1. home Hindi News
  2. tech and auto
  3. facebook to discontinue nearby friends and other location based features soon rjv

FaceBook यूजर्स अगले महीने से दोस्तों के साथ नहीं कर पाएंगे यह काम, देखें बंद हो रहे फीचर्स की लिस्ट

कंपनी ने यूजर्स को नियरबाय फ्रेंड्स फीचर और अन्य लोकेशन बेस्ड फीचर्स के बंद होने के बारे में सूचित करना शुरू कर दिया है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
facebook location features
facebook location features
fb/symbolic

Facebook to discontinue Nearby Friends: सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म फेसबुक पर 31 मई से कई यूनीक और काम के फीचर बंद होनेवाले हैं. इनमें फेसबुक का नियरबाय फ्रेंड्स फीचर भी शमिल है, जो लोगों को अन्य फेसबुक यूजर्स के साथ अपनी वर्तमान लोकेशन शेयर करने की सुविधा देता है. रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनी ने यूजर्स को नियरबाय फ्रेंड्स फीचर और अन्य लोकेशन बेस्ड फीचर्स के बंद होने के बारे में सूचित करना शुरू कर दिया है.

Facebook Nearby Friends क्या है?

नियरबाय फ्रेंड्स फंक्शनैलिटी यूजर्स को अपने फ्रेंड की रियल टाइम लोकेशन ट्रैक करने की अनुमति देता है. एक बार एनेबल होने पर यह फीचर यूजर्स को तब सूचित करता है, जब उनके फ्रेंड उनकी वर्तमान लोकेशन के नजदीक होते हैं. कंपनी ने यूजर्स को लोकेशन हिस्ट्री सहित अपना डेटा डाउनलोड करने के लिए इस साल एक अगस्त तक का समय दिया है, जिसके बाद इसे हटा दिया जाएगा. हालांकि, फेसबुक ने स्पष्ट किया है कि वह अन्य अनुभवों के लिए यूजर्स की लोकेशन की जानकारी जुटाना जारी रखेगा. यूजर्स को भेजे गये एक नोटिफिकेशन में कंपनी ने कहा कि यह फीचर जो यूजर्स को यह पता लगाने में मदद करता है कि कौन से फ्रेंड्स आस-पास हैं या यात्रा में हैं, अब 31 मई, 2022 से उपलब्ध नहीं होंगे.

नियरबाय फ्रेंड्स फीचर साल 2014 में आया था

फेसबुक ने 2014 में आइओएस और एंड्रॉयड दोनों प्लैटफॉर्म्स पर नियरबाय फ्रेंड्स फीचर को रोल करना शुरू किया था. ऑप्शनल फंक्शनैलिटी से यूजर को पता चलता है कि कौन से दोस्त आस-पास हैं या यात्रा पर हैं. एक बार जब यूजर नियरबाय फ्रेंड्स फीचर को ऑन कर देते हैं, तो उन्हें फ्रेंड्स के आस-पास होने पर सूचित किया जाता है, ताकि जरूरत पड़ने पर यूजर उनसे संपर्क कर सकें और मिल सकें.

फेसबुक के ये फीचर्स भी होनेवाले हैं बंद

नियरबाय फ्रेंड्स फीचर के अलावा फेसबुक कुछ और फीचर्स को भी बंद करने जा रहा है. इनमें मौसम अलर्ट, लोकेशन हिस्ट्री और बैकग्राउंड लोकेशन शामिल हैं. आपको बता दें कि ये सभी लोकेशन बेस्ड फंक्शंस हैं और ये प्लैटफॉर्म से गायब हो रहे हैं. कंपनी ने यूजर्स को लोकेशन हिस्ट्री समेत अपना डेटा डाउनलोड करने के लिए इस साल 1 अगस्त तक का समय दिया है. इसके बाद इसे हटा दिया जाएगा. हालांकि, फेसबुक ने यह साफ कर दिया है कि वह अन्य अनुभवों के लिए यूजर्स की लोकेशन की जानकारी जुटाना जारी रखेगा.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें