1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. farmer leader reached durgapur serious allegations leveled against central government plea not to vote for bjp in assembly elections

‍Bengal Election 2021: दुर्गापुर पहुंचे किसान नेता, केंद्र सरकार पर लगाए गंभीर आरोप, विधानसभा चुनाव में बीजेपी को वोट नहीं देने की अपील

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
दुर्गापुर पहुंचे किसान नेता, केंद्र सरकार पर लगाए गंभीर आरोप
दुर्गापुर पहुंचे किसान नेता, केंद्र सरकार पर लगाए गंभीर आरोप
Prabhat Khabar

दुर्गापुर (नेमाई दास) : पंजाब एवं सिंध बॉर्डर पर चल रहे किसान आंदोलन में शरीक किसान नेता सुच्चा सिंह खतरा और हरनेक सिंह मावी दुर्गापुर पहुंचे. उन्होंने कहा कि पंजाब में पिछले सौ दिनों से चल रही कृषि बिल के खिलाफ किसानो का आंदोलन जारी है , केंद्र में बैठी भारतीय जनता पार्टी किसानों के साथ बर्बरता कर रही है . भाजपा किसानों का कभी हितैषी नहीं हो सकती है. किसानों को दी जाने वाली एनपीएस सहित विभिन्न केंद्रीय योजना सब खोखला है.

उन्होने बताया कि दिल्ली में कृषि बिल सहित कृषि नीतियों के खिलाफ अभी तक आंदोलन चल रहा है. भाजपा के नेता दिल्ली से हटकर बंगाल के किसानों को बरगलाने के लिए बंगाल में घूम रहे हैं. बंगाल के किसानों को भाजपा का पूरी तरह से विरोध करना चाहिए. बंगाल में भाजपा को रोकना होगा. क्योंकि बंगाल में यदि भाजपा सरकार बना लेती है तो बंगाल के किसानों का हाल और भी बद्तर हो जाएगा.

बता दे कि नेता सूच्चा सिंह तीन सहयोगियों के साथ माकपा उम्मीदवार ओवैसी घोष से मिलने आसनसोल के जमुरिया पहुंचे थे. इसके बाद वहां से कृषक नेताओं का दल दुर्गापुर पहुंचा और संयुक्त मोर्चा के उम्मीदवार आभास राय चौधरी एवं देवेश चक्रवर्ती से मुलाकात कर उन्हें पंजाब के स्थिति से अवगत कराया.

सच्चा सुच्चा सिंह ने कहा कि बंगाल का विधानसभा चुनाव देश के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है, केंद्र में बैठी भ्रष्ट भारतीय जनता पार्टी दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन को छोड़कर बंगाल के किसानों को भ्रमित फैलने का प्रयास में है. बंगाल के किसानों को भाजपा के किसी भी बहकावे में नहीं पढ़ना चाहिए. ताज्जुब है कि बंगाल के किसान भाजपा के झूठे आश्वासनों के चक्कर में क्यों पड़ रहे हैं.

भाजपा से किसानों का कभी भला नहीं हो सकता है. भाजपा बंगाल में चुनाव के दौरान झूठा आश्वासन देकर किसानों में भ्रम फैला रही है. वही तृणमूल कांग्रेस के सुप्रीमो ममता बनर्जी के शासन में बंगाल के किसानों को कोई सुविधा नहीं मिली है. किसानों को तृणमूल पर भी अब विश्वास नहीं करना चाहिए. राज्य में मार्क्सवादी पार्टी ही एक ऐसी पार्टी है जिस के शासन में किसानों का भला हुआ था.

Posted By: Pawan Singh

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें