15.1 C
Ranchi
Friday, February 23, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

Homeधर्मAsh Wednesday 2024: इस्टर से पहले क्यों मनाया जाता है राख बुधवार, जानिए क्या होता है 40 दिनों का...

Ash Wednesday 2024: इस्टर से पहले क्यों मनाया जाता है राख बुधवार, जानिए क्या होता है 40 दिनों का ‘लेंट काल’

ईस्टर पर्व के पहले क्यों ईसाई धर्म के लोग बंद कर देते हैं मांस का सेवन? क्या होता है 40 दिनों का लेंट काल, जानिए ईस्टर और राख बुधवार से जुड़ी सारी बातें.

फरवरी के एक विशेष बुधवार को, आपको माथे पर राख के निशान लगाए हुए लोग मिल सकते हैं. हालांकि यह कुछ लोगों को असामान्य लग सकता है, इस खास दिन को राख बुधवार या Ash Wednesday के नाम से जाना जाना जाता है. ये विशेष दिन ईसाई धर्म के सबसे लोकप्रिय और महत्वपूर्ण पवित्र दिनों में से एक है, खासकर कैथोलिक संप्रदाय के लिए. राख बुधवार लेंटेन सीज़न की शुरुआत का भी प्रतीक है जो ईस्टर तक चलता है.

राख बुधवार क्या है?

राख बुधवार जिसे राख के दिन के रूप में भी जाना जाता है ये ईसाई धर्म के लोगों के लिए पश्चाताप और उपवास का दिन है, जब ईसाई, विशेष रूप से कैथोलिक, अपने पापों को स्वीकार करते हैं और भगवान के प्रति अपनी भक्ति व्यक्त करते हैं विशेष रूप से रोमन कैथोलिकों के लिए, राख बुधवार लेंट के 46-दिवसीय सीज़न की शुरुआत है, जो ईस्टर तक की चलता है.

राख बुधवार के दिन लोग राख क्यों लगाते हैं?

राख बुधवार के पवित्र दिन के दौरान, कुछ चर्च उपासकों के माथे पर राख का क्रॉस अंकित होते हैं. पिछले वर्ष की पाम संडे सेवा से ताड़ की शाखाओं से बनी राख को एक पुजारी द्वारा पैरिशियन के माथे पर लगाया जाता है जो कहेगा, “याद रखें कि आप धूल हैं, और आप मिट्टी में लौट जाएंगे.” इस दिन ईसाई धर्म के लोग अपने पापों को स्वीकार करते हैं और पश्चाताप दिखाते है. यूएसए टुडे की एक रिपोर्ट के अनुसार, यह परंपरा 1901 से चली आ रही है.

लेंट क्या है?

लेंट 46-दिवसीय पूजा-पद्धति का समय है जो ईस्टर की छुट्टियों से पहले होता है, जो यीशु के जीवन, सूली पर चढ़ने और पुनर्जीवन के जश्न को मनाता है. यूनाइटेड स्टेट्स कॉन्फ्रेंस ऑफ कैथोलिक बिशप्स के अनुसार, राख बुधवार कई ईसाइयों के लिए तपस्या, दान और उपवास का समय है. लेंट उन 40 दिनों का भी प्रतिनिधित्व करता है जब यीशु बपतिस्मा लेने के बाद प्रार्थना और उपवास करते हुए रेगिस्तान में भटकते रहे. लेंट के दौरान रविवार को उपवास और संयम के “निर्धारित दिन” नहीं हैं, इसलिए उनकी गिनती नहीं होती है. लेंट का समापन पवित्र गुरुवार, 28 मार्च को होता है, जिसमें यीशु के अंतिम भोज का प्रतिनिधित्व करने वाली सामूहिक प्रार्थना होती है.

लेंट के लिए क्या त्याग करें?

कैथोलिकों को राख बुधवार या शुक्रवार को लेंट के दौरान मांस नहीं खाना चाहिए. हालांकि, बच्चों और बुजुर्गों को आमतौर पर उपवास करने और मांस छोड़ने से छूट दी जाती है. हालांकि मांस ही एकमात्र ऐसी चीज़ नहीं है जिसे आप लेंट के लिए छोड़ सकते हैं. बहुत से लोग चॉकलेट, कैंडी, शराब या अन्य स्वादिष्ट या पसंदीदा भोजन छोड़ देते हैं. अन्य लोग टीवी देखने या सोशल मीडिया का उपयोग करने से परहेज कर सकते हैं.

Also Read: Vastu Tips: घर को सजाते वक्त रखें इन बातों का ध्यान, कभी नहीं होगी धन की कमी

ईस्टर कब है?

लेंट का समापन ईस्टर रविवार के साथ होता है, जो 31 मार्च, 2024 को मनाया जाएगा. तारीख हर साल अलग होती है. पूर्वी रूढ़िवादी चर्च विशिष्ट ग्रेगोरियन के बजाय जूलियन कैलेंडर का पालन करते हैं, जिसके अनुसार पहले रविवार को पाल्म संडे के रुप में मनाया जाता है और इसका ईस्टर उत्सव अगले रविवार, 5 मई को होता है.

रिपोर्ट – पुष्पांजलि

Also Read: Vastu Tips: गलत दिशा में लगाएंगे शमी तो हो जायेगा सर्वनाश, जानिए कौन-सी है सही दिशा?

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें