1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. munger
  5. munger 10 furnaces and 2500 kg of mahua java destroyed by raiding in the forest against illegal liquor ksl

Munger: अवैध शराब के खिलाफ जंगल में छापेमारी कर नष्ट किये गये 10 भट्ठी और 2500 किलो महुआ जावा, 2 गिरफ्तार

जिले के हवेली खडगपुर में अवैध शराब के खिलाफ जंगल में छापेमारी कर 10 भट्ठी और 2500 किलो महुआ जावा नष्ट किया गया. साथ ही दो कारोबारियों को गिरफ्तार किया गया है.

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
Munger: हवेली खडगपुर में जब्त शराब और भट्ठियाें को नष्ट करती पुलिस.
Munger: हवेली खडगपुर में जब्त शराब और भट्ठियाें को नष्ट करती पुलिस.
प्रभात खबर

Munger: जिले के हवेली खडगपुर में अवैध देसी महुआ शराब के खिलाफ लगातार शामपुर सहायक थाना क्षेत्र के अंतर्गत पहाड़ी व जंगली इलाकों में सघन छापेमारी कर रही है. इसी कड़ी में शुक्रवार को उत्पाद विभाग मुंगेर, एलटीएफ मुंगेर और शामपुर सहायक थाना पुलिस के संयुक्त अभियान में थाना क्षेत्र के सुदूरवर्ती जंगली इलाकों में छापेमारी की गयी.

उत्पाद विभाग मुंगेर के नेतृत्व में की गयी छापेमारी में अवैध शराब की 10 भट्ठियों को नष्ट किया गया. साथ ही मौके से करीब 10 लीटर देसी शराब बरामद किया गया है. इसके अलावा करीब 2500 किलो फूला हुआ महुआ-जावा को भी नष्ट किया गया. साथ ही दो कारोबारियों को एक मोटरसाइकिल के साथ गिरफ्तार किया गया है.

मामले की जानकारी देते हुए शामपुर सहायक थाना क्षेत्र के थानाध्यक्ष ओम प्रकाश दुबे ने बताया कि छापेमारी अभियान के तहत कारीघाटी, अमझर और ऋषि कुंड के जंगली और पहाड़ी इलाकों में छापेमारी कर 10 लीटर देसी महुआ शराब के साथ एक मोटरसाइकिल को बरामद किया गया है.

इसके अलावा मौके से 2500 किलो फूला हुआ महुआ-जावा जब्त कर नष्ट किया गया. इस मामले में चिरैया बाग पाटम गांव निवासी मनोज कुमार और पाटम गांव निवासी सौरभ कुमार को गिरफ्तार किया गया है. गिरफ्तार आरोपितों के खिलाफ उत्पाद अधिनियम के तहत प्राथमिकी दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है.

मालूम हो कि मुंगेर जिले के हवेली खड़गपुर में पुलिस और एंटी लिकर टास्क फोर्स की टीम ने दो दिन पहले ही दरियापुर मंदिर टोला से सटे जंगल में छापेमरी की थी. उस समय अवैध शराब के निर्माण में लगी शराब की दो भट्टियों को नष्ट करते हुए 400 किलो महुआ नष्ट किया था.

मुंगेर जिले में शराब कारोबारियों पर अंकुश लगाने और माफियाओं का पता लगाने के लिए प्रशासन ड्रोन कैमरे का इस्तेमाल कर रहा है. वहीं, शराबबंदी कानून को सख्ती से लागू करने के लिए लिकर डॉग मेडी और बॉबी की सेवाएं भी ली जा रही हैं. शराब माफियाओं द्वारा छिपायी गयी शराब को सूंघ कर क्षण भर में ढूंढ़ निकालने में ये लिकर डॉग माहिर हैं.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें