Advertisement

bbc news

  • Nov 14 2019 10:49AM
Advertisement

सबरीमला में महिलाओं के प्रवेश पर पुनर्विचार याचिका बड़ी बेंच के पास गई

सबरीमला में महिलाओं के प्रवेश पर पुनर्विचार याचिका बड़ी बेंच के पास गई

सबरीमला

Getty Images

सुप्रीम कोर्ट ने केरल के सबरीमला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश के फ़ैसले के ख़िलाफ़ दाख़िल की गई पुनर्विचार याचिका को पाँच जजों की बेंच ने बड़ी बेंच के पास भेज दी है.

पाँच जजों की बेंच में से तीन ने कहा कि यह मामला बड़ी बेंच के पास भेजा जाए.

मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता में जस्टिस आरएफ़ नरीमन, एएन खनविलकर, डीवाई चंद्रचूड़ और इंदू मल्होत्रा की बेंच ने यह फ़ैसला सुनाया.

इसी साल फ़रवरी महीने में सुप्रीम कोर्ट ने मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर अपने फ़ैसले पर पुनर्विचार याचिका की सुनवाई करने के बाद निर्णय सुरक्षित रख लिया था.

सुप्रीम कोर्ट ने इससे पहले सबरीमला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर लगी पाबंदी हटा दी थी. केरल सरकार ने पुनर्विचार याचिका का विरोध करते हुए कोर्ट में कहा कि महिलाओं को रोकना हिन्दू धर्म में अनिवार्य नहीं है.

सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के बाद सबरीमला मंदिर में दो महिलाएं किसी तरह पहुंच पाई थीं. हालांकि इनके प्रवेश से केरल में व्यापक विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया था. बीजेपी सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले का विरोध कर रही थी.

तब केरल सरकार की तरफ़ से वक़ील जयदीप गुप्ता ने कोर्ट में कहा था, 'धर्म में ज़रूरी अनुष्ठानों के प्रचलन और एक मंदिर में ज़रूरी अनुष्ठानों के प्रचलन का हम घालमेल नहीं कर सकते. कोर्ट ने इस बात को महसूस किया कि किसी एक मंदिर की परंपरा हिन्दू धर्म की अनिवार्य पंरपरा नहीं हो सकती. इसमें कुछ भी समीक्षा लायक नहीं है.'

सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के बाद जिन दो महिलाओं ने सबरीमला में जाने की हिम्मत जुटाई थी उन पर हमले भी हुए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

]]>

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement