1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. nine assembly seats going to vote in fifth phase are red alert seats bengal chunav 2021 latest hindi news mtj

बंगाल चुनाव 2021: पांचवें चरण की 9 विधानसभा क्षेत्र को घोषित किया गया रेड अलर्ट

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Bengal Election Phase 5: चुनाव आयोग ने 9 सीट को घोषित किया रेड अलर्ट
Bengal Election Phase 5: चुनाव आयोग ने 9 सीट को घोषित किया रेड अलर्ट
प्रभात खबर ग्राफिक्स

कोलकाता : पश्चिम बंगाल में चार चरणों का चुनाव संपन्न हो चुका है. पांचवें चरण के चुनाव के लिए सभी राजनीतिक दलों के साथ-साथ चुनाव आयोग ने भी कमर कस ली है. इस चरण में 6 जिलों की कुल 45 सीटों पर मतदान होना है. इनमें से 9 विधानसभा क्षेत्रों को रेड अलर्ट विधानसभा घोषित किया गया है. द वेस्ट बंगाल इलेक्शव वॉच और एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) की रिपोर्ट से यह खुलासा हुआ है.

चुनाव आयोग ने जिन 9 विधानसभा सीटों को रेड अलर्ट विधानसभा घोषित किया है, उनमें सबसे ज्यादा 3 पूर्वी बर्दवान जिला में आते हैं. उत्तर बंगाल के दार्जीलिंग की 2 विधानसभा सीटों के अलावा जलपाईगुड़ी और कलिम्पोंग की एक-एक विधानसभा सीट को भी रेड अलर्ट विधानसभा करार दिया गया है. नदिया और उत्तर 24 परगना में भी एक-एक सीट को रेड अलर्ट विधानसभा क्षेत्र बताया गया है.

नदिया जिला के शांतिपुर, उत्तर 24 परगना जिला के कमरहट्टी, जलपाईगुड़ी के नागराकाटा (एसटी), दार्जीलिंग जिला के दार्जीलिंग एवं सिलीगुड़ी, कलिम्पोंग जिला के कलिम्पोंग, पूर्वी बर्दवान जिला के बर्दवान दक्षिण, बर्दवान उत्तर (एससी) और मेमारी को रेड अलर्ट विधानसभा क्षेत्र घोषित किया गया है. इन विधानसभा सीटों पर 3 या उससे अधिक उम्मीदवार ऐसे हैं, जिनके खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं.

नदिया के शांतिपुर, उत्तर 24 परगना के कमरहट्टी, जलपाईगुड़ी के नागराकाटा (एसटी) एवं दार्जीलिंग जिला की दार्जीलिंग विधानसभा सीट पर 4-4 कैंडिडेट्स पर क्रिमिनल केस दर्ज हैं. कलिम्पोंग, बर्दवान दक्षिण, बर्दवान उत्तर (एससी), सिलीगुड़ी और मेमारी में 3-3 उम्मीदवारों ने अपने खिलाफ आपराधिक मामलों की जानकारी चुनाव आयोग को हलफनामा में दी है.

शांतिपुर विधानसभा सीट के 7 उम्मीदवारों में भारतीय जनता पार्टी, कांग्रेस, जन संघ पार्टी, पूर्वांचल महापंचायत के उम्मीदवारों ने अपने खिलाफ आपराधिक मामलों की जानकारी दी है. कमरहट्टी में तृणमूल कांग्रेस, भाजपा, सीपीएम और एक निर्दलीय उम्मीदवार पर क्रिमिनल केस लंबित है. नागराकाटा (एसटी) सीट पर तृणमूल, भाजपा, निर्दलीय, प्रोग्रेसिव पीपुल्स पार्टी के उम्मीदवारों पर आपराधिक मामले लंबित हैं.

कलिम्पोंग में किसी बड़ी पार्टी के नेता पर क्रिमिनल केस नहीं

कलिम्पोंग एकमात्र सीट है, जहां राष्ट्रीय और क्षेत्रीय दलों के किसी उम्मीदवार पर आपराधिक मामला नहीं चल रहा है. इस सीट पर 3 ऐसे निर्दलीय उम्मीदवार हैं, जिनके खिलाफ आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं. ब्रदवान दक्षिण विधानसभा सीट पर तृणमूल, भाजपा, नेशनल रिपब्लिक पार्टी ऑफ इंडिया के उम्मीदवारों ने अपने-अपने खिलाफ आपराधिक मामलों की जानकारी दी है.

बर्दवान उत्तर (एससी), सिलीगुड़ी और मेमारी ऐसे विधानसभा क्षेत्र हैं, जहां तीन प्रमुख पार्टियों तृणमूल कांग्रेस, भाजपा और माकपा ने ही क्रिमिनल केस वाले उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है. कमरहट्टी और दार्जीलिंग में सबसे ज्यादा 9-9 उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं, जबकि कलिम्पोंग एवं बर्दवान दक्षिण में 8-8 प्रत्याशी अपना भाग्य आजमा रहे हैं.

शांतिपुर में 7, नागराकाटा (एसटी) एवं मेमारी में 6-6 और बर्दवान उत्तर (एससी) में सबसे कम 4 उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं. ज्ञात हो कि पांचवें चरण में बंगाल के 6 जिलों उत्तर 24 परगना, दार्जीलिंग, नदिया, पूर्वी बर्दवान, जलपाईगुड़ी और कलिम्पोंग की कुल 45 सीटों पर 17 अप्रैल को मतदान होना है. इस दिन उत्तर 24 परगना की 16, दार्जीलिंग की सभी 5, नदिया की 8, पूर्वी बर्दवान की 8, जलपाईगुड़ी की सभी 7 और कलिम्पोंग की एक सीट पर वोटिंग होगी.

किन सीटों को घोषित किया जाता है रेड अलर्ट

किसी भी राज्य की उस विधानसभा सीट को रेड अलर्ट सीट घोषित किया जाता है, जहां कम से कम 3 या उससे ज्यादा ऐसे उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे होते हैं, जिन पर आपराधिक और गंभीर आपराधिक मामले दर्ज होते हैं. यहां सुरक्षा के विशेष इंतजाम किये जाते हैं.

यहां बताना प्रासंगिक होगा कि बंगाल की 294 विधानसभा सीटों के लिए 27 मार्च से 29 अप्रैल के बीच 8 चरणों में चुनाव कराये जा रहे हैं. चार चरणों (27 मार्च, 1 अप्रैल, 6 अप्रैल और 10 अप्रैल) के मतदान संपन्न हो चुके हैं. शेष 4 चरणों की वोटिंग 17 अप्रैल, 22 अप्रैल, 26 अप्रैल और 29 अप्रैल को होगी. सभी सीटों पर मतगणना 2 मई को एक साथ करायी जायेगी. वर्ष 2011 के विधानसभा चुनाव में बंगाल में कुल 87.85 फीसदी वोटिंग हुई थी, जबकि वर्ष 2016 में 83.02 फीसदी लोगों ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था.

Posted By : Mithilesh Jha

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें