1. home Hindi News
  2. religion
  3. mother brahmacharini is the goddess of knowledge penance and disinterest worship mother like this on the second day of navratri

ज्ञान, तपस्या और वैराग्य की देवी हैं मां ब्रह्मचारिणी, नवरात्र के दूसरे दिन ऐसे करें माता की पूजा

By Pritish Sahay
Updated Date

दधाना करपद्माभ्याम्

अक्षमाला कमण्डलू ।

देवी प्रसीदतुमयि ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा ।।

जो दोनों करकमलोंमें अक्षमाला और कमण्डलू धाऱण करती हैं,वे सर्वश्रेष्ठा ब्रह्मचारिणी दुर्गादेवी मुझपर प्रसन्न हों.

देवि प्रपन्नार्तिहरे प्रसीद-2

वासंतिक नवरात्र के दूसरे दिन भगवती दुर्गा के दूसरे स्वरूप ब्रह्मचारिणी के रूप में पूजी जाती है.

नैवेद्य के रूप में दूध,चीनी व कोकरस चढ़ाया जाता है. इससे दीर्घायु, सिद्धि व कार्य में विजय प्राप्त होता है.शक्ति स्वरूपिणी मां के शक्ति की महिमा पर प्रकाश डालते हुए शास्त्रों में कहा गया है-

वर्तते सर्वभूतेषु शक्तिः सर्वात्मना नृप ।

शववच्छक्तिहीनस्तु प्राणी भवति सर्वदा ।।

समस्त भूतों में सर्वरूप से शक्ति विद्यमान है. शक्ति के बिना प्राणी सर्वदा शव के समान हो जाता है.शक्ति एक ही है.आराधकों के गुण-कार्य-भेद से उसके महाकाली, महालक्ष्मी,महासरस्वती,शिव,विष्णु,ब्रह्मा के समानधर्मा रूप हो जाते हैं.कहीं-कहीं आद्यादेवी महालक्ष्मी को मानकर उन्हीं से काली,लक्ष्मी,और स्वरस्वती का प्रादुर्भाव माना गया है-

गणेशजननी दुर्गा राधा लक्ष्मीः सरस्वती ।

सावित्री च सृष्टिविधौ प्रकृतिः पंचधा स्मृता ।।

देवी ने स्वयं कहा है-मैं ही बुद्धि,श्री,कीर्ति,गति,श्रद्धा,मेधा,दया,लज्जा,क्षुधा,तृष्णा एवं क्षमा हूँ.कान्ति,शान्ति,स्पृहा,मेधा,शक्ति और अशक्ति भी मैं ही हूँ.संसार में ऐसा कुछ भी नहीं है,जिसमें मेरी सत्ता न हो.जो कुछ दिखायी देता है वह सब मेरा ही रूप है

देवीभागवतमें भी भगवती को सगुण-निर्गुण उभय रूपसे स्वीकार किया गया है.अन्यत्र भी भगवती को-

सा च ब्रह्मस्वरूपा च नित्या सा च सनातनी।

यथात्मा च तथा शक्तिर्यथासौ दाहिका स्थिता।।

उसी शक्ति को विभिन्न दृष्टियोंसे विद्वानोंने स्वीकार किया है-अर्थात् कोई इसे तप कहते हैं,कोई तम,जड,ज्ञान, माया, प्रधान, प्रकृति, शक्ति, अजा, विमर्श,अविद्या कहते हैं.

प्रस्तुति-डॉ.एन.के.बेरा

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें