24.1 C
Ranchi
Saturday, March 2, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

एग्जाम फीवर से चाहते हैं राहत? इन तरीकों को अपनाकर करें परीक्षा के लिए खुद को तैयार

योग, स्वस्थ जीवन जीने की एक प्रभावी कला, छात्रों के लिए गेम-चेंजर हो सकती है. छात्रों के र्तमान जीवनशैली में योग और ध्यान की आवश्यकता होती है. जो छात्र नियमित रूप से योगाभ्यास करते हैं, उनके स्वास्थ्य और शिक्षा दोनों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है.

पूरे देश में परीक्षाओं का दौर शुरू हो चुका है. ऐसे में बच्चे काफी स्ट्रेस और तनाव में रहते हैं. बच्चे तभी अच्छा परफॉर्म कर पाएंगें जब तनाव मुक्त होकर परीक्षा देंगे. इस तनाव की स्थिति को एग्जाम फीवर भी कहते हैं. बोर्ड परीक्षा या कोई भी आम परीक्षा से पहले छात्र अत्यधिक घबरा जाते हैं और इसका छात्रों पर मनोवैज्ञानिक, सामाजिक, भावनात्मक और संज्ञानात्मक प्रभाव पड़ता है. ऐसे समय में बच्चे अपने डेली रूटीन में थोड़ी फिजिकल एक्टिविटी को जोड़ कर खुद को हल्का महसूस कर सकते हैं. योग बड़ों की तरह बच्चों के लिए भी फायदेमंद है. योग बच्चों में एकाग्रता बढ़ाने में भी मदद करता है. कई बोर्डों की 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं नजदीक होने के कारण, छात्र इसकी तैयारी के लिए योग की ओर रुख कर सकते हैं. ध्यान और योग छात्रों के बीच मानसिक फोकस और एकाग्रता को बेहतर बनाने में सीधे योगदान दे सकते हैं. आइये जानते हैं विशेषज्ञ से छात्रों के लिए इसके फायदे.

योग छात्रों की ऐसे करता है मदद

  • एकाग्रता में सुधार: योग एक छात्र के एकाग्रता स्तर को बेहतर बनाने में मदद करता है. कोई भी आसानी से समझ सकता है कि परीक्षा में बेहतर ग्रेड पाने का एकाग्रता स्तर में सुधार करने से बेहतर कोई तरीका नहीं है. इसके अलावा, योग आत्मविश्वास के स्तर को बढ़ाने, नींद, सिरदर्द से राहत और सबसे महत्वपूर्ण रूप से तेज दिमाग का भी समर्थन करता है.

  • तनाव कम करता है: योग एक प्रभावी तनाव-राहत का समाधान है. जब आप अपने पर ध्यान केंद्रित करते हैं. जो छात्र नियमित रूप से योगाभ्यास करते हैं, उनके स्वास्थ्य और शिक्षा दोनों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है.

  • लचीलेपन में सुधार: योगा आपके शरीर और दिमाग दोनों को लचीला बनाने में मदद करता है। अलग-अलग प्रकार के आसन आपको लचीला शरीर पाने में मदद करेंगे और साथ ही, यह आपको राहत महसूस करने में मदद करता है.

  • एकाग्रता: मस्तिष्क की एकाग्रता और कुशाग्रता बढ़ाने में ध्यान और योग बहुत महत्वपूर्ण साबित हुए हैं. योग के माध्यम से संतुलित रक्तचाप, गठिया और अस्थमा को नियंत्रित किया जा सकता है.

  • सकारात्मक दिशा: आसन और श्वास, ये आपको अपनी सभी समस्याओं और बाधाओं को भूलने में मदद करेंगे. यह आपको बेहतर महसूस कराएगा और आपकी ऊर्जा को सही दिशा में लगाने में मदद करेगा.

आजमाएं ये आसन

  • सांस लेना: भावनाओं को नियंत्रित करने के तरीके के रूप में सांस महत्वपूर्ण है. परीक्षा के मौसम के दौरान, तंत्रिकाओं को शांत करने और मन को केंद्रित करने में मदद करने के लिए उचित सांस लेना सबसे महत्वपूर्ण तरीका होगा.

  • सूर्य नमस्कार: सूर्य नमस्कार या सूर्य नमस्कार 12 शक्तिशाली योग मुद्राओं का एक क्रम है. एक बेहतरीन कार्डियो-वैस्कुलर वर्कआउट होने के अलावा, सूर्य नमस्कार शरीर और दिमाग पर बेहद सकारात्मक प्रभाव डालने के लिए भी जाना जाता है.

  • शीर्षासन: यह मन की एकाग्रता को बढ़ाता है; आंखों में रक्त के प्रवाह में सुधार होता है, और बाहों, कंधों और कोर की मांसपेशियों को ताकत मिलती है.

Also Read: CLAT Counselling 2024: लॉ कॉलेज में लेना चाहते हैं एडमिशन, तो ये है भारत के टॉप 20 बेस्ट कॉलेज
बनाएं स्वस्थ दिनचर्या

  • रात 10 बजे के आसपास सभी लाइटें बंद करके समय पर सो जाएं.

  • सुबह 5 बजे से 6 बजे के बीच पढ़ाई के लिए जल्दी उठें

  • हर चार घंटे में खाएं.

  • स्वस्थ भोजन, ताजे मौसमी फल, जैविक हरी सब्जियां, साबुत अनाज खाएं.

  • पर्याप्त तरल पदार्थों से अपने आप को अच्छी तरह से हाइड्रेट करें

  • गुणवत्तापूर्ण आराम और नींद महत्वपूर्ण है.

  • अपनी आंखों को आराम दें.

Also Read: कोरोना महामारी के बाद रेलवे का बड़ा फैसला, इस भर्ती के लिए आयु सीमा में 3 साल की छूट का ऐलान

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें