Advertisement

Delhi

  • Jun 3 2019 2:05PM
Advertisement

डोभाल फिर बने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार, मिला कैबिनेट मंत्री का दर्जा

डोभाल  फिर बने  राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार, मिला कैबिनेट मंत्री का दर्जा

नयी दिल्ली :  राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूसरे कार्यकाल में भी इस पद पर बने रहेंगे. इस बार डोभाल को कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया गया है. उनकी नियुक्ति फिर से पांच साल के लिए की गयी है. पहले  कार्यकाल में डोभाल के काम की खूब तारीफ हुई.  पाकिस्तान के बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानों पर एयर स्ट्राइक अजीत डोभाल की निगरानी में ही हुई थी. उन्होंने खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इसकी जानकारी दी थी. वह पाकिस्तान के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक के दौरान भी सबसे ज्यादा चर्चा में आए थे.

साल 2016 में जब पाक अधिकृत कश्मीर पर सर्जिकल स्ट्राइक की योजना बनी थी, तो डोभाल ने तीनों सेना प्रमुख की बैठक बुलायी थी जिसमें सर्जिकल स्ट्राइक पर सहमति बनी थी. मिशन के तहत एलओसी के उस पार आठ आतंकी कैंपों पर हमला किया जाएगा. डोभाल पाकिस्तान के लाहौर में अपने देश की रक्षा के लिए 7 साल तक मुसलमान बनकर रहे थे.
 
उन्हें भारत के सैन्य सम्मान कीर्ति चक्र से सम्मानित किया गया. यह सम्मान पाने वाले वह पहले अफसर थे. 1968 केरल बैच के IPS अफसर अजीत डोभाल अपनी नियुक्ति के चार साल बाद साल 1972 में इंटेलीजेंस ब्यूरो से जुड़ गए थे. अजीत डोभाल ने करियर में ज्यादातर समय खुफिया विभाग में ही काम किया है.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement