Advertisement

bbc news

  • Dec 2 2019 10:49PM
Advertisement

बीएचयू संस्कृत विवाद: फ़िरोज़ ख़ान को आयुर्वेद में भेजने की तैयारी?

बीएचयू संस्कृत विवाद: फ़िरोज़ ख़ान को आयुर्वेद में भेजने की तैयारी?
फ़िरोज़ ख़ान बीएचयू में जॉइन करने के बाद से संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय के गेट के भीतर पैर तक नहीं रख सके हैं. क्लास लेने की बात तो दूर की है.

वो बनारस में ही हैं लेकिन कहां हैं ये उनके सिवा शायद ही कोई जानता हो. यूनिवर्सिटी प्रशासन कुछ कहने की स्थिति में नहीं है, न ही वो यह बता पाया है कि वो फ़िरोज़ ख़ान का मज़हब के आधार पर बहिष्कार क्यों नहीं रोक पाया है.

जो छात्र विरोध कर रहे हैं उनका अब भी कहना है कि वो संकाय में फ़िरोज ख़ान को नहीं आने देंगे. इस पूरे विवाद के बीच फ़िरोज़ ख़ान ने बीएचयू के आयुर्वेद विभाग में इंटरव्यू दिया और उनका चयन भी हो गया है. संभव है कि आने वाले दिनों में फ़िरोज़ आयुर्वेद में जॉइन कर सकते हैं. चार दिसंबर को फ़िरोज़ का कला संकाय के संस्कृत विभाग में भी इंटरव्यू है.

एक संकाय में जॉइन करने के बाद कहीं और इंटरव्यू देना उन पर दबाव से जोड़कर देखा जा रहा है. प्राचीन भारतीय इतिहास और संस्कृति पुरातत्व विभाग के प्रोफ़ेसर एमपी अहीरवार का कहना है कि फ़िरोज़ ने दबाव में आकर वहां इंटरव्यू दिया है और चयन होने के बाद वहां जॉइन करने के लिए भी वो मजबूर होंगे.

कला संकाय में भी होना है इंटरव्यू

हालांकि यूनिवर्सिटी का कहना है कि कोई भी व्यक्ति एक विभाग में जॉइन करने के बाद भी दूसरे विभाग में आवेदन करने के लिए स्वतंत्र है. बीएचयू के एपीआरओ चंद्रशेखर का कहना है, ''फ़िरोज़ ने संस्कृति विद्या धर्म विज्ञान संकाय में जॉइन करने से पहले ही आयुर्वेद और कला संकाय में आवेदन किया था. इंटरव्यू देने या न देने या चयन होने पर जॉइन करना या न करना यह उनका अधिकार है.''

यूनिवर्सिटी का बयान इस लाइन पर ठीक है कि कोई किसी भी विभाग में इंटरव्यू दे सकता है लेकिन फ़िरोज़ ख़ान ने क्या अपनी इच्छा से वहां इंटरव्यू दिया है? इस सवाल का जवाब फ़िरोज़ ख़ान ख़ुद भी नहीं देना चाहते हैं. संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय के कई छात्र अब भी इस बात पर अड़े हुए हैं वो फ़िरोज़ को संकाय के भीतर नहीं जाने देंगे.

विरोध कर रहे छात्रों में से एक चक्रपाणि ओझा कहते हैं, ''महामना मालवीय जी ने इस संकाय को सनातन धर्म के मूल्यों के हिसाब से बनाया था. इस संकाय में आने वाले विद्यार्थी तय गणवेष में होते हैं. फ़िरोज़ ख़ान के लिए इसका पालन करना आसान नहीं है. वो ख़ुद ही यहां आकर असहज महसूस करेंगे. हम लोगों का विरोध जारी है. यह तब तक नहीं थमेगा जब तक कि फ़िरोज़ ख़ान को किसी और डिपार्टमेंट में नहीं भेज दिया जाता है.''

https://www.youtube.com/watch?v=Y6cmbp35Tcg

चक्रपाणि ओझा का कहना है कि 10 दिसंबर से परीक्षा है और अगर फ़िरोज़ ख़ान पर कोई फ़ैसला नहीं होता है तो परीक्षा नहीं होने देंगे.

'कोई तीसरा रास्ता निकलेगा'

फ़िरोज़ ख़ान की यह पहली नौकरी है. लेकिन वो मुसलमान होने के कारण नौकरी नहीं कर पा रहे हैं. जो उनका विरोध कर रहे हैं उनके ख़िलाफ़ प्रशासन ने अब तक कोई कार्रवाई नहीं की है. ऐसे में कोई व्यक्ति किसी दूसरे विभाग में शिफ़्ट होने के लिए इंटरव्यू दे रहा है तो इसमें दबाव और मजबूरी को देखना बहुत अतार्किक नहीं लगता है.

बीएचयू में राजनीतिक विज्ञान के प्रोफ़ेसर आरपी पाठक पूरे विवाद पर कहते हैं, ''यूनिवर्सिटी प्रशासन सख़्ती इसलिए नहीं दिखा रहा है क्योंकि छात्र भावनात्मक मुद्दा उठा रहे हैं. विरोध करने वाले छात्र धर्म औ परंपरा को ढाल बना रहे हैं. ऐसे में प्रशासन सख़्ती बरतने से बच रहा है. संभव है कि कोई तीसरा रास्ता निकल जाए. तीसरे रास्ते का मतलब है कि वो दूसरे विभाग में जॉइन कर ले. यह सांप भी मर जाए और लाठी भी न टूटे वाली स्थिति होगी. लेकिन कोई व्यक्ति ख़ास धर्म के कारण उस संकाय में नहीं पढ़ा पाएगा यह ठीक नहीं है. वो अपनी प्रतिभा के दम पर यहां आया था और उसे यहीं रहना चाहिए.''

https://www.youtube.com/watch?v=tnpv3h8swy4

प्रोफ़ेसर आरपी पाठक कहते हैं कि फ़िरोज़ ख़ान के समर्थन में कई लोग खड़े हैं. वो कहते हैं, ''प्रशासन कुछ वैकल्पिक रास्ता देख रहा है जहां कोई विवाद ना हो. आयुर्वेद में उसका चयन हुआ है और वहां भी टॉप पर है. ऐसे में संभव है कि वहीं जॉइन कर ले.''

'फ़िरोज़ ख़ान कुछ ज़्यादा ही डरे हुए हैं'

फ़िरोज़ ख़ान के पिता रमज़ान ख़ान को भी लगता है कि उनका बेटा बिना किसी विवाद के नौकरी करे. वो कहते हैं, ''मेरा बेटा तो वही करेगा जो यूनिवर्सिटी प्रशासन चाहेगा. शांति से सब हो जाए. कोई झंझट की स्थिति न बने. मैं भी चाहता हूं कि वो आराम से नौकरी करे.''

कुछ लोगों को यह भी लगता है कि फ़िरोज़ ख़ान को किसी से डरना नहीं चाहिए था और उन्हें क्लास लेने जाना चाहिए था. बीएचयू के राजनीतिक विज्ञान से पीएचडी कर रहे विकास सिंह कहते हैं, ''फ़िरोज़ ख़ान कुछ ज़्यादा ही डरे हुए हैं. जितने लोग उनका विरोध कर रहे हैं उनसे ज़्यादा लोग उनके समर्थन में हैं. यूनिवर्सिटी प्रशासन भी उनके ख़िलाफ़ नहीं जा सकता है."

"फ़िरोज़ अगर संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय में आते तो उन्हें कोई रोक नहीं देता और अगर कोई रोकता तो हर जगह मीडिया है, पुलिस और लोग हैं. उन्हें कोई मार नहीं सकता है और अगर ऐसा होता तो यूनिवर्सिटी प्रशासन पर सवाल खड़ा होता. आयुर्वेद में जाकर इंटरव्यू देना उनके डर को ही दिखाता है. उनका डरना विरोध करने वालों के लिए ऊर्जा है.''

बीएचयू
BBC

फ़िरोज़ ख़ान की नियुक्ति संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय के संस्कृत साहित्य में हुई है लेकिन छात्र भ्रम फैला रहे हैं कि उन्हें धर्म और कर्मकांड पढ़ाना है. संभव है कि फ़िरोज़ को मुसलमान होने के कारण कहीं और जाना पड़े लेकिन जिनके कारण जाना पड़ेगा उनकी मांग यहीं रुक जाएगी इसे कोई नहीं जानता और फ़िरोज़ ख़ान जहाँ जाएंगे वहां इस तरह का विरोध नहीं होगा इसकी भी कोई गारंटी नहीं दे सकता.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

]]>
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement