कल निकलेगी भगवान शिव की बरात, 40 फुट का शिवलिंग होगा आकर्षण

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

बलिया : महाशिवरात्रि को लेकर शहर सहित ग्रामीण इलाकों में भी तैयारी अंतिम दौर में चल रही है. 21 फरवरी को जगह-जगह भगवान शिव की बरात निकलेगी. साथ ही मंदिरों पर श्रद्धालुओं का मेला लगेगा. शहर में सिनेमा रोड पर तैयार हो रहा 40 फुट का शिवलिंग श्रद्धालुओं के लिए आकर्षण का केंद्र बनेगा, तो बालेश्वर मंदिर से निकलने वाली झांकी में बंगाल से आने वाली टीम भी भव्यता के साथ अपनी ओर खींचेगी. बालेश्वर नाथ मंदिर को भी सजाया जा रहा है. साथ ही सुरक्षा की दृष्टि से बैरिकेडिंग सहित अन्य तैयारियां भी तेज हो गयी है.

उधर, श्री बाबा बालेश्वर नाथ मंदिर प्रबंधन कमेटी की ओर से शिव विवाहोत्सव की पूर्व संध्या पर 20 फरवरी को सुबह 11 बजे से निमंत्रण यात्रा निकाली जायेगी. कमेटी के अध्यक्ष अजय चौधरी डब्लू ने बताया कि मंदिर से बाइक जुलूस निकालकर नगर भ्रमण किया जायेगा. इस दौरान नगरवासियों के साथ ही जिले के शिवभक्तों को शिव विवाह उत्सव में आने के लिए आमंत्रित करेंगे.
बालेश्वर नाथ मंदिर से निकलेगी विवाहोत्सव निमंत्रण यात्रा
महाशिवरात्रि की तैयारी अंतिम दौर में, मंदिरों की भी हो रही सजावट
शहर सहित ग्रामीण इलाकों में लगेगा शिवभक्तों का मेला
नगवा के बाबा गरीबानाथ पूरी करते हैं भक्तों की मुराद
शिव मंदिरों पर सफाई सहित अन्य तैयारी तेज
नगरा. महाशिवरात्रि के पर्व को श्रद्धा व हर्षोल्लास के साथ मनाने को लेकर तैयारियां तेज कर दी गयी हैं. क्षेत्र में स्थित शिवालयों की रंगाई-पुताई के साथ ही उन्हें सजाने का काम जारी है. शुक्रवार को महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जायेगा. पांडेयपुर स्थित प्रसिद्ध कामेश्वरनाथ मंदिर, नगरा स्थित शिव मंदिर, नरही गांव में स्थित नाथबाबा मंदिर सहित क्षेत्र के दर्जनों शिवालय व मंदिरों में महाशिवरात्रि की तैयारियां तेजी से चल रही हैं.
भक्तों की मनोकामना पूरी करने वाले कामेश्वर नाथ मंदिर परिसर में सांस्कृतिक कार्यक्रम व नाथबाबा मंदिर नरही पर दो दिवसीय सांस्कृतिक कार्यक्रम के अलावा विशाल मेले का आयोजन होगा. शिवालयों में पुरुष व महिला दर्शनार्थियों को कोई दिक्कत न हो, इसका विशेष ध्यान रखा जा रहा है. नगरा थाना प्रभारी यादवेंद्र पांडेय ने बताया महाशिवरात्रि को सकुशल संपन्न करने के लिए तैयारियां पूरी हो चुकी है. श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए क्षेत्रों में स्थित शिवालयों पर पुलिसकर्मी तैनात किये जायेंगे.
अवनि नाथ महादेव मंदिर को भव्य बनाती हैं सुरहा की वादियां
बांसडीह. बलिया- बांसडीह मार्ग स्थित बड़सरी गांव के समीप बाबा अवनि नाथ महादेव का मंदिर स्थित है. सुरहा ताल का सुरम्य वातावरण इस मंदिर को चार चांद लगाता है. ऐसी मान्यता है कि अवनि नाथ महादेव मंदिर का निर्माण राजा सूरथ के द्वारा कराया गया. राजा सूरथ अपना राज्य हारकर व कुष्ठरोग से प्रभावित हो यहां आकर जंगल मे छिपकर रह रहे थे. अचानक राजा सुरथ को शौच की इच्छा हुई लेकिन पानी नहीं होने के कारण वह मजबूर थे.
तब किसी कुंभार के द्वारा वहां खुदाई कराएं, तो वहां पानी का भंडार मिला. हाथ साफ करते वक्त उस मिट्टी व पानी के प्रभाव से उनका हाथ सुवर्ण हो गया, तो राजा सुरथ वहीं रुककर आस-पास के लोगों के प्रयास से लगभग चौदह किलोमीटर की दूरी में खुदाई कराकर सुरहताल का निर्माण करवाया. आज भी राजा सुरथ के नाम पर ही सुरहताल है. उसके बाद राजा सुरथ सुरहताल के किनारे स्थित गांवों में पांच मंदिरों का निर्माण कराया.
इसमें तीन शिवमंदिर और दो मां भगवती का मंदिर है. ग्रामीणों के मुताबिक बाबा अवनिनाथ महादेव मंदिर (बड़सरी), बाबा बनखंडी नाथ महादेव मंदिर (दिउली बांसडीहरोड), शोकहरन नाथ महादेव मंदिर (असेगा बेरुआरबारी), मां ब्राह्मणी भगवती मंदिर (ब्रह्माइन) और शंकरपुर स्थित शांकरी भगवती मंदिर शामिल है.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें