22.1 C
Ranchi
Monday, March 4, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

Health Tips: अगर आपको हो गया है निमोनिया, तो इन चीजों का करें सेवन, होगी स्पीड रिकवरी

निमोनिया फेफड़ों का एक संक्रमण है जो फेफड़ों की वायुकोशिकाओं में सूजन का कारण बनता है. गंभीर मामलो में फेफड़ों में संभवतः मवाद (पस) या तरल पदार्थ भर जाता है. इस बीमारी के प्राथमिक लक्षणों में ठंड लगना, सीने में दर्द, सांस लेने में कठिनाई, खांसी और सर्दी जैसी समस्या शामिल है.

निमोनिया फेफड़ों का एक संक्रमण है जो फेफड़ों की वायुकोशिकाओं में सूजन का कारण बनता है. गंभीर मामलो में फेफड़ों में संभवतः मवाद (पस) या तरल पदार्थ भर जाता है. इस बीमारी के प्राथमिक लक्षणों में ठंड लगना, सीने में दर्द, सांस लेने में कठिनाई, खांसी और सर्दी जैसी समस्या शामिल है.

निमोनिया होने पर इन चीजों का करें सेवन

यूं तो निमोनिया का कोई घरेलू इलाज नहीं है, लेकिन बीमारी के महत्वपूर्ण चरण से गुजरने के बाद निर्धारित आहार का पालन करने से व्यक्ति जल्दी ठीक हो सकता है.

खट्टे फल

खट्टे फल जैसे संतरे में प्रचुर मात्रा में पाया जाने वाला विटामिन सी शरीर के लिए एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट है. इसके अलावा, विटामिन सी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है, जो निमोनिया की रोकथाम में सहायक होता है. हालांकि जब आपके गले में खराश हो तो अत्यधिक खट्टे संतरे खाने से बचें क्योंकि इससे स्थिति बिगड़ सकती है. विटामिन सी की अच्छी आपूर्ति के लिए आप नींबू, जामुन और कीवी जैसे अन्य खट्टे फल भी खा सकते हैं.

Also Read: Health Tips: ज्यादा ऑयली खाने के बाद होती है परेशानी? इस समस्या का रामबाण इलाज है ये 5 ड्रिंक्स

शहद

शहद कई चिकित्सीय उपयोगों वाला एक प्राचीन पदार्थ है. शहद सर्दी, खांसी और गले में खराश के गंभीर लक्षणों से राहत देता है, इसलिए निमोनिया के रोगियों के लिए इसे अपने आहार में शामिल करना जरूरी है. आप अपने नींबू पानी को हल्का गर्म करके और शहद के साथ मीठा करके पी सकते हैं. इससे आपको आराम मिलेगा.

अदरक

अदरक निमोनिया से लड़ने में पीड़ित लोगों की काफी मदद करता है और इसका उपयोग लगभग सभी श्वसन स्थितियों के इलाज के लिए किया जाता है. यह उन सभी संक्रमणों को कम करता है जो निमोनिया के साथ-साथ सीने में दर्द का कारण बनते हैं. यह एक चमत्कारी पदार्थ है जिसके सूजन-रोधी गुण दर्द से राहत दिलाने में मदद करते हैं. यह ब्रोन्कियल नलिकाओं से बलगम को स्वचालित रूप से साफ करके सांस लेने की सुविधा प्रदान करता है.

गर्म पानी

हल्दी पानी और मुलेठी चाय जैसे गर्म तरल पदार्थों का अक्सर सीमित मात्रा में सेवन करें: जब खाने और पीने की बात आती है तो प्रत्येक रोगी की अलग-अलग ज़रूरतें होती हैं. एक बार में बड़ी मात्रा में तरल पदार्थ लेने के बजाय बार-बार गर्म तरल पदार्थ पीना बेहतर है. बहुत सारे तरल पदार्थ पीने से असुविधा हो सकती है जबकि गरम तरल पदार्थ पीने से आराम मिलता है.

Also Read: इस सर्दी बढ़ाएं तिल्ली की ताकत, फॉलो करें ये हेल्दी उपाय

साबुत अनाज

उच्च कार्बोहाइड्रेट सामग्री वाले साबुत अनाज, जैसे जौ, जई और ब्राउन राइस, बीमारी से रिकवरी के लिए जरूरी ऊर्जा प्रदान करते हैं. साबुत अनाज की सेलेनियम सामग्री से भी प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होती है. इनमें विटामिन बी होता है, जो शरीर के तापमान को नियंत्रित करने में सहायता करता है और सेलेनियम, प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है.

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें