1. home Hindi News
  2. tech and auto
  3. google analytics feature is being banned in many countries know what is the matter sbh

Google के इस फीचर को कई देशों में किया जा रहा है बैन, आखिर क्या है मामला

Google के Analtycs फीचर पर कई यूरोपियन देशों ने लगाया बैन, आखिर क्या है Google की गलती और कैसे Google खुद को बचाएगा बैन होने से. इन सभी बातों से जुड़ी जानकारी आज हम इस स्टोरी के माध्यम से आपको देने वाले हैं.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
google analytics ban
google analytics ban
fb

Google Analytics Ban: पिछले कुछ समय से Google पर अपने पावर का गलत इस्तेमाल करने का आरोप लगाया जा रहा था और यही वजह है कि Google European Union की रडार में आ चुका है. Google पर इसके मोबाइल फोन्स और सर्च इंजन का गलत इस्तेमाल करने का आरोप लगाया गया है. सामने आयी एक रिपोर्ट की मानें तो कई यूरोपियन देशों ने Google Analytics पर General Data Protection Regulation (GDPR) का उल्लंघन करने के लिए लिए इसकी आलोचना भी की गयी है. Google Analytics की ही प्रतियोगी कंपनी Simple Analytics ने अपने ब्लॉग की मदद से इस बात की जानकारी देते हुए बताया कि 3 यूरोपियन मेंबर देशों ने Google Analytics के इस्तेमाल पर रोक लगा दिया है.

इन यूरोपियन देशों ने लगाया Google Analytics पर रोक

रिपोर्ट्स की मानें तो Google Analytics सर्विस पर सबसे पहले फ्रांस के नेशनल कमिशन ऑन दी फ्रीडम ऑफ लिबरेशन ने फरवरी 2022 को इसपर रोक लगायी. जबकि,ऑस्ट्रिया के डेटा प्रोटेक्शन अथॉरिटी ने जनवरी से ही इसपर रोक लगाने की शुरुआत कर दी थी. इन दोनों देशों के बाद अब इटली ने भी Google Analytics को बैन करने की ठान ली है. इन तीनों ही देशों ने Google Analytics को बैन करने के पीछे एक ही कारण दिया है.

ये देश Google Analytics को जल्द करने वाले हैं बैन

रिपोर्ट्स की मानें तो इटली की सरकार ने Google Analytics पर बिना नियंत्रण के डेटा ट्रांसमिशन करने के लिए रोक लगाने की ठान ली है. यूरोपियन देशों की सरकार ने Google Analytics द्वारा बिना नियंत्रण के यूजर के निजी डेटा (IP Address) को सर्कुलेट करने की वजह से चिंता भी जताई है और यह भी बताया है कि इन सभी डेटा को US सरकार और थर्ड पार्टीज को बेची जा रही है. ऐसा करना EU देशों के GDPR का उल्लंघन माना जाता है. इस सिचुएशन को समझाने के लिए इटालियन सरकार ने Caffeina Media नाम के लोकल वेब सर्विस प्रोवाइडर का भी जिक्र किया है. 2020 में Court of Justice of the European Union ने एक निर्णय लिया तह और इसका नाम “Schrems II” रखा था. इस निर्णय के समय Google Analytics को देश में बैन करनेको लेकर कई तर्क दिए गए थे.

Google कैसे खुद को बचाने की कोशिश कर रहा है?

रिपोर्ट की मानें तो कई देशों की अथॉरिटीज ने Google के तरफ से दिए गए जवाबों और तर्कों को मानने से मना कर दिया है. रिपोर्ट में यह भी बताया गया कि Google के लिए यह परेशानी नहीं बनेगा अगर Google US गवर्नमेंट और थर्ड पार्टीज के साथ डेटा शेयर करने बंद कर दे तो.

Prabhat Khabar App :

देश, दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, टेक & ऑटो, क्रिकेट और राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें