33.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Trending Tags:

Health: सर्दियों के मौसम में सबसे ज्यादा होती है सांसों की समस्या, एक्सपर्ट से जानें छुटकारा पाने के उपाय

सर्दी के मौसम में गर्म पकौड़े, समोसे और अन्य तली-भुनी चीजें खाने का मजा ही कुछ खास होता है. हालांकि, लो इम्युनिटी और फिजिकल एक्टिविटी की कमी से कई तरह की समस्याएं आपको परेशान कर सकती हैं.

डॉ राजीव वर्मा, डीएचएमएस

ठंड में बुजुर्गों को जिस चीज से सबसे ज्यादा दिक्कत होती है, वह है श्वसन से जुड़े रोग, जैसे- ब्रोंकाइटिस और अस्थमा आदि. होमियोपैथी में लक्षण के आधार पर ट्रीटमेंट कराने से काफी लाभ मिलता है.

सर्दियों में कम होती है रोग प्रतिरोधक क्षमता

सर्दियों में रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होती है. ठंड व आलस्य के कारण लोग फिजिकल एक्टिविटी में भी कम भाग लेते हैं. साथ ही इस मौसम में भोजन भी थोड़ा ज्यादा ही लेते हैं. गर्म पकौड़े, समोसा और अन्य तली-भुनी चीजें इस मौसम में खाने का मजा ही कुछ खास होता है. हालांकि, लो इम्युनिटी और फिजिकल एक्टिविटी की कमी से कई तरह की समस्याएं आपको परेशान कर सकती हैं.

Also Read: Women Care: पीरियड के दौरान इन 5 चीजों को खाने की कभी न करें गलती, वरना बढ़ जाएगी ऐंठन
बुजुर्गों को होती हैं ज्यादा समस्या

बुजुर्गों का ठंड के मौसम में खास ख्याल रखने की जरूरत होती है, क्योंकि उनकी रोग प्रतिरोधी क्षमता एक युवा की अपेक्षा कम होती है. साथ ही उन्हें कई क्रॉनिक डिजीज का भी सामना करना पड़ता है. ठंड में बुजुर्गों को जिस चीज से सबसे ज्यादा दिक्कत होती है, वो हैं श्वसन से जुड़े रोग जैसे- अस्थमा, ब्रोन्काटिस, सीओपीडी और साइनस आदि. पहले से ही कमजोर फेफड़े वाले या अधिक ध्रूमपान करनेवाले लोगों पर इसका अधिक असर होता है, लेकिन आजकल प्रदूषण का स्तर ऐसा है कि धूम्रपान न करने वाले भी इससे पीड़ित हैं.

प्रमुख लक्षण

इस स्थिति में बार-बार खांसी आना, दम फूलना, सांस लेने में तकलीफ होना, पसीना आना, बेचैनी महसूस होना, सिर भारी लगना जैसे लक्षण देखे जा सकते हैं. अस्थमा के अटैक से बचने के लिए ध्रूमपान, धुएं और धूल से बचना चाहिए. इसके लिए मरीज इन्हेलर का प्रयोग करते हैं, लेकिन इससे पूर्ण रूप से छुटकारा पाना मुश्किल है. हालांकि, कुछ समय के लिए आराम जरूर मिल जाता है. सांसों से जुड़ी समस्या में सरल व स्वाभाविक रूप से होमियोपैथिक चिकित्सा पद्धति से छुटकारा मिल सकता है.

Also Read: Health: सर्दियों में अटैक व स्ट्रोक का होता है ज्यादा खतरा, समय रहते हो जाएं सावधान, ऐसे लगाएं पता
लक्षण के अनुसार दवा

होमियोपैथी में रोग के इलाज के बजाय लक्षण का परीक्षण कर दवाई दी जाती है. इसके लिए पहले डॉक्टर से मिलकर सलाह लें और उसी के हिसाब से दवाइयों का सेवन करें, तभी पूरा लाभ मिलेगा. दवाइयों के सेवन के साथ खान-पान और फिजिकल फिटनेस पर भी ध्यान देना जरूरी होगा.

इन दवाओं से मिलेगा लाभ

Arsenicum album 200 : यदि रोगी को खांसी मध्य रात्रि के बाद तीव्र रूप धारण कर ले, सांस लेने में तकलीफ हो, दम फूलने लगे, रोगी सो नहीं पाये, उठ कर बैठ जाये, बेचैनी अधिक हो, गला सूखने लगे एवं थोड़ी-थोड़ी देर में थोड़ी-थोड़ी मात्रा में पानी पीने की इच्छा हो, तो यह दवा चार-चार बूंद सुबह व रात को लेने से लाभ मिलेगा.

Kali arsenicosum 200 : रोगी को सीने में घड़घड़ाहट की आवाज सुनायी दे या महसूस हो, गला बैठ जाये, पीले रंग का खखार निकले, शाम में तकलीफ ज्यादा महसूस हो और खुली हवा में रहना अच्छा लगे, तब यह दवा रोजाना चार-चार बूंद सुबह-शाम लेने से लाभ मिलेगा.

Also Read: Health: सर्वाइकल स्पॉन्डिलाइटिस में सुधार लाता है ये योग आसन, जानें क्या है वो

Senega 200c : रोगी को बहुत ज्यादा खांसने पर हल्का चिपचिपा खखार निकले, जिसकी मात्रा अधिक हो, खखार लगातार निकले, खुली हवा में तकलीफ बढ़ जाये तब यह दवा रोजाना चार-चार बूंद सुबह-दोपहर-शाम को लेने से लाभ मिलेगा.

Blatta orientalis : जब रोगी को सांस लेने में तकलीफ हो, खांसी से आराम न मिले, तब इस दवा की मदर टिचर शक्ति में आठ बूंद, चार-चार घंटे पर आधा कप पानी के साथ लें.

Also Read: Beauty Tips: आपको भी नाखून से पिंपल को फोड़ने की है आदत, तो तुरंत बदल लें इसे, वरना झेलना पड़ेगा ये…

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें