34.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Trending Tags:

Advertisement

‘H3N2 वायरस से घबराने की जरूरत नहीं, मगर…’, जानिए क्या कहा विशषज्ञों ने?

देश में H3N2 इन्फ्लूएंजा के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं, मगर विशेषज्ञों ने कहना है कि "घबराने की कोई जरूरत नहीं है", हालांकि, सावधानी भी बरतने की जरूरत है. अगर किसी व्यक्ति में खांसी, जुकाम या बुखार जैसे लक्षण दिखाई देते हैं तो उस व्यक्ति के संपर्क में आने से बचना बेहद जरूरी है.

जैसा कि देश में H3N2 इन्फ्लूएंजा के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं, मगर विशेषज्ञों ने कहना है कि “घबराने की कोई जरूरत नहीं है”, हालांकि, सावधानी भी बरतने की जरूरत है. दिल्ली के अपोलो अस्पताल के एक वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. अनुपम सिब्बल के अनुसार, चूंकि वायरस के लक्षण कोविड-19 के समान हैं, लेकिन लंबे समय तक रहते हैं, “महामारी के दौरान बरती जाने वाली सावधानियों का पालन किया जाना चाहिए”।

संदिग्ध व्यक्तियों के संपर्क में आने से बचें

“मास्क पहनना और अपने हाथों को साफ रखना. इसके साथ ही अगर किसी व्यक्ति में खांसी, जुकाम या बुखार जैसे लक्षण दिखाई देते हैं तो उस व्यक्ति के संपर्क में आने से बचना बेहद जरूरी है.

बच्चों को मास्क पहनाकर स्कूल भेजें 

डॉ. सिब्बल ने यह भी कहा कि बच्चों को एच3एन2 वायरस के प्रति विशेष सावधानी बरतनी चाहिए. उन्होंने कहा कि साफ-सफाई पर विशेष ध्यान देना चाहिए क्योंकि साफ-सफाई और खान-पान की अच्छी आदतों से आप इस तरह के वायरस से दूर रह सकते हैं. बच्चों को मास्क पहनाकर ही स्कूल भेजें और उनके हाथ साफ रखें.

वायरस का लोगों के दिमाग पर अधिक प्रभाव पड़ता है

अपोलो अस्पताल के एक न्यूरोलॉजिस्ट आदित्य भाटी के अनुसार, वायरस का लोगों के दिमाग पर अधिक प्रभाव पड़ता है, और इसलिए, संतुलित जीवन शैली की आवश्यकता पर बल दिया. हालांकि वायरस इंसान के सभी अंगों को प्रभावित करता है, लेकिन ब्रेन स्ट्रोक और ब्रेन हेमरेज जैसे मामलों में इसका ज्यादा असर दिमाग पर देखा जा रहा है. पिछले कुछ सालों में ऐसे मामले सामने आए हैं, हालांकि इनकी संख्या ज्यादा नहीं है.

देश में अब तक H3N2 वायरस के 400 से अधिक मामलों

कथित तौर पर, भारत में अब तक वायरस के 400 से अधिक मामलों का पता चला है – झारखंड में रविवार को ताजा मामला सामने आया है. रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) के अनुसार, एवियन, स्वाइन और मानव वायरस और 2009 एच1एन1 महामारी वायरस एम जीन के जीन वाले मनुष्यों में पहली बार 2011 में एच3एन2 संस्करण का पता चला था. लक्षणों में बुखार, श्वसन संबंधी समस्याएं जैसे खांसी और नाक बहना, साथ ही शरीर में दर्द, मतली, उल्टी या दस्त सहित अन्य लक्षण शामिल हैं.

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें