1. home Hindi News
  2. tech and auto
  3. google paid tribute to tefania mrcineanu on her 140th birth anniversary sbh

कौन थीं Ștefania Mărăcineanu? किस तरह से उन्होंने रेडियोएक्टिविटी की खोज करके बदलाव की शुरुआत की थी

Google ने Ștefania Mărăcineanu को उनके 140वीं जन्मदिन के मौके पर याद करते हुए उन्हे Doodle के रूप में दी श्रद्धांजलि.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Ștefania Mărăcineanu
Ștefania Mărăcineanu
Google

Google Doodle Today : गूगल ने 18 जून 2022 को अपने डूडल के जरिये Ștefania Mărăcineanu को उनके 140वें जन्मदिन पर उन्हें श्रद्धांजलि दी. आखिर कौन थीं Ștefania Mărăcineanu जो आज गूगल उन्हें इतने सालों बाद भी याद कर रहा है. आपको बता दें यह कोई आम स्त्री नहीं थी इन्होने, भूकंप और बरसात के बीच की कड़ी का अध्ययन किया था. Ștefania Mărăcineanu यह रिपोर्ट करने वाली पहली व्यक्ति बनी जिन्होंने बताया कि भूकंप के कारण उपरिकेंद्र में रेडियोएक्टिविटी में उल्लेखनीय बढ़त हुई है. तो चलिए इनसे जुड़ी और भी सभी बातों को विस्तार से जानते हैं.

कौन थीं Ștefania Mărăcineanu

Ștefania Mărăcineanu का जन्म 18 जून 1882 को हुआ था. उनका जन्म बुखारेस्ट में हुआ था, जो सेबस्टियन मिरसिनेनु और सेवस्तिया की बेटी थी. उन्होंने अपने पिता के शहर में रहकर सेंट्रल स्कूल फॉर गर्ल्स में अपने हाई स्कूल की पढाई पूरी की. 1907 में उन्होंने बुखारेस्ट विश्वविद्यालय में दाखिला लिया, 1910 में भौतिक और रासायनिक विज्ञान में डिग्री प्राप्त की. स्नातक स्तर की पढ़ाई के बाद, उन्होंने बुखारेस्ट, प्लोएस्टी, इयासी और कैम्पुलुंग के उच्च विद्यालयों में पढ़ाया. 1915 में उन्होंने बुखारेस्ट के सेंट्रल स्कूल फॉर गर्ल्स में एक शिक्षण पद हासिल किया. इस पद पर वह 1940 तक रहीं. 1919 में उन्होंने मैरी क्यूरी के साथ सोरबोन में रेडियोएक्टिविटी पर एक कोर्स किया. बाद में उन्होंने 1926 तक रेडियम संस्थान में क्यूरी के साथ शोध किया. उन्होंने अपनी PhD रेडियम संस्थान से की थी.उनकी थीसिस 23 जून, 1923 के फ्रेंच अकादमी के सत्र में जॉर्जेस अर्बेन द्वारा पढ़ी गई थी. संस्थान में Ștefania Mărăcineanu ने पोलोनियम के आधे जीवन पर शोध किया और अल्फा क्षय को मापने के तरीके तैयार किए.

Ștefania Mărăcineanu से जुड़ी कुछ रोचक बातें

पोलोनियम के आधे जीवन पर अपने शोध के दौरान, Mărăcineanu ने पाया कि आधा जीवन उस धातु के प्रकार पर निर्भर करता था जिस पर इसे रखा गया था. इससे उन्हें आश्चर्य हुआ कि क्या पोलोनियम से अल्फा किरणों ने धातु के कुछ परमाणुओं को रेडियोएक्टिविटी समस्थानिकों में स्थानांतरित कर दिया था. Mărăcineanu ने भौतिकी में अपनी PhD पूरी करने के लिए पेरिस के सोरबोन विश्वविद्यालय में दाखिला लिया, जो उन्होंने केवल दो वर्षों में अर्जित किया. मेडॉन में खगोलीय वेधशाला में चार साल तक काम करने के बाद, वह रोमानिया लौट आई और रेडियोएक्टिविटी के अध्ययन के लिए अपनी मातृभूमि की पहली प्रयोगशाला की स्थापना की. Mărăcineanu ने अपना अधिकतम समय कृत्रिम बारिश पर शोध करने के में समर्पित किया, जिसके दौरान उन्होंने परिणामों का परीक्षण करने के लिए अल्जीरिया की यात्रा भी की थी. उन्होंने भूकंप और बारिश के बीच की कड़ी का भी अध्ययन किया था. Ștefania Mărăcineanu यह रिपोर्ट करतने वाली पहली महिला बनीं जिन्होंने बताया कि भूकंप के कारण उपरिकेंद्र में रेडियोएक्टिविटी में उल्लेखनीय बढ़त हुई है.

1936 में मिली पहचान

1935 में मैरी क्यूरी की बेटी इरेन करी और उनके पति को कृत्रिम रेडियोएक्टिविटी की खोज के लिए संयुक्त नोबेल पुरस्कार मिला. Mărăcineanu नोबेल पुरस्कार के लिए चुनाव में खड़ी नहीं हुई , लेकिन उन्होंने यह जरूर कहा कि इस खोज में उनकी भूमिका को भी मान्यता दी जानी चाहिए. Mărăcineanu के काम को 1936 में रोमानिया की विज्ञान अकादमी द्वारा मान्यता दी गई थी. जहां, उन्हें अनुसंधान निदेशक के रूप में सेवा देने के लिए चुना गया था, लेकिन उन्हें इस खोज के लिए कभी भी वैश्विक मान्यता नहीं मिल सकी.

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें