1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. yaas cyclone devastation in west bengal 30 ft tides at digha 51 dams broken flood in villages mtj

बंगाल में ‘यश’ की तबाही, दीघा में उठी 30 फुट ऊंची लहरें, मेदिनीपुर में 51 बांध टूटे, गांव-गांव में बाढ़

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
चक्रवाती तूफान के कारण समुद्र में उठी ऊंची-ऊंची लहरें
चक्रवाती तूफान के कारण समुद्र में उठी ऊंची-ऊंची लहरें
प्रभात खबर

कोलकाता : पश्चिम बंगाल में ‘यश’ चक्रवात ने जमकर तबाही मचायी. सुबह 9 बजे से ही यश के लैंडफॉल का असर पश्चिम बंगाल में दिखने लगा था. इस दौरान दक्षिण 24 परगना के काकद्वीप में कमर तक पानी भर गया. घरों और दुकानों में पानी घुस गया था. इससे जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया था.

ताजपुर में पानी का स्तर इतना बढ़ गया कि नारियल के पेड़ तक डूब गये. वहीं, पूर्वी मेदिनीपुर के दीघा में 30 फुट ऊंची लहरें उठीं. बंगाल के पर्यटकों के पसंदीदा सी बीच (सागर तट) में से एक मंदारमनी के कई होटलों में पानी घुस गया.

पूर्वी मेदिनीपुर और पश्चिमी मेदिनीपुर की बात करें, तो 51 बांध टूट गये, जिसकी वजह से आस-पास के इलाकों के गांवों में पानी घुस गया. लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाने के लिए इस बार पहले से सेना को अलर्ट रखा गया था. बुधवार (26 मई) को भी निचले इलाके के लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया.

यश चक्रवात से प्रभावित होने वाले संभावित 10 जिलों में सेना की 17 कंपनियां उतारी गयी थी. जहां भी जरूरत पड़ी, प्रशासन ने सेना की मदद ली और लोगों को सुरक्षित जगहों पर शिफ्ट किया. जगह-जगह रास्ते पर अनगिनत वृक्ष उखड़कर गिर गये थे. राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की टीमों ने तत्परता दिखाते हुए यहां राहत कार्य चलाया. सड़कों को क्लियर किया.

पूर्वी मेदिनीपुर के हल्दिया पोर्ट सिटी में कई घर डूब गये. बताया गया कि यश चक्रवात की वजह से हल्दिया नदी का पानी बेहिसाब बढ़ गया, जिसकी वजह से कई मकान जलमग्न हो गये. बताया गया है कि बेहला पुलिस स्टेशन के सामने सेना की टुकड़ी को स्टैंडबाय मोड में रखा गया था.

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, जो खुद सचिवालय नबान्न में बने कंट्रोल रूम से साइक्लोन यश पर नजर रख रही हैं, ने बताया कि सुबह 9 बजे से ही बंगाल में साइक्लोन यश का लैंडफॉल शुरू हो गया. उन्होंने कहा कि इसे पूरा होने में कम से कम तीन घंटे का वक्त लगेगा.

कोलकाता में फ्लाईओवर बंद

बहरहाल, राजधानी कोलकाता के तमाम फ्लाई ओवर को सुबह से ही बंद कर दिया गया था. फ्लाईओवर के दोनों छोर पर बैरिकेडिंग लगाकर यातायात को पूरी तरह से रोक दिया गया था. सुबह कोलकाता में 60 किलोमीटर की रफ्तार से हवाएं चलीं. बारिश हुई. बिजली भी गुल हो गयी.

दमदम एयरपोर्ट से उड़ानें बंद

चक्रवात यश के खतरे के मद्देनजर कोलकाता के दमदम स्थित नेताजी सुभाष चंद्र बोस अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर बुधवार को सुबह 8:30 बजे से शाम 7:45 तक उड़ानों का संचालन निरस्त कर दिया गया.

Posted By: Mithilesh Jha

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें