1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. education department seeks report from wbchse chairman mahua das on three percent fail students girl students protest in malda district mtj

WBCHSE Results 2021: 12वीं में 3 फीसदी विद्यार्थी फेल, महुआ से सरकार ने मांगी रिपोर्ट, सड़क पर उतरी छात्राएं

शिक्षा विभाग ने महुआ दास से इस पर रिपोर्ट देने के लिए कहा है. उधर, बांग्ला न्यूज चैनल में कहा गया है कि महुआ दास इस्तीफा दे सकती हैं.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
महुआ पर गिर सकती है गाज. मालदा में प्रिंसिपल को कमरे में बंद कर स्कूल में जड़ा ताला
महुआ पर गिर सकती है गाज. मालदा में प्रिंसिपल को कमरे में बंद कर स्कूल में जड़ा ताला
Prabhat Khabar

कोलकाता/मालदा: पश्चिम बंगाल उच्च माध्यमिक शिक्षा पर्षद (WBCHSE Results 2021) की ओर से जारी रिजल्ट में 12वीं के 3 फीसदी विद्यार्थी फेल हुए, तो इस पर शिक्षा विभाग ने उनसे जवाब तलब कर दिया. वहीं, मालदा जिला (Malda District) में फेल हुई छात्राओं ने विरोध दर्ज कराने के लिए रोड जाम कर दी. 12वीं की परीक्षा में टॉप करने वाली छात्रा का मजहब बताने की वजह से उच्च माध्यमिक शिक्षा पर्षद की अध्यक्ष महुआ दास (WBCHSE Chairman Mahua Das) पहले से ही आलोचना झेल रही हैं.

अब शिक्षा विभाग ने उनसे जुड़े मुद्दों पर कई निर्णय लिये हैं. परीक्षा में करीब तीन फीसदी छात्र-छात्राओं के फेल होने को लेकर उनसे जवाब तलब किया गया है. गुरुवार को उच्च माध्यमिक के परीक्षा परिणाम जारी होने के बाद से विवाद शुरू हो‌ गया था. शुक्रवार को इसने बड़ा आकार ले लिया, जब भाजपा नेताओं ने महुआ के बयान पर सवाल उठाने शुरू कर दिये.

बीरभूम, मुर्शिदाबाद, नदिया, हावड़ा सहित विभिन्न जिलों के स्कूलों के छात्र और अभिभावक भी इसके खिलाफ विरोध में शामिल हो गये. शनिवार दोपहर में शिक्षा विभाग ने महुआ दास से इस पर रिपोर्ट देने के लिए कहा है. उधर, बांग्ला न्यूज चैनल में कहा गया है कि महुआ दास इस्तीफा दे सकती हैं. हालांकि, इस संबंध में अभी तक किसी ने आधिकारिक रूप से कुछ भी नहीं कहा है.

छात्राओं ने प्रिंसिपल को कमरे में बंद करके स्कूल में जड़ दिया ताला

मालदा जिला में एक ही स्कूल की 88 छात्राएं फेल हो गयीं. इससे नाराज छात्राओं ने शनिवार को रोड को जाम करके अपना विरोध जताया. मालदा के बुलबुलचंदी आरएन रॉय गर्ल्स हाई स्कूल की छात्राओं ने शनिवार सुबह 11 बजे से हबीबपुर थाना बुलबुलचंदी मोड़ पर मालदा-नालागोला राज्य सड़क को जाम कर दिया और धरना दिया. छात्राओं ने स्कूल की कार्यवाहक प्रधानाध्यापिका को कक्षा में बंद कर दिया गया और स्कूल के गेट पर ताला लगा दिया गया.

विरोध कर रही छात्राओं ने कहा कि इस वर्ष स्कूल की 88 छात्राएं फेल हो गयी हैं. पिछले दिनों ये सभी छात्राएं अच्छे अंकों से उत्तीर्ण हुईं थीं. इन्होंने पूछा कि इतनी बड़ी चूक कैसे हो गयी. इसका पता लगाया जाना चाहिए. छात्राओं के रोड जाम करने की खबर मिलते ही हबीबपुर थाना की पुलिस मौके पर पहुंची और स्थिति को नियंत्रित किया. हालांकि, छात्राओं ने पुलिस के सामने भी जमकर नारेबाजी की. छात्राओं के आंदोलन की वजह से तीन घंटे तक सड़क जाम रही. इस दौरान मालदा-नालगोला स्टेट हाईवे पर वाहनों की लंबी-लंबी कतारें लग गयीं. ट्रैफिक पूरी तरह से अवरुद्ध हो गया.

एक स्कूल की 88 छात्राएं हो गयीं फेल

छात्राओं ने बताया कि इस वर्ष स्कूल के 176 लड़कियों ने हायर सेकेंड्री की परीक्षा दी थी. इनमें से 88 ही पास हुईं. कोरोना संक्रमण में हायर सेकेंड्री की परीक्षा नहीं हुई, लेकिन शिक्षा विभाग ने पिछली कक्षा के रिजल्ट के आधार पर रिजल्ट निकाला है. यही वजह है कि इस स्कूल की आधी छात्राएं इस बार फेल हो गयीं. इससे बुलबुलचंदी आरएन रॉय गर्ल्स हाई स्कूल की परीक्षार्थियों में रोष व्याप्त हो गया.

Posted By: Mithilesh Jha

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें