1. home Hindi News
  2. world
  3. mahatma gandhi birthday china national day foreign minister jaishankar congratulates chinese counterpart wang yi on 71st foundation day understand what is diplomacy vwt

गांधीजी के जन्मदिन से पहले चीन के 71वें स्थापना दिवस पर विदेश मंत्री जयशंकर ने वांग यी को दी बधाई, समझिए क्या है कूटनीति?

By Agency
Updated Date
भारत-चीन के विदेश मंत्री एस जयशंकर और वांग यी.
भारत-चीन के विदेश मंत्री एस जयशंकर और वांग यी.
फाइल फोटो.

India-China face off : भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने गुरुवार को चीन के 71वें स्थापना दिवस पर अपने समकक्ष वांग यी को माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर के जरिए बधाई दी है. रूस के मास्को में हुए सहयोग संगठन (एससीओ) के सम्मेलन में वांग यी के साथ हुई अनौपचारिक वार्ता के दौरान ही दोनों के बीच लद्दाख के वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) से दोनों देशों के सैनिकों को पीछे हटाने को लेकर 7वें दौर की बैठक करने के लिए करीब-करीब सहमति बन गयी थी.

7वें दौर के बैठक के कार्यक्रम पर काम कर रही भारत-चीन की सेना

भारतीय और चीनी सेना पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) से सैनिकों को ‘शीघ्र और पूर्ण रूप से' पीछे हटाने को लेकर कदम उठाने के लिए 7वें दौर की अपनी वार्ता का कार्यक्रम तय करने पर काम कर रही है. विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि यह प्रक्रिया मौजूदा द्विपक्षीय समझौते और प्रोटोकॉल के तहत की जाएगी. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव की यह टिप्पणी दोनों देशों के बीच एक और दौर की कूटनीतिक वार्ता होने के एक दिन बाद आई है, जो पूर्वी लद्दाख में 5 महीने से जारी गतिरोध को दूर करने के लिए सीमा मामलों पर परामर्श एवं समन्वय के लिये कार्यकारी तंत्र (WMCC) ढांचे के तहत हुई थी.

बैठकों पर बैठक के बावजूद अब तक नहीं मिल सकी सफलता

दोनों पक्षों ने गतिरोध दूर करने के लिए सिलसिलेवार कूटनीतिक एवं सैन्य वार्ता की है, लेकिन अब तक कोई ठोस सफलता हाथ नहीं लगी. 6ठे दौर की कोर कमांडर स्तर की वार्ता 21 सितबर को हुई थी. इसके बाद उन्होंने कई फैसलों की घोषणा की थी. इनमें अग्रिम मोर्चे पर और अधिक सैनिकों को नहीं भेजना, जमीन पर स्थिति को एकरतफा तरीके से बदलने से दूर रहना तथा मुद्दों को और अधिक जटिल बना देने वाली गतिविधियां करने से बचना शामिल है.

जयशंकर और वांग यी की मुलाकात में बनी 7वें दौर की बैठक पर सहमति

सैन्य वार्ता विदेश मंत्री एस जयशंकर और उनके चीनी समकक्ष वांग यी के बीच मास्को में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) सम्मेलन से अलग हुई एक बैठक में बनी पांच सूत्री सहमति के क्रियान्वयन का खाका तैयार करने के खास एजेंडे के साथ हुई. श्रीवास्तव ने कहा कि कमांडरों की पिछली बैठक में बनी सहमति के मुताबिक दोनों पक्ष अब 7वें दौर की बैठक का कार्यक्रम तय करने पर काम कर रहे हैं, ताकि दोनों पक्ष मौजूदा द्विपक्षीय समझौते और प्रोटोकॉल के मुताबिक एलएसी से सैनिकों को शीघ्र एवं पूर्ण रूप से पीछे हटाने की दिशा में काम कर सकें.

कूटनीतिक वार्ता में ही तय हो गया था अगला कदम

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि बुधवार की कूटनीतिक वार्ता में दोनों पक्षों ने यह विचार प्रकट किया कि वरिष्ठ कमांडरों की पिछली बैठक में तय किये गए कदमों को क्रियान्वित करना आवश्यक है, ताकि गलतफहमी से बचा जा सके और जमीन पर शांति एवं स्थिरता कायम रहे.

टकराव वाले इलाकों से सैनिकों को हटाने पर काम कर रहा चीन

श्रीवास्तव ने कहा कि दोनों पक्षों ने एलएसी पर स्थिति की समीक्षा की और इस पर विस्तृत चर्चा भी की. इसके अलावा 21 सितंबर को हुई 6ठे दौर की सैन्य वार्ता के नतीजों की समीक्षा की गई. उन्होंने कहा कि जैसा कि मैंने पिछले हफ्ते जिक्र किया था कि बैठक के बाद एक संयुक्त प्रेस विज्ञप्ति जारी की गई और दोनों पक्ष जमीन पर स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए कुछ कदम डठाने पर सहमत हुए, क्योंकि वे टकराव वाले सभी इलाकों से सैनिकों को पूर्ण रूप से हटाने पर काम कर रहे हैं.

मास्को में ही बन चुकी थी सहमति

जयशंकर-वांग की मास्को बैठक में जो पांच सूत्री सहमति बनी थी, उसमें सैनिकों को शीघ्रता से हटाना, तनाव भड़काने वाली गतिविधियां करने से बचना, सीमा प्रबंधन पर सभी समझौतों एवं प्रोटोकॉल का पालन करना और एलएसी पर शांति बहाल करने के लिए कदम उठाना शामिल है.

चीन की स्थापना दिवस पर जयशंकर ने दी बधाई

इसबीच, जयशंकर ने चीन की स्थापना की 71वीं सालगिरह पर गुरुवार को अपने चीनी समकक्ष वांग यी, वहां की सरकार एवं लोगों को बधाई दी. जयशंकर ने ट्वीट किया, ‘पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना की स्थापना की 71वीं सालगिरह पर विदेश मंत्री वांग यी, सरकार तथा पीआरसी के लोगों को बधाई.'

Posted By : vishwat Sen

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें