Advertisement

calcutta

  • Jun 20 2019 2:05AM
Advertisement

लोकसभा के बाद विधानसभा में भी लगे ‘जय श्री राम’ और ‘जय हिंद’ के नारे

लोकसभा के बाद विधानसभा में भी लगे ‘जय श्री राम’ और ‘जय हिंद’ के नारे

 नारेबाजी पर विधानसभा के अध्यक्ष बिमान बनर्जी ने जतायी नाराजगी 

कोलकाता : उपचुनाव में जीते विधायकों ने गुरुवार को शपथ ली. शपथ लेने के दौरान भाजपा विधायकों ने ‘जय श्रीराम’ के नारे लगाये तो जवाब में तृणमूल कांग्रेस के विधायक ने ‘जय हिंद और जय बांग्ला’ का उद्घोष किया. दोनों ही घटनाओं से विधानसभा के अध्यक्ष बिमान बनर्जी बेहद खफा हुए और उन्होंने विधायकों को आगे से ऐसे नहीं करने की हिदायत दी. श्री बनर्जी ने कहा कि इस तरह की हरकत को विधानसभा की कार्यवाही में दर्ज नहीं की जायेगी. इसलिए विधायक आगे से इस तरह की हरकत से बाज आयें. 
 
उल्लेखनीय है कि बुधवार को संसद में भी शपथ ग्रहण के दौरान ‘जय श्रीराम’ और ‘जय हिंद, जय बांग्ला’ के नारे लगाये गये. भाजपा सांसद शपथ पाठ के बाद जय श्रीराम का नारा लगाते नजर आये तो तृणमूल कांग्रेस के सांसद ‘जय हिंद जय बांग्ला’ का नारा लगाये. वहीं दृश्य गुरुवार को विधानसभा में भी दिखा. 
 
राज्य की कुल आठ विधानसभा सीटों पर उपचुनाव हुए थे, जिसमें भाजपा चार सीटों पर जीती और तृणमूल कांग्रेस को तीन सीट पर जीत मिली थी. इसके बाद विधानसभा में भाजपा के विधायकों की संख्या सात हो गयी. हालांकि सांसद बनने के बाद प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष विधायक पद से इस्तीफा देंगे. लिहाजा खड़गपुर विधानसभा सीट पर उपचुनाव होगा.
 
गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव के साथ  बंगाल में आठ विधानसभा सीटों के लिए उपचुनाव हुए थे. बुधवार को नवनिर्वाचित विधायकों के लिए शपथ ग्रहण समारोह था. शपथ लेने के बाद हबीबपुर से विधायक जोयेल मुर्मु ने जय श्रीराम का नारा लगाया. इनके समर्थन में बाकी के भाजपा विधायकों ने भी जय श्रीराम का नारा बुलंद किया. इसे लेकर तृणमूल विधायकों ने एतराज जताया. इसके बाद जब बारी उलबेड़िया पूर्व से विधायक चुने गये इदरिश अली की आयी तो उन्होंने शपथ के बाद ‘जय हिंद’ का नारा लगाया.
 
इसे लेकर गुस्से का इजहार करते हुए विधानसभा स्पीकर विमान बनर्जी ने कहा कि नियम के अनुसार यह स्पष्ट है कि कोई भी विधायक सदन में नारेबाजी नहीं कर सकते, पहले ही विधायकों को इसकी जानकारी दी गयी है. इतना ही नहीं विधायक सदन में कागज फाड़ कर भी नहीं फेंक सकते, फिर भी यदि कोई ऐसा करता है तो उनके खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई करने का प्रावधान है. इस दिन आदेश की अवेहलना कर जब विधायकों ने नारेबाजी की तो स्पीकर ने इस पर नाराजगी जतायी. बाद में बातचीत करते हुए जोयेल मुर्मु ने कहा कि जानबूझ कर मैंने कुछ नहीं कहा बल्कि मेरे अंदर से ही जय श्रीराम की ध्वनि निकल पड़ी. 
 
उल्लेखनीय है कि विधानसभा की जिन आठ सीटों के लिए उपचुनाव हुए उनमें से चार सीटों पर भाजपा को जीत मिली है, जबकि तृणमूल को तीन व कांग्रेस को एक सीट पर जीत मिली है. इस तरह अब भाजपा विधायकों की संख्या बढ़ कर छह हो गयी है. हालांकि लोकसभा चुनाव के बाद हालिया दिनों में चार तृणमूल व एक माकपा विधायक ने भाजपा का दामन थाम लिया है. 
 
उल्लेखनीय है कि  भांटपाड़ा सीट से निर्वाचित भाजपा विधायक पवन कुमार सिंह, दार्जिलिंग से नीरज तमांग जिमबा, हबीबपुर से जोयेल मुर्मु, कृष्णगंज से अशीष कुमार विश्वास ने शपथ ली. जबकि तृणमूल के तीन नवनिर्वाचित विधायकों में इस्लामपुर से अब्दुल करीम चौधरी, नोवदा से साहिना ममताज बेगम (खान), उलबेड़िया पूर्व से इदरिश अली ने शपथ ली. वहीं, कांदी से कांग्रेस के नवनिर्वाचित विधायक शफीउल आलम खान (बानु खान) ने शपथ ली. 
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement