1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. gumla
  5. human trafficking news why four girls from east singhbhum of jharkhand came under the pretext of human traffickers gumla police saved from being sold in delhi due to alertness two minor and two adult girls are under the protection of child welfare committee know what is the whole matter grj

Human Trafficking News : मानव तस्करों के बहकावे में आखिर क्यों आयीं झारखंड के पूर्वी सिंहभूम की चार लड़कियां, गुमला पुलिस की सतर्कता से दिल्ली में बिकने से बचीं, जानिए क्या है पूरा मामला

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Human Trafficking News : दिल्ली में बिकने से बचीं चार लड़कियां
Human Trafficking News : दिल्ली में बिकने से बचीं चार लड़कियां
प्रभात खबर

Human Trafficking News , गुमला न्यूज (दुर्जय पासवान) : झारखंड के पूर्वी सिंहभूम जिले की चार लड़कियां दिल्ली में बिकने से बच गयीं. गुमला के कामडारा थाना की पुलिस की पहल पर इन लड़कियों को मानव तस्करों से मुक्त कराया गया. पुलिस ने लड़कियों को गुमला सीडब्ल्यूसी को सौंप दिया. इसमें दो लड़कियां नाबालिग हैं, जिन्हें बालगृह में रखा गया है, जबकि दो लड़कियां बालिग हैं, जिन्हें नारी निकेतन में रखा गया है.

ये चारों लड़कियां पूर्वी सिंहभूम जिले के चाकड़े सनकुजा गांव की रहने वाली हैं. घर परिवार की स्थिति ठीक नहीं थी. किसी लड़की के पिता का निधन हो गया है तो किसी के माता का निधन हो गया है. घर में कमाने वाले नहीं हैं. जिस कारण ये चारों लड़कियां मानव तस्कर के बहकावे में आकर दिल्ली जा रही थीं, परंतु पुलिस की सक्रियता से चारों को तस्करों के चंगुल से मुक्त कराते हुए दिल्ली में बिकने से बचा लिया गया. सीडब्ल्यूसी गुमला ने चारों लड़कियों के घर व परिवार का सत्यापन करा रही है, ताकि उनके परिजनों को गुमला बुलाकर उनके हवाले लड़कियों को किया जा सके. जब तक घर का सत्यापन व जांच पूरी नहीं हो जाती. लड़कियां गुमला के बालगृह व नारी निकेतन में रहेंगी.

मानव तस्करों के चंगुल से मुक्त हुई दो लड़कियों ने दिल्ली जाने का कारण प्रभात खबर को बताया. सोमारी व सबिया (बदला हुआ नाम) दोनों नाबालिग हैं. सोमारी ने बताया कि उसका परिवार गरीब है. गांव में कोई काम भी नहीं है. गरीबी के कारण वह स्कूल भी जाना छोड़ दी. घर की आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण गांव का एक मानव तस्कर उसे दिल्ली चलने के लिए कहा. तस्कर ने कहा था कि दिल्ली में 10 से 15 हजार रुपये महीना मिलेगा. खाना पीना अलग से मिलेगा. तस्कर के कहने पर वह उसके साथ दिल्ली जा रही थी. सबिया ने कहा कि वह निरक्षर है. पिता का निधन हो गया है. घर में कमाने वाला कोई नहीं है. उसके छोटे भाई बहन हैं. उनकी परवरिश भी करनी है. इसलिए वह मानव तस्कर के बहकावे में आकर दिल्ली जा रही थी, परंतु उससे पहले पुलिस ने उसे मानव तस्कर के चंगुल से मुक्त करा लिया.

सीडब्ल्यूसी सदस्य सुषमा देवी ने कहा कि कामडारा पुलिस ने चार लड़कियों को नारी निकेतन को सौंपा था. जिसमें दो नाबालिग व दो बालिग हैं. इन लड़कियों के परिजनों को सूचना दी गयी है. साथ ही इनके घर का सत्यापन किया जा रहा है, ताकि कागजी कार्रवाई के बाद लड़कियों को उनके परिजनों को सौंपा जा सके.

Posted By : Guru Swarup Mishra

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें