1. home Hindi News
  2. top stories
  3. bihar flood latest live updates 1232 panchayats in 16 districts flooded 7419 lakh people suffering weather realted news in hindi bhadh 2020

Bihar Flood Updates: झंडी दिखा कर राज्यपाल ने बाढ़ पीड़ितों के लिए रवाना की राहत सामग्री

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
राहत सामग्री वाहन को झंडी दिखा कर रवाना करते राज्यपाल
राहत सामग्री वाहन को झंडी दिखा कर रवाना करते राज्यपाल
सोशल मीडिया

Bihar Flood Live Updates: पटना : राज्य में बाढ़ से 16 जिलों के 74 लाख 19 हजार लोग प्रभावित हुए हैं. कुल 125 प्रखंडों की 1232 पंचायतें प्रभावित हुई हैं. प्रभावित इलाकों में अभी सात राहत शिविर चलाये जा रहे हैं, जिनमें 11 हजार 849 लोग रह रहे हैं. यह जानकारी सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के सचिव ने वर्चुअल संवाददाता सम्मेलन के दौरान दी. बाढ़ से संबंधित हर अपडेट के लिए बने रहे हमारे साथ.

email
TwitterFacebookemailemail

झंडी दिखा कर राज्यपाल ने बाढ़ पीड़ितों के लिए रवाना की राहत सामग्री

राज्यपाल फागू चौहान ने सोमवार को रेडक्रॉस की तरफ से उपलब्ध करायी गयी राहत-सामग्री बाढ़ प्रभावित जिलों के लिए भेजी. उन्होंने राजेंद्र चौक पर सामग्री से लदे 15 ट्रकों को 11 बजे झंडी दिखाकर रवाना किया. इस अवसर पर आयोजित एक औपचारिक कार्यक्रम में राज्यपाल चौहान ने कहा कि इस वर्ष भी पिछले सालों की भांति आयी बाढ़ की भीषण विभीषिका के कारण जान-माल की काफी क्षति हुई है. राज्य सरकार की सजगता एवं तत्परता के कारण यद्यपि इस बार बाढ़ में जान-माल की क्षति को बहुत हद तक नियंत्रित कर लिया गया है, फिर भी बहुत परिवार इस साल भी बाढ़ से प्रभावित हुए हैं. राज्यपाल ने बताया कि राष्ट्रपति ने भी बिहार के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में राहत-सामग्रियों से लदे दो बिहार भेजे हैं. आयोजित इस कार्यक्रम में इंडियन रेडक्रॉस सोसाइटी राज्य ब्रांच के चेयरमैन डॉ बीबी सिन्हा, राज्यपाल के प्रधान सचिव चैतन्य प्रसाद, वाइस चेरयमैन उदयशंकर प्रसाद सिंह, कोषाध्यक्ष दिनेश कुमार जायसवाल सहित तमाम वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे. राहत-सामग्री के रूप में बाढ़ प्रभावित संबंधित 15 जिलों को तारपोलिन सीट, किचेन सेट, धोती, मच्छरदानी, टेन्ट, बाल्टी, सूती चादर, हाइजिन किट इत्यादि सामग्री भेजी गयी है.

email
TwitterFacebookemailemail

सिवान में बाढ़पीड़ितों के कैंप में बांटी गयी खाद्य सामग्री

महाराजगंज अनुमंडल के कौड़िया, नगवा, भीखमपुर पंचायत के विभिन्न गांव के बाढ़ राहत कैंप में शरण लेने वाले बाढ़पीड़ित लोगो के बीच जन अधिकार पार्टी के नेता ने खाद्य सामग्री वितरण किया. जाप के जिलाध्यक्ष विश्वनाथ यादव ने बताया कि जाप के राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव के सौजन्य से बाढ़पीड़ितों को राहत सामग्री दी जा रही है. कहा राष्ट्रीय अध्यक्ष का स्पष्ट निर्देश है चाहे हमारी खेत बिक जाये लेकिन पीड़ित लोगों की सेवा में कोई कोताही नहीं होने दी जायेगी. पार्टी के तरफ से आटा, चावल, सब्जी, सलाई, मोमबत्ती, साबुन के अलावा जरूरत मंदों को तिरपाल भी उपलब्ध कराया गया. इसके अलावा समूह में रहने वाले कैंप पर जेरेनेटर सुविधा भी उपलब्ध करायी गयी है.

email
TwitterFacebookemailemail

सीतामढ़ी में घटने लगा बागमती का जलस्तर

पटना : जल संसाधन विभाग की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार बागमती का जलस्तर स्थिर हो रहा है. सीतामढ़ी में नदी का जलस्तर कम हो रहा है. वैसे मुजफ्फरपुर में जलस्तर का बढ़ना जारी है. डुब्बहार और कंसार को छोड़ कर अन्य जगहों पर अभी भी ये नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है.

email
TwitterFacebookemailemail

प्रधानमंत्री के साथ बैठक में नीतीश ने उठाया फरक्का का मामला

पटना : बाढ़ ग्रस्त राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ प्रधानमंत्री की आज हुई बैठक में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रधानमंत्री से अनुरोध किया कि फरक्का बराज के गेटों का बेहतर संचालन किया जाये और उसके अपस्ट्रीम में सिल्ट की सफाई की जाये. नीतीश ने कहा कि फरक्का बराज से हुए सिल्टेशन के कारण गंगा का जल प्रवाह बाधित हो रहा है और पटना से फरक्का पहुंचने में 3 दिन की जगह 8 से 9 दिनों का समय लग रहा है.

email
TwitterFacebookemailemail

गंगा का जलस्तर स्थिर

पटना : गंगा का जलस्तर स्थिर हो गया है. वैसे कहलगांव में अभी गंगा खतरे के निशान से ऊपर बह रही है, लेकिन वहां जलस्तर स्थिर हो चुका है, जबकि पटना में गंगा का जलस्तर कम हो रहा है.

email
TwitterFacebookemailemail

मंत्री ने की हालात की समीक्षा

मुजफ्फरपुर: जल संसाधन मंत्री संजय झा ने सर्किट हाउस स्थित मीटिंग हॉल में बाढ़ की अद्यतन स्थिति की समीक्षा की. जिलाधिकारी चंद्रशेखर सिंह के द्वारा जिले में बाढ़ को लेकर की गई तैयारियों की अद्धतन स्थिति की विस्तृत जानकारी उपलब्ध कराई गई.

email
TwitterFacebookemailemail

चार दिनों का अलर्ट

पटना सहित पूरे बिहार में 10 से 13 अगस्त तक भारी बारिश होने की संभावना है. साथ ही वज्रपात की भी आशंका जताई गई है. मौसम विभाग ने भारी बारिश की चेतावनी जारी कर दी है. रविवार को पटना के कई इलाकों में ठीक-ठाक बारिश हुई तो वही समस्तीपुर, सारण के मसरख, पूर्णिया और मधेपुरा में अच्छी बारिश हुई.

email
TwitterFacebookemailemail

बागमती में चार इंच घटा पानी पर अभी राहत नहीं

दरभंगा. उफनाई बागमती नदी के रविवार को कुछ नरम पड़ने से नगर के बाढ़पीड़ितों को राहत की आस जगी है. एक पखवारे से लगातार जल स्तर में वृद्धि के बाद पानी घटने से पीड़ित थोड़ी राहत महसूस कर रहे हैं. बीते 24 घंटे में करीब चार इंच पानी कम हुआ है. नदी के पूर्वी भाग में पानी का प्रवेश अब भी जारी है. बाढ़ से दर्जन भर मुहल्लों की स्थिति विकराल है. पानी में मामूली कमी आने के बावजूद वार्ड आठ, नौ व 23 के मुहल्लों में कमर से ऊपर पानी का बहाव हो रहा है. लगातार पानी के बीच आने-जाने से बाढ़पीड़ित पानी जनित रोग से बीमार होने लगे हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

पिछले 24 घंटे में गंगा नदी के जल स्तर में बढ़ोतरी दर्ज

पटना : पिछले 24 घंटे में गंगा नदी के जल स्तर में बक्सर, भागलपुर और कहलगांव में वृद्धि हुई जबकि हाथीदह में जल स्तर स्थिर था. महानंदा नदी का जल स्तर झंझारपुर रेल पुल के पास खतरे के निशान से ऊपर था. अधवारा नदी का जल स्तर सुंदरपुर में खतरे के निशान से 0.20 मीटर ऊपर था. सारण तटबंध, भैसही पुरैना छरकी, बंधौली शीतलपुर फैजुल्लाहपुर जमींदारी बांध, बैकुंठपुर रिटायर्ड लाइन और चंपारण तटबंध के क्षतिग्रस्त भाग को छोड़कर जलसंसाधन विभाग ने अन्य तटबंधों को सुरक्षित होने का दावा किया है.

email
TwitterFacebookemailemail

कोसी में छोड़ा गया एक लाख 66 हजार 625 क्यूसेक पानी

जल संसाधन विभाग द्वारा दी गयी जानकारी के अनुसार कोसी नदी में रविवार दोपहर 12 बजे तक एक लाख 66 हजार 625 क्यूसेक जलश्राव प्रवाहित हुआ. इसकी प्रवृत्ति बढ़ने की है. कोसी नदी का जल स्तर बलतारा में खतरे के निशान से 1.93 मीटर ऊपर था. गंडक नदी का डिस्चार्ज एक लाख 34 हजार क्यूसेक था और इसकी प्रवृति स्थिर है. सोन नदी में 29 हजार 703 क्यूसेक जलस्राव प्रवाहित हुआ और इसकी प्रवृति बढ़ने की है. बागमती नदी का जल स्तर ढेंग, कटौंझा, बेनीबाद और हायाघाट में खतरे के निशान से ऊपर था. सोनाखान, डूब्बाधार और कंसार व चंदौली में जल स्तर खतरे के निशान से नीचे था. बूढ़ी गंडक नदी का जल स्तर सिकंदरपुर, समस्तीपुर रेल पुल, रोसरा रेल पुल और खगड़िया में खतरे के निशान से ऊपर था. तटबंधों पर अत्यधिक दबाव बना हुआ है. कई जगह सीपेज व पाईपिंग की समस्या होने पर इंजीनियरों ने ठीक करवा दिया है.

email
TwitterFacebookemailemail

राज्य में चल रहे हैं 1,267 कम्युनिटी किचेन

सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के सचिव ने बताया कि 1,267 कम्युनिटी किचेन चलाये जा रहे हैं, जिनमें प्रतिदिन नौ लाख 46 हजार 513 लोग भोजन कर रहे हैं. सभी बाढ़ प्रभावित जिलों में 33 एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमें राहत व बचाव का कार्य कर रही हैं. बाढ़ प्रभावित छह लाख 31 हजार 295 परिवारों के बैंक खाते में कुल 378.77 करोड़ रुपये जीआर की राशि अनुग्रह अनुदान के रूप में भेजी जा चुकी है.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें