Advertisement

ranchi

  • Sep 20 2019 12:42PM
Advertisement

Ranchi : वन-वे के विरोध में व्यापारियों ने अपर बाजार में किया प्रदर्शन, चैंबर पर लगाये गंभीर आरोप

Ranchi : वन-वे के विरोध में व्यापारियों ने अपर बाजार में किया प्रदर्शन, चैंबर पर लगाये गंभीर आरोप

पंकज कुमार पाठक

रांची : झारखंड की राजधानी की थोक मंडी अपर बाजार के व्यापारियों ने वन-वे के विरोध में शुक्रवार को जमकर प्रदर्शन किया. उन्होंने ‘वन-वे वापस लो’ और ‘ट्रैफिक पुलिस हाय-हाय’ के नारे लगाये. झारखंड चैंबर ऑफ कॉमर्स पर गंभीर आरोप लगाये. हालांकि, चैंबर के अध्यक्ष ने आरोपों को सिरे से खारिज किया और कहा कि शाम में इसी मुद्दे पर ट्रैफिक एसपी से उनकी बैठक होने वाली है. उसमें इस समस्या का कोई न कोई हल जरूर निकल आयेगा.

अपर बाजार के व्यापारियों का कहना है कि इस रोड को वन-वे करने की वजह से उनकी रोजी-रोटी पर आफत आन पड़ी है. बिक्री खत्म हो गयी है. दुकान का किराया चुकाने लायक कमाई नहीं हो रही. जब से इसे वन-वे किया गया है, अपर बाजार की रौनक खत्म हो गयी. व्यापारियों ने कहा कि देश की किसी भी थोक मंडी में ऐसा नहीं होता. कोलकाता से लेकर दिल्ली तक में मंडियों में वन-वे नहीं किया जाता.

व्यापारियों ने prabhatkhabar.com से बातचीत में कहा कि व्यापारियों के पेट पर लात मारने की यह साजिश है. एक ओर जाम के नाम पर सड़क को वन-वे किया जा रहा है, तो दूसरी ओर बड़े व्यापारियों को इससे छूट दी जा रही है. उन्होंने बताया कि चुरुवाला गली में भी वन-वे लागू हुआ था, लेकिन बड़े लोगों के दबाव में इस आदेश को वापस ले लिया गया. लेकिन, छोटे व्यापारियों की कोई नहीं सुन रहा.

व्यापारियों ने कहा कि यदि वन-वे ही करना है, तो पूरे बाजार में इस व्यवस्था को लागू किया जाये. महावीर चौक के आगे दोनों ओर से वाहनों का आवागमन बदस्तूर जारी है. एक साजिश के तहत इस आधी-अधूरी व्यवस्था को लागू किया गया है, जो व्यापारियों को नुकसान पहुंचा रहा है. उन्होंने कहा कि जल्द ही उनकी आवाज नहीं सुनी गयी, तो अपर बाजार के व्यापारी पूरे परिवार के साथ धरना देंगे.

उन्होंने कहा कि पुलिस और प्रशासन से लेकर तमाम राजनीतिक दलों तक वे अपनी बात पहुंचा चुके हैं. जब कोई रास्ता नहीं बचा, तो उन्हें सड़क पर उतरना पड़ा. उन्होंने यह भी कहा कि ट्रैफिक एसपी को खुद यहां आना होगा और उनकी समस्या का समाधान करना होगा. जब तक व्यवसायी हितों की अनदेखी करने वाली व्यवस्था में बदलाव नहीं होता, उनका आंदोलन जारी रहेगा.

इधर, चैंबर अध्यक्ष कुणाल ने फोन पर prabhatkhabar.com को बताया कि इस मामले को लेकर उन्होंने जीतने के तुरंत बाद बैठक की थी. अपर बाजार के व्यापारी नेता बनने की कोशिश कर रहे हैं. उनमें से किसी ने चैंबर से बात नहीं की. चैंबर अध्यक्ष ने कहा कि वह व्यापारियों के साथ खड़े हैं और शाम को ट्रैफिक एसपी से इस मामले में उनकी मुलाकात होनी है. अभी अगर कोई फोन पर बात करना चाहे, मिलना चाहे तो स्वागत है, लेकिन बगैर बातचीत किये व्यापारी आरोप लगा रहे हैं कि चैंबर उनका साथ नहीं दे रहा है, तो यह गलत है.

उल्लेखनीय है अपर बाजार में जाम की समस्या से निबटने और आवागमन को सुचारु करने के लिए एक सितंबर, 2019 से वन-वे ट्रैफिक व्यवस्था लागू की गयी है. व्यापारियों का कहना है कि इस व्यवस्था के लागू होने से उनका व्यापार प्रभावित हो रहा है. दुकानदारी खत्म हो गयी है. व्यवस्था वापस नहीं हुई, तो उनका आंदोलन लगातार जारी रहेगा.

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement