1. home Hindi News
  2. world
  3. india china resolve border dispute anrica should not interfare in the issue prt

India China Face off: भारत की कूटनीति के आगे झुका चीन, अब आपस में मिलकर विवाद सुलझाने का दे रहा झांसा

लंबे समय से चीन और भारत के बीच सीमा विवाद चल रहा है. बार्डर को लेकर ड्रैगन लगातार पैंतरा भी बदलता रहा है. अब एक बार फिर चीन के सुर बदले-बदले से दिख रहे हैं. चीन ने कहा है कि सीमा विवाद मेंअमेरिकी दखल की कोई जरूरत नहीं है.

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
India China Border Tension
India China Border Tension
pti

India China Face off: लंबे समय से चीन और भारत के बीच सीमा विवाद चल रहा है. बार्डर को लेकर ड्रैगन लगातार पैंतरा भी बदलता रहा है. दरअसल, सीमा से लगने वाली भारत की जमीन पर चीन हमेशा से दावा करता आया है. लेकिन अब भारत की कूटनीति के आगे ड्रैगन की एक नहीं चल रही. सीमा विवाद को लेकर अब चीन ने कहा है कि ये हमारा आपसी मामला है, इसमें किसी को दखल नहीं देना चाहिए. विवाद को लेकर चीन ने कहा है कि विवाद को दोनों देश आपस में बैठकर शांति से सुलझा लेंगे.

यह बयान चीन के रक्षा मंत्रालय की ओर से आया है. चीन ने कहा है कि, मौजूदा सीमा विवाद भारत और चीन का आपसी मसला है. इसे वे दोनों आपस में बैठकर शांति से सुलझा लेंगे. चीन का कहना है कि इसमें अमेरिका को दखल नहीं देना चाहिए. यह भारत और चीन का आंतरिक मामला है. इसे द्विपक्षीय बातचीत से सुलझाएंगे.

दरअसल, बीते काफी समय से चीन विवादित क्षेत्र में निर्माण कार्य में लगा है. चीनी निर्माण को लेकर भारत ने कड़ी आपत्ति भी दर्ज की है. चीन की हडप नीति का भारत समेत दुनिया के कई देशों ने विरोध किया है. इसी कड़ी में अमेरिका ने भी चीन को हद में रहने की बात कही है. जिसके बाद चीन के सुर फिर बदले-बदले से दिखने लगे हैं.

गौरतलब है कि चीन की हड़प नीति का पूरी दुनिया विरोध करती है. बीते दिनों जापान पीएम से बात करते हुए अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने चीन को कड़े शब्दों में चेतावनी दी थी. बाइडेन ने कहा था कि, अपनी हरकतों से बाज आए चीन. वहीं, रूस यूक्रेन विवाद को लेकर भी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा था कि इस विवाद के बहाने ताइवान पर हमला करने की भूल न करे चीन.

Posted by: Pritish Sahay

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें