Advertisement

patna

  • Oct 11 2019 7:06AM
Advertisement

छठ पूजा की तैयारियां शुरू : 21 सेक्टरों में बांटे गये 91 घाट

पटना : दशहरा संपन्न होते ही महापर्व छठ पूजा के लिए जिला प्रशासन की तैयारियां शुरू हो गयी हैं. डीएम कुमार रवि ने गुरुवार को नासरीगंज से लेकर दीदारगंज तक घाटाें का निरीक्षण किया. इस दौरान पटना के 91 घाटों को 21 सेक्टर में बांटा गया और सभी सेक्टर के लिए नोडल पदाधिकारी नियुक्त किये गये. डीएम ने खतरनाक घाटों की रिपोर्ट तलब की है. यह देखा जा रहा है कि घाट के किनारे नदी की कितनी दूरी पर औसतन पांच फीट की गहराई है. इस संबंध में जानकारी मांगी गयी है.  

31 अक्तूबर से शुरुआत, 3 नवंबर को अंतिम अर्घ : दरअसल छठ पूजा की शुरुआत नहाय-खाय के साथ 31 अक्तूबर से शुरू हो रहा है. एक नवंबर को खरना और दो को पहला अर्घ्य होगा. 3 नवंबर को अंतिम अर्घ्य के साथ पूजा समाप्त हो जायेगा.  इसको लेकर जिला प्रशासन ने तैयारियां शुरू कर दी है. इसके लिए  घाटों की साफ-सफाई हो रही है. पिछले दिनों गंगा नदी में जलस्तर बढ़ने के कारण घाटों पर काफी गंदगी है, डीएम ने निरीक्षण के दौरान तत्काल सफाई शुरू कराने का निर्देश दिया है. दोपहर बाद सफाई शुरू भी कर दी गयी है. 
 
खतरनाक घाटों को चिह्नित कर लगाया जायेगा लाल कपड़ा 
 डीएम ने कहा कि छठ पूजा के लिए समय पर घाट तैयार करना है. घाटों का निरीक्षण, खतरनाक घाटों की पहचान करके लाल कपड़ा लगाने का निर्देश दिया गया है. घाट पर सुविधाओं की रूप-रेखा, वित्तीय लागत एवं माॅनीटरिंग के लिए सेक्टर प्रभारियों को निर्देश दिया गया है. सेक्टर प्रभारी के साथ जल संसाधन विभाग की टीम को भी लगाया गया है.

सीढ़ी और संपर्क पथ बनाये जायेंगे
डीएम ने छठ घाटों के निरीक्षण के दौरान नगर आयुक्त, पटना नगर निगम को निर्देश दिया कि सभी 91 घाटों की सफाई के साथ-साथ संपर्क पथ का निर्माण कार्य प्रारंभ कराएं. घाटों पर सीढ़ी निर्माण का कार्य प्रारंभ करें. निरीक्षण के दौरान डीएम के साथ एसएसपी गरिमा मलिक, नगर आयुक्त पटना नगर निगम अमित कुमार पांडेय, उप विकास आयुक्त सुहर्ष भगत, विशिष्ट अनुभाजन पदाधिकारी जैनेन्द्र कुमार, कार्यपालक अभियंता पटना नगर निगम, कार्यपालक अभियंता जल संसाधन विभाग सहित सभी संबंधित पदाधिकारी उपस्थित थे. 
 
तैयारी में जुटीं बुडको, नगर निगम व अन्य एजेंसियां
  •  घाटों पर उत्कृष्ट सफाई. 
  •  संपर्क पथ का निर्माण. 
  •  उपयुक्त संख्या में जनरेटर, लाइट की व्यवस्था. 
  •  घाट के किनारे सीढ़ी का निर्माण. 
  •  पार्किंग स्थल पर वैरिकेडिंग, ड्रॉप गेट आदि की व्यवस्था. 
  •  घाटों पर शौचालय, चापाकल, चेंजिंग रूम, यात्री शेड का आवश्यक संख्या में निर्माण. 
  •  घाटों पर नियंत्रण कक्ष, वाच टावर, साउंड सिस्टम की व्यवस्था के लिए कार्यपालक अभियंता, पटना भवन प्रमंडल एवं नजारत उप समाहत्र्ता से समन्वय.  
  • घाटों पर पूजा समितियों द्वारा अस्थायी विद्युत कनेक्शन लिया जाना.  
  • विद्युत विभाग द्वारा घाटों के आस-पास एवं संपर्क पथ में अवस्थित विद्युत तारों को व्यवस्थित किया जाना.

सेक्टर प्रभारियों को सौंपी गयी जिम्मेदारी
  • वह अपने दल के सदस्यों के साथ घाटों का नियमित निरीक्षण करेंगे. 
  •  दल के सदस्यों के बीच कार्यों के पर्यवेक्षण का दायित्व चिह्नित करेंगे. 
  • सभी एजेंसियों का सम्पर्क संख्या संग्रहित करेंगे एवं उनसे कार्यों के पूरा करने में समवन्य. 
  •  पूजा समितियों के पदधारकों का संपर्क संख्या संग्रहित करेंगे एवं उनसे समन्वय रखेंगे.
  •  पूजा की अवधि में घाटों पर लगातार कैंप कर यह सुनिश्चित करेंगे कि छठव्रतियों, श्रद्धालुओं की किसी प्रकार की असुविधा न हो. 
  •  प्रतिनियुक्त सभी पदाधिकारियों से तीन दिनों के अंदर घाटों का निरीक्षण कर सौंपना है प्रतिवेदन.
 
पूरी व्यवस्था के लिए दिये गये निर्देश
डीएम ने सभी सेक्टर के नोडल पदाधिकारी को निर्देश दिया कि घाटों के संबंध में निम्न बिंदुओं पर ध्यान दिया जाये कि घाटों के पास एवं सम्पर्क पथ में मचान की आवश्यक संख्या का आकलन, घाटों पर नियंत्रण कक्ष, सहायक नियंत्रण कक्ष की आवश्यकता का आकलन, माइक सिस्टम इत्यादि की समुचित व्यवस्था का आकलन करना है. इसके अलावा घाटों के आस-पास तथा संपर्क पथ में सीसीटीवी कैमरा के लगाने के संबंध में आकलन करना है.
97 छठ घाटों  पर रहेगी पेसू की टीम बनेंगे 7 कंट्रोल रूम
पटना. पेसू ने छठ की तैयारी शुरू कर दी है.  सभी 97 छठ घाटों  पर पेसू की टीम रहेगी. इनमें एक जेई या सहायक अभियंता रैंक के अधिकारी के साथ तीन लाइन मैन रहेंगेे. सात कंट्रोल रूम भी बनाये जायेंगे, जहां कार्यपालक अभियंता के नेतृत्व में लाइनमैन और तकनीशियनों की टीम मौजूद रहेगी, जो किसी भी तरह की जरूरत पड़ते ही घाटों का लाइन काटने का काम करेगी ताकि दुर्घटना या अन्य आपदा की स्थिति में नुकसान को कम किया जा तक ये सारे प्रबंध पूरे कर लिये जायेंगे. 
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement