Advertisement

calcutta

  • Jun 13 2019 2:27AM
Advertisement

मेधा में बंगाल के विद्यार्थी सर्वश्रेष्ठ : ममता

विद्यार्थियों को अभिभावकों व शिक्षकों का सम्मान करने की दी सलाह

 
कोलकाता : राज्य के स्कूल शिक्षा विभाग की ओर से बुधवार को नेताजी इंडोर स्टेडियम में माध्यमिक, उच्च माध्यमिक, आइसीएसइ, आइएससी, सीबीएससी (10+12)  के राज्य के सभी टॉपर छात्र-छात्राओं को सम्मानित किया गया. इस माैके पर मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि बच्चे देश का भविष्य हैं, उनको बेहतर शिक्षा व संस्कार देकर अच्छा इंसान बनाने में अभिभावकों व शिक्षकों की महत्वपूर्ण भूमिका है.
 
मेधा के मामले में बंगाल के छात्रों का कोई जवाब नहीं है. अमरीका से लेकर ऑस्ट्रेलिया तक बंगाल की प्रतिभाओं का कोई विकल्प नहीं है. शिक्षा के क्षेत्र में बच्चों के उत्कृष्ट नतीजे हासिल करने का श्रेय स्कूल के शिक्षकों को भी जाता है. मुख्यमंत्री ने बच्चों को इस बात की सलाह दी कि वे हमेशा अपने माता-पिता का सम्मान करें. उनकी कामयाबी में माता-पिता की कड़ी मेहनत व त्याग जुड़ा हुआ है. परीक्षा के दिनों में एक मां बच्चे का जितना ध्यान रखती हैं, कोई नहीं रख सकता है. बच्चों की सफलता से ही माता-पिता गौरवान्वित होते हैं. 
 
मुख्यमंत्री ने छात्र-छात्राओं को इस बात के लिए प्रेरित किया कि वे अपने लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए आसपास हो रहीं हिंसात्मक गतिविधियों पर ज्यादा ध्यान न दें. इससे उनके दिमाग में नकारात्मकता बढ़ेगी. विद्यार्थी पौष्टिक भोजन खायें, व्यायाम करें व हमेशा अपना दिमाग ठंडा रखें. मुख्यमंत्री ने छात्रों से आह्वान किया कि वे खूब पढ़ें, आगे बढ़ें. उनको हर तरह का अवसर दिया जायेगा. अगर वे आइएएस बनना चाहते हैं, तो उनकी ट्रेनिंग के लिए भी सरकार ने व्यवस्था की है.
 
राज्य में 80 ट्रेनिंग सेंटर बनाये गये हैं. किसी भी अभाव के कारण शिक्षा से कोई बच्चा छूटना नहीं चाहिए. मुख्यमंत्री ने इस बात का दावा किया कि राज्य में कन्याश्री योजना से स्कूलों व कॉलेजों में लड़कियों की संख्या में इजाफा हुआ है. कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने मेधावी विद्यार्थियों को पुरस्कार स्वरूप मोमेंटो, मानपत्र, लैपटॉप, मेडल, घड़ी, गुलदस्ता, पेन, मिठाई, उपहार, चॉकलेट व एक किताबों से भरा बैग दिया.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement