1. home Hindi News
  2. tech and auto
  3. pubg ban updates pubg among 118 mobile apps banned by india people flood twitter with reactions amh

Pubg Ban Reaction : रात अपुन 2 बजे तक पिया से लेकर मुझे नींद ना आये तक…

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Pubg Ban Reaction
Pubg Ban Reaction
pubg

भारत सरकार ने लोकप्रिय गेमिंग एप पबजी सहित चीन की कंपनियों से जुड़े 118 अन्य मोबाइल एप पर बुधवार को प्रतिबंध लगा दिया. सरकार ने कहा कि ये एप से देश की संप्रभुता व अखंडता, रक्षा, सुरक्षा और शांति-व्यवस्था के लिए खतरा हैं. इस खबर के बाद सोशल मीडिया पर मीम्स की बाढ आ गई है. सोशल मीडिया पर लोग तरह-तरह की प्रतिक्रिया दे रहे हैं. बहुत से लोग उन लोगों का मजाक उडाते नजर आ रहे हैं जो दिनभर पबजी खेलने में व्यस्त रहते हैं. हम आपके सामने कुछ मीम्स लेकर आये हैं जो आपको गुदगुदाएंगे…

Pubg Ban Reaction : रात अपुन 2 बजे तक पिया से लेकर मुझे नींद ना आये तक…

तीसरी डिजिटल स्ट्राइक : चीन के मोबाइल एपों पर भारत की यह तीसरी डिजिटल स्ट्राइक है. इससे पहले इससे पहले सरकार ने जून में चीन से जुड़े टिकटॉक और यूसी ब्राउजर सहित 59 एप को प्रतिबंधित कर दिया था. इसके बाद जुलाई में 47 अन्य एप को भी बैन कियाथा. भारत ने यह कार्रवाई तब गलवान झड़प के बाद की थी. इस बार भी सरकार ने यह कदम ऐसे समय उठाया है, जब लद्दाख में चीन के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तनाव बढ़ा है. इस तरह कुल 224 चीनी एप प्रतिबंधित हो गये हैं.

राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा : सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने कहा कि इन एप्स के बारे में काफी शिकायतें मिलीं थीं. ऐसी रिपोर्ट भी आयी हैं, जिनसे पता चला है कि एंड्रॉयड और आइओएस प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध कई मोबाइल एप यूजर का डाटा चुरा कर देश से बाहर के सर्वरों पर एकत्र कर रहे थे. यूजर की सूचनाएं का इस्तेमाल ऐसे तत्व कर रहे थे, जो राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा हैं. इसलिए त्वरित कार्रवाई की जरूरत थी.

इन पर लगा प्रतिबंध : प्रतिबंधित एप में बायदू, बायदू एक्सप्रेस एडिशन, अलीपे, टेनसेंट वॉचलिस्ट, फेसयू, डैंक टैंक्स, वारपाथ, गेम ऑफ सुल्तांस वीचैट रीडिंग और कैमकार्ड के अलावा पबजी मोबाइल और पबजी मोबाइल लाइट भी हैं.

जिन मोबाइल एप पर प्रतिबंध लगाये गये हैं, उनके साथ सुरक्षा, निगरानी और यूजरों की सूचनाओं की गोपनीयता से संबंधित दिक्कतें थीं. भारत ऐसे देशों में से है, जहां मोबाइल एप सर्वाधिक डाउनलोड किये जाते हैं. अब सरकार ने मेड इन इंडिया एप पर ध्यान केंद्रित करना शुरू कर दिया है.
रविशंकर प्रसाद, केंद्रीय दूरसंचार व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री

सरकार के फैसले का किया स्वागत

हम सरकार के इस कदम का स्वागत करते हैं. चीन की गलत हरकतों के खिलाफ यह महत्वपूर्ण कदम है. यह कदम देश की भावना को मजबूत करेगा. चीन के एप पर प्रतिबंध लगाना अनिवार्य था.
कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स

Posted By : Amitabh Kumar

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें