1. home Hindi News
  2. election
  3. up assembly elections
  4. young and old voters of up may be game changer in up election 2022 nrj

UP Election 2022: युवा मतदाता बनेंगे ‘गेम चेंजर्स’, बुजुर्गों के ‘आशीर्वाद’ बिना माननीय बनना मुश्किल

इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर उत्तर प्रदेश में तैयारियां जोरों पर हैं. एक तरफ राजनीतिक दल अपनी सारी कोशिश कर रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर चुनाव आयोग भी कमर कसे हुए है.

By Prabhat Khabar Digital Desk, Lucknow
Updated Date
UP Election 2022: फाइनल मतदाता सूची का प्रकाशन
UP Election 2022: फाइनल मतदाता सूची का प्रकाशन
Prabhat khabar

UP Voter List: उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव में युवा वोटर्स ‘गेम चेंजर’ की भूमिका निभा सकते हैं. तकरीबन 15 लाख युवा मतदाता इस बार अभियान चलाकर निर्वाचन आयोग ने जोड़े हैं. इनकी उम्र 18 से 19 साल के बीच है. वहीं, करीब 80 साल से ऊपर के 24 लाख बुजुर्ग मतदाता अपने मत का प्रयोग करते हुए विधानसभा चुनाव में निर्णायक भूमिका निभा सकते हैं.

बता दें कि इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर उत्तर प्रदेश में तैयारियां जोरों पर हैं. एक तरफ राजनीतिक दल अपनी सारी कोशिश कर रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर चुनाव आयोग भी कमर कसे हुए है. इसी क्रम में मुख्य निर्वाचन अधिकारी की ओर से यह बताया गया है कि इस बार के चुनाव में 18 से 19 साल के बीच वाले करीब 14.66 लाख युवा अपने मत का प्रयोग करेंगे. यानी इस बार के चुनाव में युवा मतदाता ‘गेम चेंजर’ की भूमिका निभा सकते हैं.

बुधवार को जारी की गई इस सूची के मुताबिक मुख्य निर्वाचन अधिकारी अजय कुमार शुक्ला ने बताया कि जनसंख्या के हिसाब से मतदाताओं की संख्या बढ़ी है. पहले यह जहां 61.21 था, वहीं अब यह 62.52 प्रतिशत हो गया है. इस सूची में बुजुर्ग मतदाताओं की संख्या भी कम नहीं है. इस बार करीब 80 साल से ऊपर के 24 लाख बुजुर्ग मतदाता अपने मत का प्रयोग करते हुए विधानसभा चुनाव में निर्णायक भूमिका निभा सकते हैं.

गौरतलब है कि अभियान शुरू होने से पहले प्रदेश में कुल 14.4 करोड़ मतदाता थे. वहीं, अभियान पूरा होने के बाद इन मतदाताओं की संख्या बढ़कर 15.02 हो गई है. इस सूची में पुरुष मतदाता 8.45 करोड़ और महिला मतदाता 6.80 करोड़ है. उनके अतिरिक्त 8853 थर्ड जेंडर भी निर्वाचन आयोग के साथ जुड़ चुके हैं. थर्ड जेंडर की सूची में 1636 नए नाम जुड़े हैं. 10 लाख से अधिक मतदाताओं के नाम उनकी मौत की वजह से 3.35 लाख के नाम दूसरी जगह जा बसने की वजह से और 7.94 लाख नाम रिपीट होने की वजह से सूची में से हटाए गए हैं.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें