहयोग करेगी. ओपीडी कॉप्लेक्स में पानी व  शौचालय की व्यवस्था करें.  परिजनों के लिए सस्ती दर पर भोजन की व्यवस्था भी करें.
 
रिम्स में  सेंट्रलाइज एसी की व्यवस्था करें 
मुख्यमंत्री ने कहा कि रिम्स में सेंट्रलाइज्ड एसी की व्यवस्था की जाये. साथ ही इमरजेंसी में तत्काल पंखे भी लगाये जायें. उन्होंने रिम्स निदेशक से सेंट्रलाइज्ड एसी की अनुमानित लागत का प्रस्ताव तैयार करने को कहा. सरकार सीएसआर सहित अन्य साधनों से इसके लिए राशि की व्यवस्था करेगी. इस पर निदेशक ने कहा कि रिम्स के कायाकल्प में 100 करोड़ खर्च होने का अनुमान है.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement