Advertisement

other state

  • Aug 14 2019 2:54PM
Advertisement

असदुद्दीन ओवैसी का बयान- हमारे मुल्क में अभी भी हैं गोडसे की औलाद, मुझे मार सकते हैं गोली

असदुद्दीन ओवैसी का बयान- हमारे मुल्क में अभी भी हैं गोडसे की औलाद, मुझे मार सकते हैं गोली
हैदराबादः एआईएमआईएम प्रमुख और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने बुधवार को केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला और जम्मू-कश्मीर में कर्फ्यू लगाने का विरोध किया. ओवैसी जम्मू-कश्मीर के मसले पर भारत सरकार पर लगातार हमलावर हैं. उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि केंद्र सरकार को सिर्फ कश्मीरियों की जमीन से प्यार है, उनसे नहीं. इस दौरान ओवैसी ने तमिल सुपरस्टार रजनीकांत के बहाने भी पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह पर तंज कसा.
 
साथ ही ओवैसी ने दो टूक कहा कि फिलहाल घाटी में इमर्जेंसी जैसे हालात हैं. बुधवार को जब उनसे सवाल पूछा गया कि उनपर इस तरह के आरोप लग रहे हैं कि उनके भाषण से पाकिस्तान को मदद मिल रही है. उसपर ओवैसी ने जवाब देते हुए कहा कि मुझे यकीन है कि एक दिन मुझे कोई गोली भी मार देगा. मुझे यकीन है कि जो गोडसे की औलाद हैं, वो ऐसा कर सकते हैं. हमारे मुल्क में अभी भी गोडसे की औलाद हैं.
 
धारा 35 ए का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि मैं एक सांसद हूं लेकिन अरुणाचल प्रदेश और लक्षद्वीप नहीं जा सकता. वहां जाने के लिए इजाजत लेनी होगी. क्या मैं आसाम में जमीन खरीद सकता हूं. उन्होंने कहा कि मैं नगालैंड, मिजोरम, मणिपुर, असम और हिमाचल प्रदेश के लोगों से कहता हूं कि उनके साथ भी ऐसा ही हो सकता है, जो कश्मीर के साथ हुआ है.  
 
उन्होंने कहा कि कश्मीर में इस वक्त आपातकाल जैसे हालात हैं, वहां ना तो फोन चालू हैं और ना ही लोगों को बाहर निकलने की आजादी दी जा रही है. अपने विरोधियों पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि वो लोग खुद देश विरोधी हैं, जो मुझे एंटी नेशनल कहते हैं. हैदराबाद सांसद ने कहा कि नरेंद्र मोदी के खिलाफ बोलना देशद्रोह नहीं है, कश्मीर में तुरंत ही धारा 144 हटाई जानी चाहिए.
 
 
इसके अलावा, ओवैसी ने देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और पहले उपप्रधानमंत्री व गृहमंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल द्वारा कश्मीर पर किए गए फैसले का समर्थन करते हुए यह भी कहा कि भारतीय जनसंघ के नेता श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने भी अनुच्छेद 370 को स्वीकार किया था. ओवैसी ने कहा, मोदी के पास सरदार पटेल और पंडित जवाहरलाल नेहरू जैसी राजनैतिक समझ नहीं है... जब उन्होंने कश्मीर पर फैसला किया था, देशहित में किया था... उनका दावा है कि वे श्यामा प्रसाद मुखर्जी का अनुसरण कर रहे हैं, लेकिन वे नहीं जानते कि उन्होंने अनुच्छेद 370 को कबूल किया था. 

क्या देश में महाभारत चाहती है सरकार 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ मुखर रहने वाले असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि तमिलनाडु के एक अभिनेता (रजनीकांत) ने अनुच्छेद 370 हटाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह को 'कृष्ण तथा अर्जुन' की संज्ञा दी है... तो इन हालात में कौरव और पांडव कौन हैं...? क्या आप देश में एक और 'महाभारत' चाहते हैं...?"
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement